जिसके घर में श्राद्ध नहीं होता , वो जरूर सुनें

श्राद्ध की महिमा

छात्रों ने गाई श्राद्ध की महिमा

श्रद्धा के बल पर भी श्राद्ध होता है

हमेशा प्रभु का सुमिरन करो

पितरों का पिंडदान करने वाले दीर्घायु होते हैं

जिस घर में श्राद्ध नहीं होता वहां महान संतान उत्पन्न नहीं होते हैं

पितरों की तृप्ति से आपको लाभ

महा ऋषियों ने गाई श्राद्ध की महिमा

विष्णु पुराण ने बताया श्राद्ध का महत्व

मार्कंडेय पुराण में बताया साथ करना क्यों जरूरी है

TAG- संत आसाराम बापू, ॐ , ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, श्राद्ध, प्रभु, पितरों, संतान, महा ऋषियों, विष्णु पुराण, मार्कंडेय पुराण

भगवान कृष्ण भी महाभारत का युद्ध क्यों नहीं रोक पाए ?

महाभारत की कथा

जनमेजय ने वैशम्पायन से सुनी महाभारत की कथा

महाभारत अवश्यंभावी थी

श्री कृष्ण भी ना रोक पाए महाभारत

जनमेजय का तर-तीव्र प्रारब्ध

जनमेजय से हुआ पाप

जनमेजय ने ली संत वेदव्यास की शरण

महाबली भीम की कथा

वैशम्पायन ने किया प्राणशक्ति से चमत्कार

सत्संग और शास्त्र पे कभी शंका ना करो

TAG- संत आसाराम बापू, ॐ , ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, महाभारत, जनमेजय, वैशम्पायन, श्री कृष्ण, प्रारब्ध, संत वेदव्यास, महाबली भीम, प्राणशक्ति, चमत्कार, सत्संग, शास्त्र

मंत्र जाप से भाग्योदय और स्वास्थ्य लाभ

गुरु अर्जुन देव का सत्संग

भगवान के नाम का जप नहीं तो शरीर मुर्दा

संत रविदास का सत्संग

दादू दीन दयाल महाराज का सत्संग

सद्गुरु के प्रसाद से राम रस

1 करोड़ मंत्र जप से रजस् और तमस का नास

सपने में गुरु या संत के दर्शन यानी एक करोड़ जप

2 करोड़ जप से धन और कुटुम स्थान शुद्ध

2 करोड़ जप से पराक्रम स्थान शुद्ध और असाध्य कार्य संभव

चार करोड़ जप से मित्र स्थान शुद्ध

TAG- संत आसाराम बापू, ॐ , ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, गुरु अर्जुन देव, भगवान, शरीर, संत रविदास, दादू दीन दयाल महाराज, सद्गुरु, मंत्र जप, रजस्, तमस, कुटुम, पराक्रम, मित्र

श्रावणी पूर्णिमा सत्संग। ऐसे लोगों को 108 गालियाँ दी हैं भगवान श्री कृष्ण ने !

गार्गी ने किया याज्ञवल्क्य से प्रश्न?

आत्मा से बड़ा और कोई नहीं

सब कुछ बीत रहा है

बड़े में पहुंचने में उदार

जो छोटे में उलझा है वह है कृपाण

श्री कृष्ण का सत्संग

श्री कृष्ण सर्वव्यापक हैं

तुलसीदास जी का सत्संग

वैदिक भक्ति का महत्व

भगवान सच्चिदानंद

TAG- संत आसाराम बापू, ॐ , ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, गार्गी, याज्ञवल्क्य, आत्मा, उदार, कृपाण, श्री कृष्ण, तुलसीदास जी, वैदिक भक्ति, सच्चिदानंद, भगवान

प्रेम भक्ति ध्यान

परमात्मा संतो के द्वारा भक्तों का भरण पोषण करते हैं

वशिष्ठ जी ने दिया भगवान राम को सत्संग

श्री कृष्ण ने की ओंकार की धुन से प्रेम की वर्षा

प्रेम के समान कोई पंत नहीं

संतो की महफिल, भगवान के प्यारों की महफिल

संत की वाणी सत्संग होती है

प्रभु एक ही सत्ता

नानक जी का सत्संग

संत शरण में मिलती है शांति

सत्संग का पुण्य सबसे बड़ा पुण्य

TAG- संत आसाराम बापू, ॐ , ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, परमात्मा, वशिष्ठ जी, भगवान राम, श्री कृष्ण, प्रेम, संतो की महफिल, नानक जी, शांति

पद्मा एकादशी व्रत कथा

पद्मा एकादशी का महत्व

अकाल की परिस्थिति को पलट सकता है पद्मा एकादशी का व्रत

राजा मांधाता की कहानी

राजा मांधाता का कुशल प्रजा पालन

राजा मांधाता के जीवन में आया कष्ट

राजा युधिष्ठिर ने श्रीकृष्ण से पूछा एक प्रश्न?

भगवान नारद ने पूछा भगवान ब्रह्मा से एक प्रश्न?

राजा मांधाता ने ली संत शरण

ऋषि अंगिरा ने दी राजा मांधाता को पद्मा एकादशी का व्रत करने की सलाह

पद्मा एकादशी का व्रत कर राजा मांधाता ने कराई राज्य में वर्षा

TAG- संत आसाराम बापू, ॐ , ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, पद्मा एकादशी, अकाल, राजा मांधाता, राजा युधिष्ठिर, श्रीकृष्ण, भगवान नारद, भगवान ब्रह्मा, संत शरण, ऋषि अंगिरा

यह भूल गुरु के द्वार पर ही निकलती है .. !

रामायण को ध्यान से पढ़ना पड़ता है

भौतिक वासना से बचे

आध्यात्मिक रूचि वाले लोगों का संघ

संत जनों के चरणों में जाओ

योग: कर्मसु कौशलम्

साधक मुख्य वृद्धि ब्रह्म में लगा है

भगवत प्राप्ति कठिन नहीं है

समय का सदुपयोग

मृत्यु के समय कोई साथ नहीं देगा

वासुदेव सर्वं इति

TAG- संत आसाराम बापू, ॐ , ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, रामायण, भौतिक वासना, आध्यात्मिक, योग: , साधक, समय, मृत्यु, वासुदेव

अध्यात्म क्या है ?

हरि सम जग कछु वस्तु नहीं

सद्गुरु सम सज्जन नहीं

हरि- सब पाप ताप हर ले

सब कुछ हरि

हरि अध्यात्म तत्व

आपके जीवन में 3 धाराएं

अंतःकरण की संपूर्ण से शरीर चलता है

सब बदलता है

हमारा आत्मदेव महाकाल के साथ जुड़ा हुआ है

आत्मा अकाल है

TAG- संत आसाराम बापू, ॐ , ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, हरि, सद्गुरु, अध्यात्म, जीवन, अंतःकरण, आत्मदेव, महाकाल, अकाल

ॐ ॐ प्रभुजी ॐ | मधुमय ध्यान

सर्वत्र व्याप्त रहा है परब्रह्म परमात्मा

परमेश्वर सबका साक्षी

ओंकार मंत्र सब कुछ देने वाला है

ॐ के अलावा और कुछ नहीं सभी ॐ

वासना और अहम को खत्म करना है

अनेक रुप में ॐ

ॐ परमेश्वराय नमः

सब आत्मा स्वरुप

ओंकार शांत स्वरूप

ओंकार स्वरूप चैतन्य परमात्मा

TAG- संत आसाराम बापू, ॐ , ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, सर्वत्र, परब्रह्म परमात्मा, ओंकार, वासना, अहम, शांत, आत्मा

भगवान आसाराम बापू कौन सी घुट्टी पिलाते हैं , अपने भक्तों को ?

अहंकार विनाश का कारण

प्रेम बहुत उदार

प्रेम और सद्भाव लो और दो

भगवान श्री कृष्ण ने उद्धव को दिया ज्ञान

प्रेमी के जीवन में नित्य नवीन रस

वासुदेव सर्वं इति

कौन अपना, कौन पराया

आत्मा से कभी नहीं बिछड़ सकते

संसार और शरीर को सदा रख नहीं सकते

मनुष्य की मांग है आत्मा परमात्मा का सुख

TAG- संत आसाराम बापू, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, अहंकार, विनाश, प्रेम, सद्भाव, भगवान श्री कृष्ण, उद्धव, रस, वासुदेव, आत्मा, संसार, शरीर, मनुष्य