उत्तम साधन

एक नित्य वस्तु है और एक अनित्य वस्तु

नित्य के स्वभाव को जानो

अनित्य से ममता और शक्ति आ सकती आ सकती छोड़कर उसका सदुपयोग करो

वैभव शाश्वत नहीं है और हम हर दिन मृत्यु की तरफ आगे बढ़ रहे हैं

अपना राम चैतन्य नित्य

राम रोम रोम में बसा हुआ है

सुख-दुख नश्वर है आत्मा शाश्वत है

भगवान का स्वभाव जानो

नारायण स्तुति का पाठ करो

ॐ अनंत ब्रह्मांड में व्याप्त रहा है

TAG- संत आसाराम बापू, भगवान, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, सनातन धर्म, उत्तम साधन, नित्य, अनित्य, स्वभाव, ममता, वैभव, मृत्यु, राम चैतन्य नित्य, सुख-दुख,  नारायण स्तुति, अनंत ब्रह्मांड

ॐ #MereBapuNirdoshHain #ISupportAsaramBapu #AsaramBapu #SelflessServicesByBapuji #Bapuji #AsaramBapujiIsFramed #SantShriAsharamjiBapu #Satsang