उत्तरायण दक्षिणायन के मध्य में क्या ?

उत्तरायण पर्व का महत्व

वशिष्ठ जी ने जो सत्संग भगवान राम को दिया वही सत्संग आपको भगवान आसाराम बापू द्वारा मिल मिल रहा है

वशिष्ठ जी और भगवान राम का संदर्भ

आत्म साक्षात्कार को जीवन का परम लक्ष्य बनाओ

जन्म मरण के दुख से पार लगाता है आत्मसाक्षात्कार

आत्म साक्षात्कार करना कठिन नहीं

आत्मा सभी सुखों का मूल्य

आत्मज्ञान से ह्रदय शीतल

सदा संतो के संग से होता है आत्म साक्षात्कार

प्रभु लीलाशाह जी महाराज ने दिखाया भगवान आसाराम बापू को आत्म साक्षात्कार का रास्ता

TAG- संत आसाराम बापू, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, उत्तरायण पर्व, वशिष्ठ जी, भगवान राम, सुखों, ह्रदय, प्रभु लीलाशाह जी, रास्ता