उमा राम सुभाउ जेहिं जाना

संसार नाशवान है

भूलकर भी उन खुशियों से ना खेलना जिनके पीछे हो गम की कतारें

भगवान शिव जी के वचन

जगत के स्वभाव को जानोगे तो आपको वैराग्य आएगा

भगवान के स्वभाव को जानोगे तो आपको प्रीति हो जाएगी

संसार दुख देने वाला है

शरीर को मैं मानना ही सबसे बड़ी भूल

किसी की निंदा ना करो

मौत को मोक्ष में बदलने की कला सीख लो

भगवान हमेशा हाजरा हजूर

TAG- संत आसाराम बापू, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, संसार, भगवान शिव, स्वभाव, दुख, शरीर, निंदा, मौत, मोक्ष