गुरु की पूजा हम क्यों करते हैं ?

व्यास पूर्णिमा का महत्व

श्रीमद् भागवत – एक महापुराण

व्यास जी के सिद्धांत से प्राणी मात्र का कल्याण

आत्मा ही ज्ञान स्वरूप

मैं व्यापक हूं

गुरु की पूजा ज्ञान की पूजा

गुरु चैतन्य है

गुरु का वैभव लोक लोकांतर में फैला

अंतरात्मा से बना के रखो

आत्म साक्षात्कार- जीवन का परम उद्देश्य

TAG- संत आसाराम बापू, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, व्यास पूर्णिमा, श्रीमद् भागवत, व्यास जी, आत्मा, व्यापक, गुरु, अंतरात्मा