गुरु सानिध्य की वो दुर्लभ घड़ियाँ !

गुरु एक तेरा सहारा काफी है

दुनिया के सारे सहारे छूट है

गुरु का सहारा कापी है

नश्वर शरीर को कब तक संभालेगा

अपने आप में विश्रांति

भगवान आपको सद्बुद्धि दे

सत्यम सरनम गाचामी

सत्य का प्रकाश देने वाले प्रभु को प्रणाम

गुरु का महत्व क्या है ?

अंतर्यात्रा में गुरु की जरूरत

Tag- संत आसाराम बापू, ब्रम्ह ज्ञानी, गुरु, दुनिया, शरीर, विश्रांति, भगवान, सत्य, प्रकाश, अंतर्यात्रा