चंचलता मिटाने के उपाय

शरीर में सात केंद्र

हिंदू विधि से जीवन जीने से मनुष्य महान बनता है

सद्गुण अपने में मानने से अभिमान आता है

दुर्गुण अपने में मानने से स्थाई होते हैं

जीवन से अभिमान और दुर्गुणों को हटाओ

मन को एकाग्र करो

भजन के रस में लग जाओ

ईश्वर प्राप्ति का संकल्प करें

बाहर का सुख अंदर भरने में कंगालीयत है

अंदर के सुख को बाहर बांटना शहंशाह यत है

Tag – संत आसाराम बापू, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, शरीर, हिंदू विधि, महान, सद्गुण, अभिमान, दुर्गुणों, मन, भजन, कंगालीयत, शहंशाह