दुर्बल मन को विषयों से बचाने की युक्ति

बद्रीनाथ के दर्शन करने से पुण्य मिलता है

मूर्ति के दर्शन से अच्छा है संत दर्शन करना उसे परम लाभ मिलेगा

संत दर्शन से विशेष लाभ

संसार का कोई साथ नहीं है

विषयों का सुख क्षणभंगुर है

हरि कीर्तन करना जीवन में बहुत जरूरी

मनुष्य का मन रस चाहता है

3 घंटे रोज जप करें

3 घंटे रोज योग वशिष्ठ रामायण पढ़े

आज्ञा पालन करने जैसा कोई सेवा नहीं है

TAG- संत आसाराम बापू, भगवान, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, सनातन धर्म, दुर्बल मन, विषयों, बद्रीनाथ, मूर्ति, संसार, सुख, हरि कीर्तन, मन, जप, योग वशिष्ठ रामायण, आज्ञा पालन

ॐ #MereBapuNirdoshHain #ISupportAsaramBapu #AsaramBapu #SelflessServicesByBapuji #Bapuji #AsaramBapujiIsFramed #SantShriAsharamjiBapu #Satsang