ध्यान के इस प्रयोग से भाग्य के कुअंक मिटने लगेंगे !

आरती से सात्विक वातावरण होता है

मैं भगवान का हूं और भगवान मेरे हैं

संसार का आधार स्वरूप परमात्मा है

ओमकार का उच्चारण करो

हरि ओम का उच्चारण करने से जीवन शक्ति बढ़ती है

भगवत विश्रांति में ही असली सुख

संत तुलसीदास जी का सत्संग

भगवान के नाम का जप से बुराइयां मिटती है

एक वही परमात्मा

सभी सुख के लिए जीते हैं

Tag – संत आसाराम बापू, भगवान, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, आरती, संसार, हरि ओम, भगवत विश्रांति, संत तुलसीदास, परमात्मा, सुख