परमात्मा का माधुर्य

सदैव प्रसन्न चित्त रहना चाहिए

सभी मनुष्यों में मधुरता

पूरे ब्रह्मांड में मधुमेह परमात्मा

मधुमेह सृष्टि द्वेष से विश्व मई हो जाती है

सत गुरु ही ब्रह्मा विष्णु और महेश है

इच्छापूर्ति से संसार में फसने वाला सुख

मन एकाग्र करो

सब छूट जाएगा

संसार नाशवान है

सारे सुख भोग के पीछे दुख और वियोग हैं

TAG- संत आसाराम बापू, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, प्रसन्न चित्त, मनुष्यों, मधुरता, ब्रह्मांड, सृष्टि, द्वेष, ब्रह्मा विष्णु और महेश, इच्छापूर्ति, मन, सुख