प्रकृति के तीन सिद्धांत

वासुदेव सर्वम् इति

आत्मा ब्रह्म स्वरूप है

अपना कर्तव्य पूरी तत्परता से समय पर पूरा करो

योगी समाज को साधना से जोड़ने की कोशिश करते हैं

संत कबीर जी का सत्संग

सदा समाधि संत की

ज्ञान के बिना पतन पक्का है मनुष्य का

ज्ञान संयुक्त तब करो

बुरी आदतों से बचो

अभ्यास योग से युक्त होना चाहिए

Tag – संत आसाराम बापू, भगवान, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, वासुदेव, आत्मा, कर्तव्य, योगी, संत कबीर, समाधि, ज्ञान, बुरी आदत, अभ्यास