मैं क्या करूं

जीवन सुखमय कैसे हो

ज्ञान का आश्रय लो

किसी से ईर्ष्या ना करो

किसी से धोखा ना करो

समय की धारा में सब ठीक हो जाता है

सूर्य देव की पूजा करो

अपने स्वभाव में स्थित हो

परमेश्वर सबका पोशाक

सभी ब्रह्म

किसी से राग द्वेष ना करो

Tag – संत आसाराम बापू, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, सुखमय, ज्ञान, आश्रय, ईर्ष्या, धोखा, समय, सूर्य देव, स्वभाव, परमेश्वर, ब्रह्म, राग द्वेष