यह भूल गुरु के द्वार पर ही निकलती है .. !

रामायण को ध्यान से पढ़ना पड़ता है

भौतिक वासना से बचे

आध्यात्मिक रूचि वाले लोगों का संघ

संत जनों के चरणों में जाओ

योग: कर्मसु कौशलम्

साधक मुख्य वृद्धि ब्रह्म में लगा है

भगवत प्राप्ति कठिन नहीं है

समय का सदुपयोग

मृत्यु के समय कोई साथ नहीं देगा

वासुदेव सर्वं इति

TAG- संत आसाराम बापू, ॐ , ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, रामायण, भौतिक वासना, आध्यात्मिक, योग: , साधक, समय, मृत्यु, वासुदेव