शास्त्रों और संतों का संग

वशिष्ठ जी ने दिया भगवान राम को सत्संग

संतो का संग नहीं किया तो विनाश पक्का

पुरुषार्थ से संपदा आती है

संयम से संपदा टिकती है

परोपकार से यश बढ़ता है

मन और इंद्रियों को शास्त्रों और संतों के अनुसार रखना

संतों और शास्त्रों के संग से राग द्वेष का नाश होता है

संसार नाशवान है

इच्छा और वासना ही जन्म और मरण का कारण

हमेशा आनंद में रहो

TAG- संत आसाराम बापू, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, वशिष्ठ जी, भगवान राम, पुरुषार्थ, संयम, परोपकार, मन, इंद्रियों, शास्त्रों, संसार, नाशवान, इच्छा, वासना, आनंद