शिवरात्रि के दिन क्या करें?

आत्मा शिव में शांत हो

बाहर के तीर्थ कि मनुष्य को कोई जरूरत नहीं अपने आप को जानो

शिव जी का सत्संग

ध्यान जैसा कोई यज्ञ, तप, व्रत, दान, तीर्थ नहीं है

ध्यान में जीव आत्मा से परमात्मा एक हो जाता है

ध्यान में काम, क्रोध, लोभ, मोह, अहंकार सब नष्ट हो जाते हैं

ध्यान किए हुए योगी का चित जन्म मरण के काबिल नहीं होता

शिवरात्रि के दिन आपको तिल का उपयोग करना चाहिए इससे पुण्य मिलता है

शिवरात्रि के दिन तिल का बहुत महत्व है

सतगुरु मिले अनंत फल

TAG- संत आसाराम बापू, भगवान, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, सनातन धर्म, महाशिवरात्रि, आत्मा शिव, शांत, तीर्थ, शिव जी, ध्यान, यज्ञ, तप, व्रत, दान, तीर्थ, जीव आत्मा, काम, क्रोध, लोभ, मोह, अहंकार, नष्ट, योगी, जन्म, मरण, चित, तिल, पुण्य

ॐ #MereBapuNirdoshHain #ISupportAsaramBapu #AsaramBapu #SelflessServicesByBapuji #Bapuji #AsaramBapujiIsFramed #SantShriAsharamjiBapu #Satsang