शिष्य पर गुरु का विश्वास

गुरु की कृपा का आश्रय छोड़कर कहाँ जाएंगे ?

सतगुरु हमारा, जिन राग द्वेष त्यागा

पवित्र तन रखो पवित्र मन रखो

समय की बारबादी अपनी बारबादी

हम सर्वव्यापक

कभी साथ ना छोड़े ऐसी आत्मा

गोरा कुम्हार का जीवन

मानव जीवन का लक्ष्य ईश्वर प्राप्ति

विपरीत परिस्थिति में भी सही सोचो

कृष्ण-सुदामा की मित्रता

Tag- संत आसाराम बापू, ब्रम्ह ज्ञानी, सतगुरु, पवित्र तन, पवित्र मन, समय, सर्वव्यापक, आत्मा, गोरा कुम्हार, ईश्वर प्राप्ति, कृष्ण-सुदामा, मित्रता