श्रावणी पूर्णिमा सत्संग। ऐसे लोगों को 108 गालियाँ दी हैं भगवान श्री कृष्ण ने !

गार्गी ने किया याज्ञवल्क्य से प्रश्न?

आत्मा से बड़ा और कोई नहीं

सब कुछ बीत रहा है

बड़े में पहुंचने में उदार

जो छोटे में उलझा है वह है कृपाण

श्री कृष्ण का सत्संग

श्री कृष्ण सर्वव्यापक हैं

तुलसीदास जी का सत्संग

वैदिक भक्ति का महत्व

भगवान सच्चिदानंद

TAG- संत आसाराम बापू, ॐ , ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, गार्गी, याज्ञवल्क्य, आत्मा, उदार, कृपाण, श्री कृष्ण, तुलसीदास जी, वैदिक भक्ति, सच्चिदानंद, भगवान