संतो का संग

अभ्यास से सब कुछ पाया जा सकता है

नश्वरता का अभ्यास अंत में दुख देगा

नश्वर अभ्यास अंत में छूट जाएगा

शाश्वत के लिए अभ्यास करना बुद्धिमानी है

सारे काम आत्मा सत्ता से होते हैं

सब कुछ ब्रह्म हैं

संसार की जो आ सकती करते हैं वह दुख को प्राप्त होते हैं

महापुरुषों की कद्र करो

मन से पार होना है

सेवा काम में निष्काम कर्म

TAG- संत आसाराम बापू, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, अभ्यास, नश्वरता, शाश्वत, आत्मा, ब्रह्म, संसार, महापुरुषों, मन, सेवा