संसार से अलग और ईश्वर से एकता

संसार से अलग हुए बिना संसार का ज्ञान नहीं हो सकता

भगवान में विश्वास पाए बिना भगवान का ज्ञान नहीं हो सकता

भगवान से एकाकार होने का निश्चय बनाओ

संसार का व्यवहार द्वैत में ही संभव है

जीवात्मा अनेक है, परमात्मा एक है

संसार नाशवान है सब कुछ बदल रहा है

मैं कभी नहीं मरता सिर्फ शरीर मरता है

अति  कामी व्यक्ति का पतन होता है

माया के कारण जीवात्मा 84 लाख जन्मों में भटकता है

निर्भय नारायण के सुख में एकाकार होने का अनुभव करो यही हिंदू धर्म के शास्त्र और वेद कहते हैं

TAG- संत आसाराम बापू, भगवान, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, सनातन धर्म, संसार, ज्ञान, एकाकार, द्वैत, जीवात्मा, संसार, शरीर, कामी व्यक्ति, पतन, माया, 84 लाख जन्मों, निर्भय नारायण, शास्त्र, वेद

ॐ #MereBapuNirdoshHain #ISupportAsaramBapu #AsaramBapu #SelflessServicesByBapuji #Bapuji #AsaramBapujiIsFramed #SantShriAsharamjiBapu #Satsang