सबसे सुलभ क्या है

संसार को देखने के लिए संसार की चीज चाहिए

परमात्मा अपने आप से जाने जाते हैं

परमात्मा अनंत ब्रह्मांड में व्याप्त हैं

तात्विक नजर से संत और भगवान को देखें

सब कुछ ईश्वर के लिए करो

ईश्वर प्राप्ति से सारे कर्म बंधन खत्म

आत्म देव बहुत निकट

परमात्मा सब के अंदर

आत्म देव के आत्म साक्षात्कार से परम आनंद

आत्मज्ञान का कोई शत्रु नहीं हो सकता

TAG- संत आसाराम बापू, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, संसार, तात्विक सत्संग, आत्म देव, शत्रु