साधकों के प्रश्न – बापूजी के उत्तर

https://youtu.be/7Z0Khzn2mz0

जीव चैतन्य से अलग नही

सब ब्रम्हा

भगवन की भक्ति कैसे करे

ईश्वर प्राप्ति ही परम लक्ष्य

कर्ता का अंत

ब्रह्म को आचरण में समाविष्ट करना

पहले इश्वर प्राप्ति फिर संसार

संसार में रहकर ईश्वर प्राप्ति संभव

ब्रह्मचर्य- मुक्ति का रहास्य

मौन व्रत – उत्तम व्रत

सबका मंगल, सबका भला

TAG – संत आसाराम बापू, ब्रम्ह ज्ञानी, जीव, चैतन्य, ब्रम्हा, भगवन, भक्ति, कर्ता, ईश्वर प्राप्ति, संसार, ब्रह्मचर्य, मौन व्रत