आध्यात्म कुम्भ का अर्थ

Kumbhamela_2
इस सत्संग के मुख्य बिंदु इस प्रकार हैं :

१. त्रिवेणी में ज्ञान गुप्त है- जैसे सत्संग में |
२. भक्ति, ज्ञान, आत्मिक सरस्वती का रस एक साथ होना चाहिए |
३. एकाग्रता के लिए कुछ उपाय |
४. सत्यवत गाँव के ब्रह्मतपा के अपमान की कथा |
५. सारे सत्वगुण तीर्थ हैं |
६. तीर्थो का फल ये है के अन्तर्यामी में ले जाने वाले संत मिले |
७. भजन का क्या मतलब है |
८. आध्यात्म कुम्भ का अर्थ |
९. ॐ कार की उपसना का प्रयोग |
१०. तुलसी गोली के फायदे |
११. जोगी रे – भजन |
१२. आरती – ज्योत सेज्योत जगाओ