अहं को भगाने की अनोखी लीला – (बापूजी की लीला – १)

अहं को भगाने की अनोखी लीला

1222 (1)
वो करमंडल लेके गये, जाने में बड़े संकोच हुये | भीक कैसे माँगे, क्योंकि ब्राम्हण तो शरीर नहीं है | जाये न जाये क्या भिक्षा तो माँगनी चाहिए | अपना खाता तो अब चलो तो लगभग पवने-दो, दो बजे होंगे | सिंधी कॉलोनी है ढीसा तो देखा किसी के बरामहे से धुवाँ आ रहा है | जा के खड़ा हुआ वो माई भी बिचारी कोई गरीब रही, तो किसीसे उधार आटा माँग के ले आयी | मेरे को पता नहीं था | वो फुलका फुला था गुबारे जैसा, लोहे के तवे पर; आजकल तवे जो आते वो हैं ना और मटेरियल भी बेकार है लोहे की तवे पर ही रोटी होनी चाहिए | हमारे पास भी दूसरा तवा था वो बदला दिया लोहे की तवे पर की रोटी फायदा करती है | लोहतत्त्व आता है, स्वास्थ्य के लिए चाहिए | वो रोटी अच्छी गुबारे जैसी फूली हुई थी, फुलका बोलते है ना फुलका … मैं बोला नारायण हरि…. वो माई को पता नहीं था की ये सिंधी भाषा जानते है | माई ने सिंधी भाषा में सुनाई गाली | इतना हट्टाकट्टा बुवा लाल टमाटे जैसा शरम भी नहीं आती | पिन्नड नित्तु आयी जय हलुमा हल | अपने मन को बोला देखा साधू बोलने का मजा नहीं | मान-अपमान ऐसा होना चाहिए देख लें | अच्छा तो नहीं लगे उस समय लेकिन फिर तुरंत विचार करके, वो माई तो दिया नहीं वरना तो क्या भिक्षुक रहेगा क्या ? आगे निकले आये की लीलाशाह बापू की कुटियाँ में जो रहते है वही है | अरे.. महाराज ईधर आ जावो जरा .. है किसीने कुछ, किसीने कुछ पूरा कमंडलु भर गया | दो-तीन बर्तन नहीं रखे इसीमे डालता हूँ | रास्ते में भीक मंगो देते देते जीता बचा वो खाया और दुसरे दिन जब जाये तो सारी सिंधी कॉलोनी कोई खीर ले आवे, कोई पूरी ले आवे, कोई मालपुवा, कोई कुछ वही करमंडल भर दिया | भीक मंगो को भी चसका लगा | मैं गया तो झंजट बड गया | दो-चार ये धंदा किया नहीं तो और मुसीबत बड़ी जाती | इतने में तो लोकों ने गुरूजी को फोन-बीन किये की हम आपके शिष्य और हमारा गुरुभाई भिक्षा माँगे, हमारी इज्जत का सवाल है | गुरूजी देख के क्या जबाव दिया … अरे होशियार है और भी होयेगा | मैं कहाँ वा रे ,, गुरुदेव ! हो ही गया होशियार … वो जो करता है वो ठीक करता है | होशियार है और भी होयेगा … हे भिक्षा माँगना भी तेरे ही कृपा है | गुरु का वरदान हो गया फिर भी मैं होशियार हो गया | होशियार आहे और भी होगा ये शब्द नहीं डाला था गुरूजी ने होशियार आहे होगा |

Listen Audio:
Download Audio