Author Archives: Nakul Taunk

बापू के ऐसे आश्रमवासी और साधक चिन्मय सुख के अधिकारी हैं

ईश्वर प्राप्ति का इरादा पक्का

जहाँ चाह वहाँ राह

असम्भव कुछ भी नहीं

ईश्वर प्राप्ति के लिए संसारी चीजो की जरुरत नही

संसार से इंद्रियां सुख, मनुष्य को बनाएंगे भोगी

ईश्वर और संतो से चिन्मे सुख, मनुष्य को बनाएंगे योगी

नितय नवीन सुख का अनुभव

पाप से हृदय तपन

भगवान नारायण के दो हृदय -वैकुंठ और ब्राह्मणानी का हृदय

अपने साथ अन्याय ना करो, संतों की शरण जाओ

Tag- संत आसाराम बापू, ब्रम्ह ज्ञानी, ईश्वर, इंद्रियां, भगवान नारायण, अन्याय, हृदय, नितय नवीन सुख

संत परम स्वतंत्र होते हैं !

कब तक संसार का साथ

नाशवान संसार

बिन ज्ञान – जनम और मरन

योग वशिष्ठ महारामायण- मोक्ष का द्वार

योग वशिष्ठ महारामायण- एक महान धर्म ग्रंथ

वशिष्ठ जी महाराज का जीवन

संसार छोड़ो, अपने आप से मिलो

देवरहा बाबा का जीवन

इंदिरा गांधी ने किया देवरहा बाबा के दर्शन

संतो के हुक्म से चलती है दुनिया

Tag- संत आसाराम बापू, ब्रम्ह ज्ञानी, संसार, ज्ञान, जनम, मरन, योग वशिष्ठ महारामायण, मोक्ष, वशिष्ठ जी महाराज, देवरहा बाबा, संत

3 दिन में हो सकता है साक्षात्कार

https://www.youtube.com/watch?v=xYnqRgH-xFI&feature=youtu.be

 

स्वामी रामतीर्थ जीवन और दर्शन

चित में आत्म प्रकाश

परहित के लिए काम, हृदय में शांति और आनंद का आगामान

अति उत्तम साधक को 3 में ईश्वर प्राप्ति

सहन शक्ति पृथ्वी की नाय

सुनम जेसे सौराभ

सूर्य जेसा प्रकाश

शेर जेसी निर्भिकाता

गुरुवो जैसे उदारता

आकाश जेसी व्याप्तता

संसार से तड़प

TAG – संत आसाराम बापू, ब्रम्ह ज्ञानी, स्वामी रामतीर्थ, चित, परहित, शांति और आनंद, ईश्वर प्राप्ति, सहन शक्ति, सुनम, सूर्य, शेर, गुरुवो, आकाश, संसार

आपका उद्देश्य क्या है ?

https://www.youtube.com/watch?v=fTC-w2S5NV0

 

भगवान हरि का नाम लेने से मंगल

‘ईश्वर की प्राप्ति’ ही ‘मानव जीवन’ का है ‘परम लक्ष्य’

ईश्वर प्राप्ति के सभी दुखो से मुक्ति

अनुकूलता और प्रतिकूलता प्रकृति का स्वभाव

आत्म सुख ही परम सुख

सत्संग से ही परम सुख

आत्मा अमर है

राग द्वेष ही सभी दुख का कारण

उद्देश्य है सब दुखो से मुक्ति

तुलसीदास के जीवन का किस्सा

TAG – संत आसाराम बापू, ब्रम्ह ज्ञानी, भगवान हरि, ईश्वर की प्राप्ति, अनुकूलता, प्रतिकूलता, आत्म सुख, सत्संग, राग द्वेष, तुलसीदास

शिष्य परम सौभाग्यशाली कब हुआ ?

https://www.youtube.com/watch?v=nFkDOEnVPSM

भगवान वेद व्यास जी

भगवान भक्त पर कृपा करते हैं

गुरु का पूजन

सतगुरु ही सच्चिदानंद परमात्मा

संसार सपना सिर्फ परमात्मा अपना

स्वामी विवेकानंद की जिवनी

ध्यान मुलम गुरु मूर्ति

वामन पंडित की जिवनी

गुरु का अधिकार भगवान से भी बड़ा

गुरु कृपा ही केवलम शिष्य परम मंगलम

TAG – संत आसाराम बापू, ब्रम्ह ज्ञानी, वेद व्यासजी, भगवान, भक्त, गुरु, सतगुरु, सच्चिदानंद, परमात्मा, संसार, स्वामी विवेकानंद, ध्यान, वामन पंडित, गुरु कृपा

भगवान हैं भी या नहीं ?

भगवान हैं भी या नहीं ?

https://www.youtube.com/watch?v=OAQXyWfUSpw

 

वैदिक धर्म में ईश्वर का स्वरूप

भगवत गीता सत्संग

ईश्वर के प्रति आस्था

संत का सत्संग

हिन्दू धर्म से नास्तिकता का अंत

आस्तिक और नास्तिक कौन

माता श्री पिता श्री मंगलम शब्द

सर्फ परमेश्वर की सत्ता

परसपर देवो भव

आत्मा क्या है, परमात्मा क्या है

जहां चैतन्य है वही आनंद है

TAG – संत आसाराम बापू, ब्रम्ह ज्ञानी, वैदिक धर्म, ईश्वर, श्रीमद भगवद गीता, संत, हिन्दू धर्म, आस्तिक, नास्तिक, माता, पिता, परमेश्वर, आत्मा, चैतन्य

न जाने गुरु का सानिध्य कब तक मिले !

https://www.youtube.com/watch?v=yqkjZH0CYGw

गुरु जी की सीख

उद्धव और श्री कृष्ण का ज्ञानमै संवाद

चेतन्य प्रमात्मा का समर्थ

मालुक दास के वचन

संसार की चिंता छोड़ो

परमात्मा का साक्षात्कार

परमात्मा में श्रद्धा और विश्वास

संसार सिर्फ माया मात्रा

सत्संग ही असली संघ

विवेक और वैराग्य – ईश्वर प्राप्ति का राजमर्ग

TAG – संत आसाराम बापू, ब्रम्ह ज्ञानी, गुरु, उद्धव, श्री कृष्ण, चेतन्य प्रमात्मा, मालुक दास, संसार, परमात्मा, साक्षात्कार, सत्संग, विवेक, वैराग्य

ऐसा हो जाता है भगवद गीता का श्रोता

https://www.youtube.com/watch?v=vsgqiaiNF8A&feature=youtu.be

 

श्रीमद भगवद गीता- एक महान ग्रंथ

भगवत गीता जयंती

श्रीमद्भगवद्‌गीता का महत्व

श्रीमद् भगवद् गीता सार

सब धर्म और ग्रंथों के प्रति सम्‍मान

जो बीत गयी सो बात गयी

तमस् गुण से तेज और बाल का नाश

वर्तमान की सुख सुविधा से आकर्षण हटाना

श्रीमद् भगवद् गीता का ज्ञान सर्वोपरी

महात्मा गांधी का भगवत गीता प्रेम

TAG – संत आसाराम बापू, ब्रम्ह ज्ञानी, श्रीमद भगवद गीता, गीता जयंती, गीता सार, धर्म, ग्रंथों, तमस् गुण, वर्तमान, ज्ञान, महात्मा गांधी

सतगुरु कौन सा दाँव बता रहे हैं ?

नानाक जी और कबीर जी के वचन

कौन हैं ईश्वर पुत्र

मनुष्य सर्वश्रेष्ठ प्राणी

तीर्थ नाये एक फल संत मिले फल चार

सत्संग- ईश्वर प्राप्ति का सर्वोपरि साधन

गीता सार

सत्‌ – चित्‌ –आनन्द

संसार रंग बदलू

अपने आप को जानो

मनुष्य शरीर ईश्वर व मोक्ष प्राप्ति का साधन

TAG – संत आसाराम बापू, ब्रम्ह ज्ञानी, नानाक जी, कबीर जी, ईश्वर, मनुष्य, तीर्थ, संत,  सत्संग, ईश्वर प्राप्ति, गीता, सत्‌ – चित्‌ –आनन्द, संसार, शरीर, मोक्ष

आखिर कब तक ?

https://youtu.be/bm08t29YLvA

घाटवाले बाबा का तेजस्वी जीवन

साचा गुरु करेगे कसोटी

अत्मा का आनंद

संसार एक दलदल

मंकी ऋषि का प्रसंग

भोगी के सम्पर्क से बैच

सम्भोग से समाधि नहीं सिर्फ़ सर्वनाश

दशरथ राजा का जीवन

आत्म-साक्षात्कार के लिए

ब्रह्म ज्ञानी ही साचा साथी

TAG – – संत आसाराम बापू, ब्रम्ह ज्ञानी, घाटवाले बाबा, गुरु, अत्मा, संसार, मंकी ऋषि, भोगी, दशरथ राजा, आत्म-साक्षात्कार