Category Archives: चेटीचंड पर्व

नव वर्ष व चेटीचंड पर रायपुर में

 नव वर्ष व चेटीचंड पर रायपुर में 

 युवा सेवा संघ एवं महिला मण्डल  ने किया पुलाव व छाछ वितरण

हिन्दू नव वर्ष व चेटीचंड के उपलक्ष्‍य में 8 अप्रैल को संत श्री आशारामजी बापू प्रेरित युवा सेवा संघ एवं महिला उत्थान मण्डल के सेवाधारियों ने शास्त्री  चौक,रायपुर में स्वादिष्ट पुलाव एवं शीतल छाछ का वितरण किया जिसका लाभ हजारों की संख्या में आम नागरिकों ने लिया । विगत कई वर्षों से बापू के साधको द्वारा नव वर्ष व चेटीचंड पर इस तरह का आयोजन किया जाता रहा है जिसे आम नागरिकों का भरपूर प्रतिसाद भी मिला है । इस वर्ष भी हिन्दू नव वर्ष्‍ के उपलक्ष्‍य में आयोजित इस कार्यक्रम की शुरूआत गुरुवंदना से हुई तत्‍ पश्चात मंगल आरती के बाद प्रसाद वितरण प्रारंभ हुआ और कुछ क्षणों में ही नागरिकों की भीड़ कार्यक्रम स्थल में उमड़ पड़ी । सभी वर्ग के नागरिकों ने इस भंडारे में प्रसाद ग्रहण किया ।

DSCN0107
DSCN0129 DSCN0139 DSCN0148

प्यार ही मुहंजो मालिक-खालिक, प्यार संधि दिलदारी

चेटीचंड,chetichand,श्री आशारामायण,गुरुसेवा,प्रभु जी,गुरुदेव,मेरे राम,हरिओम,आशाराम जी,आसाराम बापू,नारायण,yss,bsk,mum,dpp,syvmr,gurukul,hariomgroup.org,ashram.org,google+,false allegation

दिल जा दरवाजा मुह खोल्या, हरही कलाई हिक जेहड़ा
छो विचारया तेह में घिड़न्दा, मानहु केहड़ा केहड़ा
हरही कलाई हित जाए जझेरी, हर हिक तामा वारी
इन हुन साचा मुहंजो मतलब, मुहंजी दुनिया नियारी
मुहंजो मजहब प्यार करन आ, प्यार करण आ हर हिक खे
मुहंजो प्यार अजल ऐ अनखुट, खूब विराया हर हिक खे
प्यार ही मुहंजो मालिक-खालिक, प्यार संधि दिलदारी

इन हुन साचा मुहंजो मतलब, मुहंजी दुनिया नियारी
जित-कित झुमका झमका आऊ, हेत मंझा नित हसंदो
हित हुत मोती मुफ्त विराया, वरी वरी मा वसंदो
मुहंजा मोती निर्मल ज्योति, जग चिमके चहुधारी,
मुहंजा मोती निर्मल ज्योति, जग चिमके चहुधारी

इन हुन साचा मुहंजो मतलब, मुहंजी दुनिया नियारी …..

झूले झूले झूलन झूले झूले….

चेटीचंड,chetichand,श्री आशारामायण,गुरुसेवा,प्रभु जी,गुरुदेव,मेरे राम,हरिओम,आशाराम जी,आसाराम बापू,नारायण,yss,bsk,mum,dpp,syvmr,gurukul,hariomgroup.org,ashram.org,google+,false allegation

झूले झूले झूले झुलेलाल…
आयो लाल झुलेलाल.
एको चंजो झुलेलाल, तेंजा किंजो बेड़ापार
लाल उदेरो अन्तर्यामी
करी भलायूं भाल….
आयो लाल झुलेलाल.
असीं निमाणा ऐब न आणा
दूला तूहेंजे दर तें वेकाणा
करीं भलायूं भाल…
आयो लाल झुलेलाल.
झूले झूले झूलन झूले झूले….