Category Archives: #Asaram Bapu

अलख पुरुष की आरसी – पूज्य आशाराम बापूजी

Bapuji4
अलख पुरुष की आरसी – पूज्य बापूजी
संत कबीरजी से किसीने कहा : “हम निर्गुण, निराकार परमात्मा को देख नहीं पाते, फिर भी देखे विना रह न जायें ऐसा कोई उपाय बताइये |”
कबीरजी ने कहा : “परमात्मा को देखने के लिए ये चमड़े की आँखे काम नहीं आतीं | इन आखों से तो परमात्मा नहीं दिखेगा परंतु यदि तुम देखना ही चाहते हो तो जिनके ह्रदय में आत्मस्वरुपाकार वृत्ति प्रकट हुई है, जिनके ह्रदय में समतारूपी परमात्मा प्रगट हुआ है, अद्वैत ज्ञानरुपी परमात्मा प्रकट हुआ हाउ ऐसे किन्ही महापुरुष को तुम देख सकते हो | जिन्हे देखकर तुम्हें परमात्मा याद आ जायें, जिस दिल में ईश्वर निरावरण हुआ है, उन संत-महापुरुष को देख सकते हो |
अलख पुरुष की आरसी साधू का ही देह | लखा जो चाहे अलख को इन्हीं में तू लख लेह ||
साधू की देह एक ऐसा दर्पण है जिसमें तुम उस अलख पुरुष परमात्मा के दर्शन कर सकते हो | इसलिए अलख पुरुष को देखना चाहते हो तो ऐसे किन्हीं परमात्मा के प्यारे आत्मसाक्षात्कारी परमत्मास्वरुप संत का बार-बार सत्संग व सान्निध्य पाना चाहिए |
शुद्ध ह्रदय से, ईमानदारी से उन महापुरुष के गुणों का चिंतन करके ह्रदय को धन्यवाद से भरते जाओगे तो तुम्हारे ह्रदय में उस परमात्मा को प्रकट होने में देर न लगेगी | परमात्मा को पाना इतना सरल होते हुए भी लोग इसका फायदा तो ले नहीं पाते वरन अपनी क्षुद्र मति से उनको नापते रहते हैं और अपना ही नुकसान करते हैं |
वशिष्ठजी महाराज कहते हैं : “ हे रामजी !  अज्ञानी जो कुछ मेरे लिए कहते और हँसते हैं, सो सब मैं जानता हूँ परंतु मेरा दया को स्वभाव है, इससे मैं चाहता हूँ कि किसी प्रकार वे नरकरूप संसार से निकलें | इसी कारण मैं उपदेश करता हूँ |”
अयोध्या नरेश दशरथ जिनले चरणों में अपना सिर झुकाकर अपने को सौभाग्यशाली मानते है और श्रीराम जिनके शिष्य हैं, ऐसे गुरु वसिष्ठजी को भी उन निंदकों ने क्या-क्या नहीं कहा होगा ? तो तुम्हारे लिए भी कोई कुछ कह दे तो चिंता मत करना |
अपनी महिमा में मस्त रहनेवाले संतों-महापुरुषों पर लोगों की अच्छी-बुरी बातों का कोई असर नहीं पड़ता है परंतु जो संतों का आदर, पूजन, सेवा करता है वह अपना भाग्य उज्ज्वल बनाता है, उसका ह्रदय आत्मसुख से सम्पन्न होने लगता है और जो उनकी निंदा करता है वह अपने भाग्य को अंधकार में डालता है | संतों की नजर में कोई अच्छा-बुरा नही होता है | संतों की नजर में तो बस, केवल वही होता है – एक्मेवाद्वितीयोsहम |   
जिसकी जैसी भावना, जिसकी जैसी दृष्टी और जिसका जैसा प्रेम, वैसा ही उसको लाभ या हानि होती है |
करमी आपो आपनी के नेडै के दूरि |
अपनी ही करनी से, अपने ही भावों से आप स्वयं को अपने गुरु के, संत के नजदीक अनुभव करते हो और अपने ही भावों से दुरी का अनुभव करते हो | संत के ह्रदय में अपना-पराया कुछ नहीं होता है लेकिन कलियुगी अल्प मतिवाले गलत बात तो बहुत जल्दी स्वीकार कर लेंगे, अच्छी बात को स्वीकार नहीं करेंगे | सच्चाई फ़ैलाने में तो जीवन पूरा हो जाता है परंतु कुछ अफवाह फैलानी है तो फटाफट फ़ैल जाती है | जो लोग तुरंत कुप्रचार के शिकार बन जाते हैं वे अल्प मतिवाले हैं, उनकी विचारशक्ति कुंठित हो गयी है |
गुजरात में नरसिंह मेहता नाम के प्रसिद्द संत हो गये | उनके लिए भी ईर्ष्यालु लोगों ने कई बार अफवाहें फैलायी थी, गलत बातों का खूब प्रचार किया था लेकिन अफवाहें फैलानेवाले कौन-से नरक में गये होंगे, किस माता के गर्भ में लटकते होंगे यह हम और तुम नहीं जानते परंतु नरसिंह मेहता को तो आज भी करोड़ों लोग जानते-मानते हैं, आदर से उनका नाम लेते हैं |
नरसिंह मेहता के बारे में जब अफवाहें गलत साबित हुई, जब लोगों को पता चला कि नरसिंह मेहता की दृढ़ भक्ति के कारण चमत्कार होते हैं तो चमत्कार के प्यारे उनके आस-पास इकट्टे होते रहते थे | वे चमत्कार के भक्त थे, नरसिंह मेहता के भक्त नहीं थे |
ऐसा कई संतो के साथ होता है | जब तक सब ठीक लगता है तब तक तो लोग संत के साथ होते है, अपने को संत का भक्त कहलाते हैं किंतु जरा-सी कुछ दिक्कत लगी कि खिसक जाते है | ऐसे लीग सुबिधा के भक्त होते है, संत के भक्त नहीं होते | संत का भक्त वही है कि कितनी भी विपरीत परिस्थिति आ जाय किंतु उसका भक्तिभाव नहीं छूटता | सुविधा के भक्त तो कब उलझ जायें, कब भाग जायें पता नहीं | जो नि:स्वार्थ भक्त होते हैं वे अडिंग रहते हैं, कभी फरियाद नहीं करते | वे तो संत के दर्शन, सत्संग से और उनकी महिमा का गुणगान करके आनंदित, उल्लसित, रोमांचित होते है | किसीकी निंदा या विरोध से संत को कोई हानि नहीं होती और किसीके द्वारा प्रशंसा करने से वे बड़े नहीं हो जाते |
सच्चे संतों का आदर-पूजन जिनसे नहीं सहा गया, ऐसे ईर्ष्यालु लोगों ने ही जोर-शोर से कुप्रचार किया है | संतो के व्यवहार को पाखंड बताकर मानो उन्होंने ही धर्म के प्रचार का ठेका उठाया है | ऐसे लोगों को पता ही नहीं कि वे क्या कर रहे हैं | जब कबीरजी आये तब निंदकों ने कहा : ‘हम धर्म की जजय कर रहें हैं |’ तब सुकरात आये तब राजा तथा अन्य कुछ लोगों ने कहा “ ‘हम धर्म की जय कर रहे हैं |’ इस प्रकार संतों पर जुल्म किये गये |
पिछले दो हजार वर्षों में जो धर्म-पंथ हुए हैं, उन्होंने हिन्दू धर्म की गरिमा को न जानकर ऐसी-ऐसी साजिशे की कि हिन्दू हाथे बन गये साजिश के और आपस में लड़ –भिड़े | अपने ही लोग संतों की निंदा करके हिन्दू संकृति को क्षीण करने का जघन्य अपराध करते आ रहे हैं | लेकिन चाहे कैसी भी मुसीबतें आयी  तो भी जो सच्चे भक्त थे, श्रद्धालु थे, उन लोगों ने सच्चे संतों की शरण नहीं छोड़ी और दैवी कार्य नहीं छोड़ा | निंदा की दलदल में फँसे नहीं, कुप्रचार के आँधी – तूफानों में पतझड़ की नाई गिरे नहीं; डटे रहे, धनभागी हुए | संत कबीरजी के साथ सलूका-मलूका, गुरु नानकजी के साथ बाला-मरदाना ऐसे श्रद्धालु शिष्य थे, जिनके नाम इतिहास में अमर हो गये |इसी प्रकार तुकारामजी महाराज, ज्ञानेश्वरजी महाराज, संत एकनाथजी, रामसुखदासजी महाराज, सांई टेऊँरामजी, सांई लीलाशाहजी महाराज )और संत आशारामजी बापू ) आदि सभी संतों के प्रति निंदकों ने अपने लक्षण दिखाये व सज्जनों ने अपनी सज्जनता से फायदा उठाया | वे सौभाग्यशाली सज्जन यहाँ भी सुख-शांति व परमात्म-ध्यान की प्राप्ति में सफल हुए व परलोक में भी सफल हुए और होते रहेंगे |
शिवजी कहते हैं : धन्या माता ….
धन्य हैं वे शिष्य, जो अलख पुरुष की आरसी स्वरुप ब्र्म्हवेत्ता संतो को श्रद्धा-भक्ति से देखते हैं और उनसे आखिरी डीएम तक निभा पाते हैं | जो निंदा या कुप्रचार के शिकार बनाकर अपनी शांति का घात नहीं करते वे बडभागी है |    
             

आत्मज्ञान – पूज्य बापूजी की ज्ञानमयी अमृतवाणी

images (1)

आत्मज्ञान के प्रकाश से अँधेरी अविद्या को मिटाओ – पूज्य बापूजी की ज्ञानमयी अमृतवाणी

मिथ्या प्रपंच देख दुःख जिन आन जीय ।
देवन को देव तू तो सब सुखराशि है ॥
अपने अज्ञान ते जगत सारो तू ही रचा ।
सबको संहार कर आप अविनाशी है ॥
यह संसार मिथ्या व भ्रममात्र है लेकिन अविद्या के कारण सत्य भासता है । नश्वर शरीर में अहंबुद्धि तथा परिवर्तनशील परिस्थितियों में सत्यबुद्धि हो गयी है इसीलिये दुःख एवं क्लेश होता है । वास्तव में देखा जाये तो परिस्थितियाँ बदलती रहती हैं लेकिन परिस्थितियों का जो आधार है, अधिष्ठान है वह नहीं बदलता ।
‘बचपन बदल गया । किशोरावस्था बदल गयी । जवानी बदल गयी । अब बुढ़ापे ने घेर रखा है… लेकिन यह भी एक दिन बदल जायेगा । इन सबके बदलने पर भी जो नहीं बदलता, वह अबदल चेतन आत्मा ‘मैं’ हूँ और जो बदलता है वह माया है…’ सदाचार व आदर के साथ ऐसा चिंतन करने से बुद्धि स्वच्छ होती है और बुद्धि के स्वच्छ होने से ज्ञान का प्रकाश चमकने लगता है ।
जिनके भाल के भाग्य बड़े, अस दीपक ता उर लसके ।
‘यह ज्ञान का दीपक उन्हीं के उर-आँगन में जगमगाता है, जिनके भाल के भाग्य-सौभाग्य ऊँचे होते हैं ।’ उन्हीं भाग्यशालियों के हृदय में ज्ञान की प्यास होती है और सद्गुरु के दिव्य ज्ञान व पावन संस्कारों का दीपक जगमगाता है । पातकी स्वभाव के लोग सद्गुरु के सान्निध्य की महिमा क्या जानें ? पापी आदमी ब्रह्मविद्या की महिमा क्या जाने ? संसार को सत्य मानकर अविद्या का ग्रास बना हुआ, देह के अभिमान में डूबा हुआ यह जीव आत्मज्ञान की महिमा बतानेवाले संतों की महिमा क्या जाने ?
पहले के जमाने में ऐसे आत्मज्ञान में रमण करनेवाले महापुरुषों की खोज में राजा-महाराजा अपना राज-पाट तक छोड़कर निकल जाते थे और जब ऐसे महापुरुष को पाते थे तब उन्हें सदा के लिये अपने हृदय-सिंहासन पर स्थापित करके उनके द्वार पर ही पड़े रहते थे । गुरुद्वार पर रहकर सेवा करते, झाड़ू-बुहारी लगाते, भिक्षा माँगकर लाते और गुरुदेव को अर्पण करते । गुरु उसमें से प्रसाद के रूप में जो उन्हें देते, उसीको वे ग्रहण करके रहते थे । थोड़ा-बहुत समय बचता तो गुरु कभी-कभार आत्मविद्या के दो वचन सुना देते । इस प्रकार वर्षों की सेवा-साधना से उनकी अविद्या शनैः-शनैः मिटती और उनके अंतर में आत्मविद्या का प्रकाश जगमगाने लगता ।
आत्मविद्या सब विद्याओं में सर्वोपरि विद्या है । अन्य विद्याओं में अष्टसिद्धियाँ एवं नवनिधियाँ बड़ी ऊँची चीजें हैं । पूरी पृथ्वी के एकछत्र सम्राट से भी अष्टसिद्धि-नवनिधि का स्वामी बड़ा होता है लेकिन वह भी आत्मविद्या पाने के लिये ब्रह्मज्ञानी महापुरुष की शरण में रहता है ।
हनुमानजी के पास अष्टसिद्धियाँ एवं नवनिधियाँ थीं फिर भी आत्मविद्या पाने के लिये वे श्रीरामजी की सेवा में तत्परता से जुटे रहे और अंत में भगवान श्रीराम द्वारा आत्मविद्या पाने में सफल भी हुए । इससे बड़ा दृष्टांत और क्या हो सकता है ? हनुमानजी बुद्धिमानों में अग्रगण्य थे, संयमियों में शिरोमणि थे, विचारवानों में सुप्रसिद्ध थे, व्यक्तियों को परखने में बड़े कुशल थे, छोटे-बड़े बन जाना, आकाश में उड़ना आदि सिद्धियाँ उनके पास थीं, फिर भी आत्म-साक्षात्कार के लिये उन्होंने श्रीरामजी की जी-जान से सेवा की । हनुमानजी कहते हैं : 
राम काजु कीन्हें बिनु मोहि कहाँ बिश्राम…
हनुमानजी की सारी सेवाएँ तब सफल हो गयीं जब श्रीरामजी का हृदय छलका और उन्होंने ब्रह्मविद्या देकर हनुमानजी की अविद्या को सदा-सदा के लिये दूर कर दिया ।
मानव संसार को सत्य मानकर उसीमें उलझा हुआ है और अपना कीमती जीवन बरबाद कर रहा है । जो वास्तव में सत्य है उसकी उसे खबर नहीं है और जो मिथ्या है उसीको सत्य मानकर, उसीमें आसक्ति रखकर फँस गया है ।
जो विद्यमान न हो किन्तु विद्यमान की नाईं भासित हो, उसको अविद्या कहते हैं । इस अविद्या से ही अस्मिता, राग-द्वेष एवं अभिनिवेश पैदा होते हैं । अविद्या ही सब दुःखों की जननी है ।
अविद्या, अस्मिता, राग-द्वेष और अभिनिवेश – इनको ‘पंच क्लेश’ भी कहते हैं । पंच क्लेश आने से षड्-विकार भी आ जाते हैं । उत्पत्ति (जन्मना), स्थिति (दिखना), वृद्धि (बढ़ना), रुग्णता (बीमार होना), क्षय (वृद्ध होना) और नष्ट होना- ये षड्विकार अविद्या के कारण ही अपने में भासते हैं । इन षड्-विकारों के आते ही अनेक कष्ट भी आ जाते हैं और उन कष्टों को झेलने में ही जीवन पूरा हो जाता है । फिर जन्म होता है एवं वही क्रम शुरू हो जाता है । इस प्रकार एक नहीं, अनेकों जन्मों से जीव इसी शृंखला में, जन्म-मरण के दुष्चक्र में फँसा है । 
गंगोत्री से लेकर गंगासागर तक गंगा नदी में जितने रेत के कण होंगे उसे कोई भले ही गिन ले लेकिन इस अविद्या के कारण यह जीव कितने जन्म भोगकर आया है, इसका अनुमान नहीं लगाया जा सकता ।
इस जन्म-मरण के दुःखों से सदा के लिये छूटने का एकमात्र उपाय यही है कि अविद्या को आत्मविद्या से हटानेवाले सत्पुरुषों के अनुभव को अपना अनुभव बनाने के लिए लग जाना चाहिए । जैसे, भूख को भोजन से तथा प्यास को पानी से मिटाया जाता है, ऐसे ही अज्ञान को, अँधेरी अविद्या को आत्मज्ञान के प्रकाश से मिटाया जा सकता है । 
ब्रह्मविद्या के द्वारा अविद्या को हटानेमात्र से आप ईश्वर में लीन हो जाओगे । फिर हवाएँ आपके पक्ष में बहेंगी, ग्रह और नक्षत्रों का झुकाव आपकी ओर होगा, पवित्र लोकमानस आपकी प्रशंसा करेगा एवं आपके दैवी कार्य में मददगार होगा । बस, आप केवल उस अविद्या को मिटाकर आत्मविद्या में जाग जाओ । फिर लोग आपके दैवी कार्य में भागीदार होकर अपना भाग्य सँवार लेंगे, आपका यशोगान करके अपना चित्त पावन कर लेंगे । अगर अविद्या हटाकर उस परब्रह्म परमात्मा में दो क्षण के लिये भी बैठोगे तो बड़ी-से-बड़ी आपदा टल जायेगी ।
जो परमात्मदेव का अनुभव नहीं करने देती उसीका नाम अविद्या है । ज्यों-ज्यों आप बुराइयों को त्यागकर उन्हें दुबारा न करने का हृदयपूर्वक संकल्प करके ब्रह्मविद्या का आश्रय लेते हैं, ईश्वर के रास्ते पर चलते हैं त्यों-त्यों आपके ऊपर आनेवाली मुसीबतें ऐसे टल जाती हैं जैसे कि सूर्य को देखकर रात्रि भाग जाती है । 
वसिष्ठजी महाराज कहते हैं : ‘‘हे रामजी ! जिनको संसार में रहकर ही ईश्वर की प्राप्ति करनी हो, उन्हें चाहिए कि वे अपने समय के तीन भाग कर दें : आठ घंटे खाने-पीने, सोने, नहाने-धोने आदि में लगायें, आठ घंटे आजीविका के लिये लगायें एवं बाकी के आठ घंटे साधना में लगायें… सत्संग, सत्शास्त्र-विचार, संतों की संगति एवं सेवा में लगायें । जब शनैः शनैः अविद्या मिटने लगे तब पूरा समय अविद्या मिटाने के अभ्यास में लगा दें ।’’ 
इस प्रकार ब्रह्मज्ञानी सद्गुरु के कृपा-प्रसाद को पचाकर तथा आत्मविद्या को पाकर अविद्या के अंधकार से, जगत के मिथ्या प्रपंच से सदा के लिये छूट सकते हैं ।

गुरु का आदर – परम पूज्य संत श्री आशारामजी बापू

gurur

Mantra data Guru Ka Aadar (मंत्र दाता गुरु का आदर ) – Sant Shri Asaram ji Bapu

मंत्र दाता गुरु का आदर ( भगवान वेदव्यास जी जीवन प्रसंग )

व्यासजी का भील के पुत्र से मंत्र का दान लेना ….और गुरुपद को सम्मान देना ….

नमस्ते व्यास विशाल बुद्धि ….

* नैमिषारन्य में वेद व्यास जी एकांत वास, शास्त्र लेखन व ८८००० ऋषियों को सत्संग सुनाते थे | व्यास जी सुबह सूर्योदय से पहले घूमने निकले, तो देखा कि एक शबर जाति का भील होठों से कुछ मंत्र बडबडा रहा है, उसके मन्त्र के प्रभाव से वह पेड़ झुक रहा है |

* उस बूढ़े ने खजूर के झुके हुए पेड़ से खजूर का रस निकाला | व्यास जी को आश्चर्य हुआ कि इसके पास इस मन्त्र की सिद्धि है | व्यास जी उसकी ओर तेजी से बढ़े तो वो बूढ़ा भी भांप गया कि ये मेरे से मन्त्र दीक्षा लेने आ रहे हैं, वो भी तेज़ी से भागा | वो भागते भागते घर पहुंचा और घर वालों को बोला कि भगवान वेद व्यास जी आ रहे हैं, मैं पीछे के दरवाज़े से निकल जाता हूँ, तुम उनको बहाना बनाके रवाना कर देना, तो मै आऊंगा | कुटुम्बियों ने ऐसा ही किया | व्यास जी वापिस चले गए |

* वेद व्यास जी बीसों बार गए | और बूढ़ा छटक जाये | उस बूढ़े का एक बेटा था कृपालु उसे दया आई कि आप इतने महान पुरुष, आप मेरे पिता जी से क्या लेना चाहते हैं ? व्यास जी बोले कि मैं तुम्हारे पिता से वो पेड़ झुकाने की विद्या सीखना चाहता हूँ, कृपालु बोला वो तो मुझे भी आती है मैं आपको देता हूँ |

* व्यास जी ने उससे श्रद्धा-पूर्वक मन्त्र लिया | आश्रम लौटते वक़्त व्यास जी ने मन्त्र के प्रभाव से नारियल का पेड़ झुकाया और दो नारियल ले लिए | जब वो बूढ़ा घर वापिस आया तो उसने पुछा कि तूने व्यास जी को क्या सिखाया | तो वो बोला कि मैंने उन्हें मन्त्र दे दिया | बूढ़े ने कहा उन्हें मन्त्र न देने के लिए तो मैं भागता था |

Lakshman Vs Meghnaath

guru

Lakshman kyu jeete or Meghnaath kyu hara? Ramji ne Meghnath ki patni ko diya uttar… asaramji bapu satsang

भगवान के लिये रोना भी एक साधन है -आसारामजी बापू

gurujii

Bhagwan ke liye rona bhi ek Sadhan hai -Pujya Asaram ji Bapu

भगवान के लिये रोना भी एक साधन है -आसारामजी बापू
१२० माला रोज जप करें और नीच कर्म का त्याग करे तो एक साल में साक्षात्कार.… 
हरी बाबा ने भक्तों को झूठ -मुठ भगवान के लिए रोने को कहाँ और फिर सचमुच सभी लोग भगवान के लिए रोने लगे.… 
अब कि बिछड़ी कब मिलेगी जाय पड़ेगी दूर …

 

 

 

ब्रह्म सिध्धांत – पुराना दुर्लभ सत्संग – आशारामजी बापू

tatvik,asharam bapu,satsang,spiritual,hinduism

मुख्य अंश ;

  • ब्रह्मज्ञानी ही परब्रह्म परमात्मा
  • सन्यासईश्वार प्राप्ति की और
  • संसार एक झूठा सपना, यहाँ कोई अपना
  • समय पर जाग जाओ
  • शांतमान ही आत्मज्ञान का अधिकारी
  • ध्यान- एक रास्ता ईश्वर प्राप्ति की और
  • संत सतायें तीनों जायें, तेज बल और वंश
  • वसंत ऋतूविकास का ऋतु
  • आप अमर थे, है और रहेंगे
  • ब्रह्मज्ञानी का निवास स्थानपरंतीरथ

कौन ? – प.पू. संत श्री आशारामजी बापू

bhagwat

 

ऐसा कोई कण नहीं जिसमे भगवत सत्ता नहीं – प.पू. संत श्री आशारामजी बापू

सबसे से जादा सुखी कौन? सबसे से जादा उदार कौन? सबसे से जादा हितेषी कौन ? सबसे से जादा शाश्वत कौन ? सबसे से जादा निकट कौन ? सबसे से जादा दूर कौन ? इस प्रकार के प्रश्न बुद्धि में उठ जाये और मनमानी श्रद्धा होती है तो मनमाना फल मिलता है और मन थोडीसी इमानी होता है | मन की अपनी सीमा है |  श्रद्धा, सात्विक, राजस, तामस ऐसा ही फल होता है  | आप देवता किसी देवता को ले जाते तो फल चाहते है ……… देवता लोक ब्रम्हाजी के एक दिनमे चौदा इंद्र बदलते है |तो देवता की उपासना करोगे तो वो बदल जाते है | नये इंद्र का नया कानून हो जाता है | तो सवाल है की सबसे अधिक सहनशील कौन ? उससे अधिक निकट कौन ? सबसे अधिक भगवान भगवान …….. उड़िया बाबा को इस्पितल में ले गया था बाबा हमारे इस्पिताल में थे | बड़ी से बड़ी ईलाज इस्पिताल में होती | इसप्रकार से लौटे तो बाबा बड़े गुस्सायेर हुए थे | हाथोसे ईशारे रखते थे, हाथ पैर पटकते और कुछ खरी-खोटी सुनाई जाती है भगवान को | ऐसी खरी-खोटी सुनाई जाती | कुत्ता मनुष्य की भाषा बोल रहा है ये भी लीला कर देखा है ? पत्थर की मूर्ति दूध पिने लग जाये तो वो भी लीला है | हेलीकाप्टर चूर-चूर हो जाय और खरोज भी नहीं आये वो भी लीला करके देखा है | ह्रदय में न जाने  कितनी होती जाती रहती है कितना सहनशील उडीयाबाबा सुनाये जा रहे है ऐसा नही की वो सुनता नहीं है |  आखिर आखंडनंद ने पूछा क्या … आप भगवान को नहीं मानते क्या ? बोले नहीं मानता तो गाली क्यू देता है? मानता हूँ ! तभी तो ले आऊ, कुछ सुनाऊ | तुम मेरे बोल रहे मेरे से जीभ दूर है लेकिन तुम हाजरा हाजिर है | जितने लोग दुखी है तो गुस्सा आ गया…. लेकिन वो सुनाई तो सही…… लेकिन बाबा को क्या किया ? ईश्वर के पाच भुत भी है सेवदार पृथ्वी देखो खड्डा खोदो वो मुर्दे गाडो, सौच करो, गंदगी करो, सब सह जा रही है | धन, धान्य, अन्न, फुल, फल इत्यादि समुद्र में गंधा करो, डालो वो लहराते है बस | सबसे बाधिक–जोधिक शक्ति है तो परमात्मा है | छोटी बुद्धि होती है तो ग्राम देवता को मानते है | किसी स्थान देवता को मानते है, कोई कुलदेवता को मानते है, कोई किसी देवता को मानते है | छोटी-छोटी मती है छोटी-छोटी देव में अटक जाती है और फटक कोई ग्रामदेवता मर जाये, कोई कुलदेवता मर जाये | ये पता नही है की कुलदेवता के द्वारा और ग्रामदेवता के द्वारा कुछ भी कृपा होगी तो उसीकी होगी | सत्ता होगी तो उसकी होगी, संकल्प-सामर्थ्य होगा तो उसकी का होगा | देवतार्म यज्ञं तत् सारं सर्व लोकं महेश्वरं सुहृदम र्व भुतामं ज्ञातामं शांतम मृछ्ते | सारे यज्ञं और तापोंका फल का भोक्ता मै हूँ | मातृपिंड करो पितृपिंड करी सब के अंदर वो ब्रह्म है वो | छोटे छोटे आकृतियों छोटे छोटे खतम हुआ तुम्हारा उपलब्धी ही खतम हुई उन सबमे मै हूँ | ईश्वर तो बहोत है एक-एक सृष्टि के अलग-अलग ईश्वर है | सृष्टि कितने भी है वो पार नहीं लेकिन ये सब सृष्टियों का ईश्वर अंतर्मयी आत्मा मै महेश्वर ही हूँ | और कैसा हूँ  सुहृदम सर्व भुतामं ज्ञातामं   प्राणिमात्र का सुहृद हूँ | आकारण – हित करने वाला हूँ |  सुहृदम सर्व भुतामं ज्ञातामं शांतम मृछ्ते … प्राणिमात्र का सुहृद हूँ  ऐसा मुझे जानता है  उसे शांति प्राप्त होती है | बस इतना पक्का करो की सारे भगवान, सारे देवता, सारे यक्ष, राक्षस, किन्नर की नजरो में परमेश्वर है | तो आपकी नजरो ये बड़ी हो जाय. बुद्धि विशाल हो जाय, खंड में अखंड में चली जाय, परीक्षण से व्यापक हो जाय, बिंदु में सिंधु बन जाय | ऐसा कोई बिंदु नहीं है की सिंधु से अलग है | ऐसा कोई बढे का आकाश नहीं महाकाश से बढे हो | ऐसा कोई जिव नहीं उस परमेश्वर की सत्ता, स्फूर्ति, चेतना, ज्ञान के बिना उसका अस्तित्व नहीं | गीता का ज्ञान, उपनिषदों का ज्ञान है तो भी मकड़ी के जालों में भगवान का ज्ञान आता है | जिधर देखता हूँ खुदा ही खुदा है, खुदासे न कोई चीज जुदा है | जब अवल और आखिर खुदा ही खुदा है, तो अब भी वही है क्या उसके सिवा है  |

गोरखनाथ ने कहा कि कौन है आज्ञाकारी शिष्य पेड पे चढ जाय ? त्रिशूल भोंक दिया बोले इसे आ के जंप मारे | गुरूजी का चेला हूँ … गुरूजी …गुरूजी.. बस गुरूजी… गुरूजी त्रिशूल भोंक दिया, गस्ती में गाड दिया, ऊँचे पेड पे चढ के उसी डाले पर खड़ा रहकर सीधा त्रिशूल के आगे गिरे, जवान है तो चढ़ जावो | ऐसा करके गोरखनाथ चढ गए थोडा आगे | एक दूसरा के मुहँ तारते थोडा आगे वो कोई खास शिष्य आ गए बोले क्या बात है? बोले गुरुजीने ऐसा कहा है ? अरे बोले जो मेरा शिष्य है वो करेगा, मै तो हूँ ही… वो चढ़ गया | तो त्रिशूल और शिष्य के बीच गोरखनाथ के अदृश्य हाथ अपने हाथो में डाल दिया | बोले त्रिशूल में कैसे गायब हो गया? तेरे बाप के हाथ तेरे को दीखते नहीं क्या ? अब गोरखनाथ के द्वारा वही तो करना है | मूर्तियों को दूध पिलाने का सामर्थ्य वास्तव मे है, वही बात तुमने सर्व भुत हितेरता इसे बह्मज्ञानी महापुरुष को देखो उड़िया बाबा का स्वभाव मरीजो को देख आये बिगड़े भगवान थे | भगवान कुछ नहीं बोलते ये तो अखंडनंद कहा….. आपको भगवान नहीं मानते तो नहीं मानते, तो सुना रखे, अगर नहीं होते तो क्यू सुना रखे | आकाश के फूलों को क्या सुनाई जाता है क्या? वंध्या पुत्रों को क्या सुनाई जाता है क्या ? कितनी सारी सहनशक्ति, सबसे बड़ी में बड़ी सहनशक्ति है तो प्रभु तुम्हारी और तुम्हारी सहनशक्ति का अंश मेरी माँ है, ईश्वर का सहनशक्ति का अंश तेरे में है, हम दूध पीते-पीते काटते थे, तुम्हने बर्दास किया, नाख़ून लगा तुम्हने बर्दास किया, सोते -सोते गीला कर दिया, ये सहनशक्तिया है माँ तुम्हारे में , ईश्वर का स्वभाव तेरे में छुपा है | ऐसी मेरी पृथ्वी माँ…. कोई चाहे कुछ भी करो, भला ही भला करो |खाली सहनशक्ति ये बात नहीं है सूह्रुद भी है | हाँ हाँ – सुहृदम सर्व भुतामं ज्ञातामं शांतम मृछ्ते … एक दूसरे की बुराई करके मैनेजमेंट करना चाहते है वो दो कवडी के अक्कल नहीं रखते | राग, द्वेष, निंदा, बुद्धि मारी गई हाँ | क्या आनंदमय ब्रम्ह बरसा, क्या पत्ते-पत्ते में उसका कला-कौशल्य है, क्या करोजमें ने मकड़ी जाले बनाने में उसकी कला-कुशलता है वो देख-देख के आनंद ले जब से सहृद से जगाता उसके सुहृद जगा | जो भगवान का स्वभाव है, उसका अंश तुम्हारे में छुपा है | उससे छू कर तामसी, राजस्वी अंश में क्यों उलछ्ते हो | हिजाडा, लढाई, निंदा ये राजस्वी, तामसी दुर्गुण है, प्रकृति का परमात्मा का तो अपना स्वभाव है | अब ब्रह्मवेताओ को ये सारा जगत ब्रह्ममय  ही दिखेगा | वासुदेव सर्व मिति – सब वासुदेव है और विद्यार्थिओं को भगवान की लीला देखे और जो राजद्वेशी है उनको ये संसार काटता, दंगता, राग द्वेषी आग में तपता हुआ नेत्रोंसे आकर्षण से ढूस करता हुआ , वा वा…. आकर्षण से ढूस करता हुआ उसके लिए ये संसार नरकालय हो जाता है | नरकालय भी हो जाता है और भगवान की लीला कली भी हो जाता है | सब भगवान ही भगवान है | ऐसा कोई कण नहीं जिसमे भगवत सत्ता नहीं और ऐसा कोई क्षण नहीं जिसमे भगवत अंश न हो | आप सो जाते है.. इंद्रिय, मन सो जाता है. भगवत कण और भगवत क्षण तो रक्तसंचार करते है | अरे क्यों भ्रमित हो रहे भोंदू , नाली के कीड़े बन रहे हो. हे नाथ तू सुख दे अर्जुन के द्वारा, हे मूत्र इंद्रिय पति-पत्नी के द्वारा तबा हो जाते बिचारे | भक्ति सब साधन मूल जो मिले तो हुई संत अनकूल |

भक्ति सारी सुखोंकी खान है, सब साधनों की मूल है और तब मिले सब संत अनकूल – ईश्वर की भक्ति मिल जाय सत्संग मिल जाय | संतो के पास जायेंगे तो धीरे-धीरे उस माहोल से मन इंद्रिय बदलेगी लेकिन चाहे उधर रहे आदत पुरानी अपनी नहीं छोड़े तो क्या फायदा | बड़ी विलक्षण माया, बड़ी विलक्षण लीला है | बोले भगवान पाना बड़ा कठिन है और भगवान का पाना इतना सरल है की | खाली आप इरादा बना लो ईश्वर को पाना है तो सारी जिम्मेदारी वो अपने आप पर लेता है | उसकी प्राप्ति की इच्छा कर लो बस इमानदारी से | जितना हित हराम से उतना हरि से होये कहे कबीर वा दास का पला न पकड़े कोई |  हे प्रभु, हे हरि ……..

चरित्र की पवित्रता, बुद्धि में सत्य का प्रकाश, सत्य ज्ञान स्वरुप है, सत्य सर्वत्र है, सत्य सदा है, और सत्य सबका हितेशी, साक्षी है | बुद्धि वो ज्ञान भर लो, मन में सदभाव भर लो, इंद्रिय में चरित्र निर्माण कर लो | बस हो गया……. ये तीन भी पढ़ लिया आपके ऊपर बड़ा उपकार किया . ऐसे हमने तीन पढ़ दिया वैसे प्रभु तुम्हारे परे कृपा कर दिई | प्रभु के साथ रहो वास्तव में रहो लेकिन ये पता नहीं इसलिए दुःख भोग रहे हो | वास्तव में हो लेकिन जो तुच्छ है उसको तो मै और मेरा मन और जो शाश्वत है उसको समजते है वो दूर है, दुर्लभ है, पराये है  तो जो स्वास्वत है उसको समजते है वो दूर नहीं है, दुर्लभ नहीं है, पराये नहीं है | वो कभी बिछड़ता नहीं उसके लिए जरा खोज कर ले | उसको जरा अपना मान लो | इसके लिए जरासा जिज्ञासा जगा ले मंगल हो जायेगा मंगल | जयराथ भगवान ने भागवत में पंच विषयोंको मनुष्य के लिए बडे दुर्गम विषय में उनको पार कर लिया | देखेने की आसक्ति सुनने की चखने की वा वा सुनने की काम विकार, एक एक विकार को जितने के लिए बारा – बारा वर्ष का साधन भी बताया तब मन उसे विकार से विकलांग होता है | फिर क्या वेदव्यासजी बोले दिखते है भगवान पराशर के सदगुरु लेकिन वही है बोले – येतत सर्वम गुरु भक्त्या | ये सब गुरु भक्तिसे हो जाता है |

ब्राम्हिस्थिति प्राप्त कर कार्य नहीं ना शेष मोह कभी ना ठग सके | ऐसा नहीं की मोह सुबहें ना ठग सके, मोह रात को ना ठग सके, मोह अमावश्या को ना ठक सके, कभी ना ठक सके | मोह कभी ना ठग सके पिच्छा नहीं आवेश पूर्ण गुरु के पामिनी पूर्ण गुरु कहलावे |  ये प्रभु, ये मेरे भगवान, ये मेरे लीलाशाहजी  भगवान मागने तो आये कुछ और ले गए कुछ | मागने तो आये थे तो शिवजी का दर्शन घड़ा दिया लेकिन शिवजी जैसे शिवजी तो है | दाता तो तू सहृद भी है, उदार भी है राजा को क्या दान करेगा ? शेठ्जी तो क्या दान करेगा? कर्ण भी तो क्या दान करेगा ? चीज वस्तु का दान करेगा | अपने कवच का दान करेगा कर्ण लेकिन भगवान तो आपने आप सबसे बड़ा दाता तू ही है भगवान | दाताओं दान करते है वो भी तेरी सत्ता है | हे हरि ….. हे हरि ……

आपकी  तपस्यों का मै खुप – खुप धन्यवाद करता हूँ | संसारी के लिए संसार दुःख का विलास कभी बेटी का दुःख, कभी प्रसूति का दुःख, कभी पति का दुःख, कभी किसी पत्नी का दुःख | संसार के सुखा लेने का सुख चाहता है उस लिए संसार दुःख विलास है | जिज्ञासु के लिए, व्यर्थ के लिए माया का विलास है | और जिसको परमात्मा के लिए अपनी परम भक्ति देते तो ओके लिए ब्रम्ह का विलास है | अभी ब्रम्ह विलास है | श्रद्दा शास्त्र विलास से होती है तो ब्रम्ह विलास तक पहुँच जाती है | श्रद्दा मनमानी होती तो भुत, पिशाच बड़े पेट में रुकाकर जीवन भटका देती | कर्म का फल कर्म नहीं देता है, कर्म तो कृत है (किया जाता है) और जड है | कर्म फल देनेवाला चैतन्य ईश्वर है और वही ईश्वर जिसमे स्थापना करो देवता मेरा कर्म का फल देगा, देवता के द्वारा ही वो ईश्वर अपना कर्म का फल देगा | यहाँ तो साक्षात् परमात्मा निर्गुण निराकार है, मेरे से तो लीलाशाहजी बापू ही भगवान है, वो मेरे से कभी भी अलग नहीं हो सकते | हे हरि हे प्रभु …………

मालूम पडने से ही भोग होता है और रोख से सुख होता है | तो ज्ञान से मालूम पड़ेगा, ज्ञान से ही भोग होगा, ज्ञान से ही सुख होगा | अभी तुम लोग जो सुन रहे हो लेकिन अंधा और बहिरा हो उसे माहोल से भरा हो लेकिन उसको कभी वो सुख नहीं मिलेगा | तुम्हारे से ज्ञान से सुख मिलता है | फालूत वस्तु से, व्यक्ति से नहीं होता खुर्ची मिल गयी उससे ये फल नहीं है लेकिन खुर्ची का सुख ह्रदय में वही फल है | चीज, वस्तु पड़ी है वो फल नही है लेकिन उसे में ह्रदय में जो  होता है सुख वही फल है अथवा दुःख वही फल है | तो जब हृदय से सुख और दुःख फल ऐहसास तो हृदय में ऐसा बनो की भगवानमय हो जाये | विष्णुपुराण में आता है – समतुम आराधनां अच्युतंस्य | सारी आराधना अच्युतस्य की कैसे हो समता ही भगवान की आराधना है कोई भी परिस्तिती आ जाए | वर्षाम न निन्देत तद व्रतं …वर्षा की निंदा न करो , ग्रीष्म ना निन्देत — ऋतुम न निन्देत, लोकांन ना निन्देत पशुं न निन्देत तद व्रतं | बुद्धि में सत्य का ज्ञान, सत्य का प्रकाश, इंद्रिय में सत्य का प्रकाश, मन में सदभाव और ईश्वर को अपना मानो सौप दो उसको बस हो गया |

हरि ॐ … हरि ॐ

कई जन्मों के अपराध – प.पू. संत श्री आशारामजी बापू

bapuji

कई जन्मों के अपराध सत्संग सुनने से माफ़- प.पू. संत श्री आशारामजी बापू  

तुलसीदासजी कहते है रामायण में सुत, धारा और संपति पापी को हो | सुत माना पुत्र, धारा माना पत्नी और संपति माना रुपया-पैसा ये तो पापीयों को भी होता है, धर्मात्मा को भी होता है | लेकिन संत समागम हरि कथा तुलसी दुर्लभ दूर | संतो का सत्संग संग और भगवान की कथा ये दुर्लभ चीज है | इसका फल अमृत है, सुत छोड़ देगा समशान तक पहुँचायेगा अग्निदान देगा, दारा भी दो आसूं बहाकर बरांडे तक आयेगी, संपति यही पड़ी रहेगी लेकिन सत्संग फल जो है मौत का बाप भी छीन नहीं सकता | मनुष्य चाहे कितना भी धनी हो जाये कितना भी कुछ हो जाय सत्ताधीश हो जाय, जब तक उसे सत्संग नहीं मिलता, सोने की लंका मिल जाय, सोने का हिरणपुर मिल जाय लेकिन सत्संग नहीं मिलता तो नीरसता नहीं मिटती, नीरसता नहीं मिटती तो फिर अंदर का रस नहीं आता | दिले तस्वीरें है यार की गर्दन झुका ली और मुलाकात कर ली | जब भी चाहिए परमात्मा से अपना सीधा, ऑनलाइन बात हो सकती है | जय रामजी बोलना पड़ेगा ….

अध्यात्मिक जगत की युक्ति और तरकीब यहाँ है | भगवान शिवजी पार्वती को अगस्त्य आश्रम में ले जाते सत्संग सुनने को, भगवान राम सीताजी को वशिष्ठ  गुरु के आश्रम ले जाते थे, चौदह  साल का वनवास मिला तो श्री रामचंद्र भरतद्वाज आश्रम में सीता और लखनलाला को ले जाते सत्संग सुनते, अत्री आश्रम, अनुसूया आश्रम और ऋषि-मुनियों का आश्रम रामायण में वर्णन आता है | मनुष्य जीवन में अगर सत्संग नहीं मिला, कुछ अवसर मिल गया तब भी कुछ नहीं मिला |

श्रीमद भागवत में कथा आती है भगवान कृष्ण बाल-गोपियों को कभी-कभी वन दिवस मनाने के निमित्त शुद्ध हवा में ले जाते है, जंगल की हवा आयु, आरोग्य, पुष्टि देनेवाली है | अभी विज्ञानी बोलते है जो हमारे विज्ञानियों के बापों का बाप श्रीकृष्ण देहाती जीवन में लोगों को लाभ दिलाते थे उसकी अब विज्ञानी सराहना करते है | एक घन मीटर में पाँच करोड घन आयार्ण उर्जा होती है | जहाँ नदियाँ है, पर्वत है, जंगल है वहाँ की वायु शक्तिशाली होती है, आरोग्यप्रद होती है | वही वायु जब गावों के तरफ खींची देखी जाती है तब पाँच करोड की जगाह पर चार-पाँच लाख मतलब सौवाँ हिस्सा उसमे पौष्टिकता रहती है | अगर वही वायु शहर के तरफ की मापते है तो करीब छोटा गाँव है खेत कलियाँ तो लाख घन आयार्ण आदि, अगर शहरों की मापी तो पचास हजार | कहाँ पाँच करोड और कहाँ शहर की हवा पचास हजार | श्रीकृष्ण वन दिवस मनाने के निमित्त बाल-गोपालों को रुष्ट-पुष्ट होनेवाली शुद्ध हवा में ले गये, दोपहरी का भोजन किया, भोजन के बाद सभी इधर-उधर लकार मारने को जाते | अवधौव, बलराम, साकेती, कृतवर्मा दंग रहे की एक सूखे कुएँ में किरकिट गिर गया हाथ छटपटाता उसकी जान जोखम में सारे प्रयत्न करने के बाद भी किरकिट को निकालने में विफल हो गये, श्रीकृष्ण के पास गये और श्रीकृष्ण ने  फिर निकलवाया और अपनी नुरानी निगाह, नजरों से वे निहाल हो जाते जो संत और भगवंत की नज़रों में आ जाते है | उस किरकिट की पाप राशि कटी और उसकी गर्दन लुडक गयी | देखते-देखते उसके शरीर में से जीवरूपी ज्योती निकली और देवता का रूप धारण कर लिया |    दैदीप्यमान, तेजस्वी देवता को देखकर बाल-गोपाल, कृतवर्मा आदि सब चकित हो गये | सबकुछ जाननेवाले श्रीकृष्ण अनजान होकर देवता को पूछते कि – हे देवपुरुष ! आप इस जंगल में हम बाल-गोपों को दर्शन देने के लिए कहाँ से पधारे ? तब वो कहता है कि – हे माधव ! ये दुनियाँ में जो भी मधुरता है ना उस परमात्मा सत्ता से आती है ? ये पृथ्वी में गन्ने को मधुरता कहाँ से देते हो ? वो माधव की चेतना है | माँ में स्नेह की मधुरता कहाँ से आती है ? इसलिए हजार नामों में एक नाम भगवान का माधव भी है, एक नाम गोविंद भी है, गौ  माना इन्द्रियाँ, इन्द्रियाँ  जिसकी सत्ता से विचरण करती है | एक नाम गोपाल भी है, इन्द्रियाँ  थककर जिसमे आती है पालित होती है तो उसका नाम पड़ता है गोपाल | गोविंद बोलो हरि गोपाल बोलो, राधा रमण हरि गोविंद बोलो | राधा उलटा तो धारा, चेतना की धारा जिसकी सत्ता से रमण करती है वो भगवान क्या मंगलमय हजार-हजार नाम है, हरेक नाम का अपना महात्म्य है | अच्युत जो अपने पद से, अपनी सत्ता से, अपनी महिमा से, अपनी पूर्णता से कभी च्युत नहीं होते | शरीर जवानी से कभी च्युत होता है तो बुढ़ापे में गिरता है, बुढ़ापे से च्युत होता है मौत में जाता है, राष्ट्रपति हर पाँच साल में अपने पद से च्युत होते है, चार साल में कभी कई कई |  किसी देश का राष्ट्रपति था और च्युत हुआ और उसे फांसी की सजा लग गई और मर भी गया | इंद्र भी अपने पद से च्युत हो जाता है | लेकिन एक परब्रम्ह परमात्मा है ये प्रलय हो जाय ये एक सूरज नहीं बारह  सूरज तपते है, तो आग-आग हो जाती है, सब वाष्पिभूत हो जाता है, तब भी परमात्मा चेतना च्युत की च्युत रह जाती है इसलिए भगवान का नाम है “अच्युत” |

इसी भगवान का नाम है केशव, क माना ब्रह्मा , श माना शिव, व माना विष्णु | विष्णु, शिव और ब्रम्ह के हृदय में भी आप ही हो | हमारे हिंदू धर्म में बहुत ऊँची खोज की गयी है हजार नाम भगवान के इस्लाम में एक-सौ-एक नाम खोजे, ईसाइयत  ने नव्वान नाम खोजे, किसी पारसी आदि धर्म में सत्ताईस नाम खोजे लेकिन हमने हजार-हजार नाम खोजे और हमारे ऋषि कहते कि हरि अनंत, हरि के नाम और हरि का स्वभाव, प्रभाव अनंत है | हजार तो खोजे लेकिन और भी कई है | तो वो देवता कहता है कि हे अच्युत, हे केशव, हे गोविंद, हे गोपाल, हे माधव | मै अमेरिका के वर्ल्ड रिलेजियस पार्लमेंट में प्रवचन कर रहा था दुनिया के सातसो धर्मगुरु इकठ्ठे हुए थे | अपने हिंदुस्तान में तो पाँच सो चालीस होते है, वहाँ सांसद में सातसों हम लोग साधु-संत थे, भारत के संस्कृति के विषय में मैंने कहा ….फिर कभी मौका मिलेगा तो आपको बताऊंगा | तो वो देवता कहता है कि हे अच्युत, हे केशव, हे गोविंद, हे गोपाल, हे माधव आप सब जानते है फिर भी अनजान होकर पूछते है मै वो अभागा राजा था जो नीच योनियों में, नरकों में भटकते हुये किरकिट होकर कुएँ में पड़ा था, आप ही ने मुझे निकलवाया और अभी देवता के रूप में खड़ा हूँ | हे गोविंद ! धरती पे सभी राजाओं से बढ़कर मेरा चक्रवर्ती शासन था | आसमान से कोई तारे गिन सकता है लेकिन मैं विद्वानों और संतों को इतना गोएँ दान करके संतुष्ट किया था की मेरी अभी भी गाथा गायी जाती है | राजा हो तो फलाना हो गौ दान करने में मेरा नंबर अव्वल है | आसमान के तारे कोई गिन ले मैने कितनी गौ दान की कोई गिन नहीं सकता | तो श्रीकृष्ण समझ  गये अच्छा तूम राजा नृभ हो ? बोले हाँ  माधव ! हे  केशव ! वही अभागा नृभ हूँ | यश के लिए तो गाय दान की थी, लेकिन मुझ अभागे को पता नहीं था की सत्संग बाप-बाप है | ये जो सत्संग नहीं मिला था सबकुछ मिला, सबकुछ  रह गया और में किरकिट होकर छटपटा रहा हूँ | अब नृभ राजा बड़े दानी थे जो शरीर मर गया उसके जयजयकार हो रही है मुझे क्या मिला ? मुझे तो आपकी कृपा मिली कि इस नीच योनि से मेरी सदगति हुई | हे  परब्रम्ह ! आप कृपा करके आशीर्वाद दीजिये मै अब स्वर्ग का सुख भोगने जाऊँ | श्रीकृष्ण ने किरकिट में से देवता बनाया है और देवता बनाया है तो स्वर्ग के सुख की इच्छा है | शबरी स्वर्ग की इच्छा नहीं करती, मीरा स्वर्ग की इच्छा नहीं करती, मैंने गुरुजी के आगे स्वर्ग की इच्छा नही की | स्वर्ग का पुण्य है भोगा फिर गिरना है, हमें तो ऐसा मिले की फिर पतन न हो | वो सत्संग से मिल सकता है सत्संग के लिए नहीं रुका वो स्वर्ग मिले, जिसकी आदत होती हैं ना भोगने, खाने की……

राजा अज मरने के बाद सांप हो गये और जनक ने सत्संग करवाया और वो सांप…… सत्संग मंडप में कथा सुनने को आया, लोगों में हिलचाल हो गई घबरायें, त्रिकाल ज्ञानी सत्संग करनेवाले अष्टावक्र महाराज थे | सांप को देखकर तनिक ध्यान करके सब जान गये, बोले ये राजा अज है इसी मिथिला का एक चक्रवती  सम्राट है, मरने के बाद सांप की योनी को पाया है, सत्संग सुनने से पाप कटते है और उसकी यही सदगति होगी | आप को काटेगा नहीं भले जंगल से जंगली सांप है काटेगा नहीं | तुम्हे इससे डरना नहीं, छेड़ना नहीं | सत्संग जब एक दिन, दो दिन सत्संग पूरा होने को था तो कुंडली मार के बैठा वो सांप बार-बार फन ऊँची करे और पटके, फन ऊँची करे और पटके, फिर ऊँची करे पटके-झटके पाँच पचीस बार ऐसा पटक-झटक करने के बाद किसी पत्थर कंकर पर फन टकराई मुहं में से खून निकला उसकी जीवरुपी वृत्ति निकली, देवता के रूप में प्रगट हुए | राजा जनक का माथा सूंघा धन्यवाद दिया, अष्टावक्र मुनि की स्तुति की | अष्टावक्र कहते कि मै तो जानता हूँ राजा अज तुम मिथिला नरेश हो, आज से पहले सातवें  पीढ़ी के राजा हो लेकिन मेरे ये सत्संगियों को आप आपबीती कहो | तब राजा अज कहता की भाईयों इतिहास में तुमने सुना था सातवें पीढ़ी आज से सात पीढ़ी पहले का राजा अज राज करता था | मेरा यश तो बहुत था, मैंने भी दान, पुन करके यज्ञं-होम-हवन वालों को और ब्राम्हणों को गाय दान करके बड़ा अपना यशगान करवाया था लेकिन मुझ अभागे को सत्संग महत्व पता नहीं था | यश का तो फल भोगकर मर गये फिर सांप योनी, अजगर योनी में, यमराज ने कहा एक हजार वर्ष तुम्हे सांप, अजगर और डेंन्डू ( पाने के सांप को डेंन्डू बोलते है ) उस योनी में जाना पड़ेगा | मै तो घबराया कहाँ तो राजा अज मिथिला नरेश और कहाँ सांप, उसकी योनी में चूहे का भोजन चूहे को पकडने के लिए चूहे के बिल में घूसों,  मेंढक  को पकडने के लिए भागों, मेरी क्या दुर्गति हो गई क्षमा करो मैंने खूब  हाथा-जोड़ी की रुदन किया | यमराज ने कहा इससे काम नहीं चलेगा, हाँ एक उपाय है अगर तुम भगवान को प्रार्थना करो तुम्हारे कुल खानदान में कोई सच्चे, ब्रम्हज्ञानी, संत का आत्म-परमात्मा का विषय, मंदिर का भगवान का नहीं, मस्जिद, चर्चों का भगवान नहीं, जो कभी मरता नहीं, कभी टूटता-फूटता नहीं, कभी बेवफा नहीं होता, मंदिर, मस्जिद, चर्च ये तो टूटते–फूटते भी, कुटुंबी बेवफा भी होते, अपना शरीर बेवफा होता है लेकिन जो कभी मरता नहीं, बिछड़ता नहीं, बेवफा नहीं होता और हजार-हजार गलतियाँ करने पर हमारा बुरा नहीं करता वो अंतर्यामी परमेश्वर ही सबका साथी है, सबका हितेषी है, सबका मंगल करता है | उस मंगल करता भगवान को प्रार्थना करो की तुम्हारे कुल-खानदान में उस मंगल करता अंतर्यामी प्रभु की कथा करनेवाले, सत्संग करनेवाला हो संत, अगर तुम्हारा बेटा, बेटे का बेटा, पोते के पोता, परपोते का भी पोता अगर सत्संग करायेगा सातवें  पीढ़ी के अंदर तो तुम्हारी सदगति हो जायेगी | मैंने भगवान को प्रार्थना की लेकिन यमराज को कहा के हे यमपूरी के देवता अगर मेरा पुत्र, पौत्र, पुत्र का परपौत्र ब्रम्हज्ञानी गुरु का सत्संग करे, करवायें अथवा उसे भागीदार हो तो उस सत्संग का माहोल देखने का मेरी इन आखों को पुण्य मिले, सत्संग के वचन सुनने का इन कानों को पुण्य मिले, मुझे शांति मिले | सत्संग हो तो मुझे सर्प योनी में भी अवसर देने की तुम कृपा कर सकते हो | यमराज मेरी सज्जनता भरी मांग पर राजी हो गये | बढ़िया-बढ़िया !! , साधो-साधो !! तुम्हारी सीधी-साधी मांग है, ऐसा ही होगा | फिर मुझे गिरा दिया और चंद्रमाँ के किरणों के द्वारा मै धरती पे अजगर बना रात को पेट भरने को भटकता कभी मरा हुआ जीव जनावर मिल जाये छोटा-मोटा अथवा तो तेढे-मेढे पेड पे चढ के पक्षियों के घोंसले में बच्चे खा लिए | एक चांदनी रात को मै भटका कुछ मिला नहीं, सुबह हो गया जब अपने बिल के तरफ वापस लौट रहा था तो पत्तों की खटपट से जंगल में जानेवाले कठियारे, घसियारे शहद के चक्के खोजनेवाले आपस में तो टोला बनाके जा रहे थे पाँच- पचास लोग अरे वो सांप.., सांप, अजगर…, अजगर जा रहा मै तेजी से भागा अपने बिल की ओर लेकिन उनके पत्थरों ने, डंडों ने मेरी पूंछ पर खतरनाक घाव किये ओर मेरी पूंछ लहू-लुहान  हो गई | सोचा पूंछ को घसीट के अंदर आराम करूँगा लेकिन भाईयों जो सत्संग सुनकर अंतर्यामी प्रभु में आराम करने की कला नहीं जानता वो मरने के बाद सांप या घोडा-गधा बनकर क्या आराम जानेगा | मेरे खून की गंध जंगल की कीडियों  को लगी और कीडियों  की कतारें बिल में आने लगी, कहाँ तो राजाधिराज महाराज अन्नदाता अज की जय हो बोलते थे और कहाँ मै अब कीडियों  से अपनी जान नहीं छुडा सकता | दिनभर कीडियाँ मुझे नोचती रही, चुसती रही | दिन-तो-दिन लेकिन रातभर  भी कीडियाँ नोचती रही, रातको भी मुझे कीडियों ने बक्शा नहीं | एक दिन बिता, एक रात बीती, दूसरा दिन …. चौथे दिन की रात एक कोर पेट में नहीं और बूंद खून नहीं कीडियाँ नोचती रही | राजाधिराज होकर जो मजे लिए मानो ये सारो मजों  का बदला वो जीव मेरे ले रहे | पांचवे दिन की रात भगवान किसी की न बिताए और छट्टे दिन की रात तो मूर्छा-मूर्छा में जरा सा चेतन आये हिलू-डूलू और मूर्छित हो जावू | मुझ अभागे ने ऐसे तो  वहा-वाई के लिए दान भी बहुत किया लेकिन सत्संग में जाने अवसर नहीं मिला | एक घडी आधी घडी आधि में पुनिआध | तुलसी संगत साध की हरे कोटि अपराध || कई जन्मों के अपराध सत्संग सुनने से माफ़ हो जाते है |
सातवें दिन मेरा दम टुटा मै डेंन्डू बना ( पानी का सांप ) और मेंढक पकड़ा, मेंढक की कहरात देखकर कोई स्नान करने आया था उसने मेरे को पत्थर मारा मै मूर्छित होकर मरा | इसप्रकार २५० वर्ष मैंने बहुत दुःख भोगे लेकिन बेटा हो तो जनक जैसा हो, ब्रम्हज्ञान का सत्संग कराया | अभी ७५० वर्ष मेरी नीच योनिओं से मुक्ति हो गई | पुण्यशील और सुशिल पार्शद प्रगट हुए अष्टावक्र को प्रार्थना करके, आप जैसे समर्थ संत की हाजरी में आपके भक्त को ले जाए, आपकी आज्ञा के बिना नहीं  होगी, अव्हेलना होगी धर्म की इसलिए आज्ञा दीजिये | अष्टावक्र ने संकेत किया विमान में ले जा रहे पुण्यशील और सुशिल जहाँ तक नजर पड़ी राजा जनक ने उनका अभिवादन किया | आपके घर मे कोई मेहमान आये चार कदम चल कर जायें दो मिठ्ठे वचन बोले | गृहस्ती घर की ये शोभा है घर पे कोई भी आ जाये जरा अच्छी जगाह पर बिठाओ, नम्रता से पेश आओ | कौवा का का धन हारे, कोयल का को दे, मिट्ठे वचन बोल के जग अपना करी ले |
तो जनक देखते रहे और बिदाई दी राजा अज को | अष्टावक्र गुरु को कहते है जनक, महाराज आप के सत्संग का प्रभाव मैंने प्रत्यक्ष देख लिया आप खाली सत्संग करना वाले आत्मवेता संत है ऐसी बात नहीं आप योग सामर्थ्य के धनी है | मुझे योग विद्या सिखाओ ताकि ये शरीर यहाँ पड़ा रहे ये सूक्ष्म शरीर से मै यमपुरी जाऊँ, वहाँ से स्वर्ग में जाऊँ, अपने पूर्वजों का दर्शन करके आऊ | अष्टावक्र गुरु
ने ये पद्धति उन्हें सिखा दी, ये मै तुम्हे सिखा दूँ |

सत्संग से पता चलता है संसार का सार कहाँ है | संसार में कितना भी दौडोगे, कितना भी मिलेगा वो सार नहीं है | इसीलिए थोडा समय निकालकर संसार के स्वामी से मिलने की कला सीख लो | बैर को प्रीत में बदलने की कला सीख लो, हार में जितने की कला सीख लो, रुदन को गीत में बदलने की कला सीख लो अगर सत्संग मिलता रहे तो मौत को मुक्ति में बदलने की कला सीखी जाती है |

हरि ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ   भोलेनाथ …………..
अष्टावक्र गुरु ने वो दिखाई, सिखाई रीत और राजा जनक ये शरीर यही कमरे में बंद, सूक्ष्म शरीर से यमपूरी पहुंचे, यमपूरी देवता ने कहा की जनक तुम मर कर नहीं आये हो, योगविद्या से आये हो फिर भी तुमने सत्संग का प्यायु खुलवाया, तुम स्वर्ग तो ईधर है तुम सीधे स्वर्ग से नहीं जा सकते हो, लेकिन मै व्यवस्था करता हूँ, मै अपने दो दूत देता हूँ | तो अस्सी नरक, रोरव  नर्क, कुंभीपात नर्क जब जनक गये तो नारकी जीव कष्ट पा रहे थे हाय कष्ट, हाय कष्ट पीड़ा | जनक अनजान होकर पूछते है क्या है ? बोले पुण्य का फल चाहते है लेकिन पुण्य नहीं करते, पाप का फल नहीं चाहते लेकिन पाप बड़ी सावधानी से करते है, किसीको पता न चले | पुण्यं फलं इन्छियंती, पुण्यं ना करोति मानवा, पाप फलं न इन्छियंती, पापं करोति यत्नतः | ऐसे लोग ये नारकीय दुःख भोग रहे है | जनक तनिक शांत हो गये | लंबी श्वास ली उस अंतरात्मा परमात्मा में विश्रांति पाकर और नारकीय जीवों पर नजर डाली | ऊँची बांची छिल गई, आखों में चमक आ गई, वे चेहरे में प्रसन्नता आ गई, जनक तुम्हारी जय हो जुग -जुग  जीओ जनक तुम्हारी जय हो ! जनक ने दूतों से पूछा ये क्या है ? बोले महाराज तुमने ब्रम्हज्ञानी गुरु का सत्संग सुना है, उनसे दीक्षा लीई है, तुमको अंतर्यामी परमात्मा का रस लेने की तरकीब है, उस रस में गोता मारकर तुमने मीठी निगाहें  डाली तो उन पापियों के पाप कट गये उनको शांति, आनंद और माधुर्य का आस्वादन हो रहा है |
सत्संगरूपी जनक के बीच हम कलजुग नारकीय जीव भोग रहे महंगाई का दुःख, पोलुशन का दुःख, बिमारियों का दुःख, शत्रुयों का दुःख न जाने क्या-क्या दुःख लेकिन जब सत्संग रूपी जनक के किसी महापुरुष के नुरानी निगाहों मे हम आते है तो हम भी स्वर्गीय सुख से भी ऊँची शांति का अहसास करते |

हरि ॐ ॐ