Category Archives: Ashram News

प्रकृति के तीन सिद्धांत

वासुदेव सर्वम् इति

आत्मा ब्रह्म स्वरूप है

अपना कर्तव्य पूरी तत्परता से समय पर पूरा करो

योगी समाज को साधना से जोड़ने की कोशिश करते हैं

संत कबीर जी का सत्संग

सदा समाधि संत की

ज्ञान के बिना पतन पक्का है मनुष्य का

ज्ञान संयुक्त तब करो

बुरी आदतों से बचो

अभ्यास योग से युक्त होना चाहिए

Tag – संत आसाराम बापू, भगवान, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, वासुदेव, आत्मा, कर्तव्य, योगी, संत कबीर, समाधि, ज्ञान, बुरी आदत, अभ्यास

प्रकृति के तीन सिद्धांत

वासुदेव सर्वम् इति

आत्मा ब्रह्म स्वरूप है

अपना कर्तव्य पूरी तत्परता से समय पर पूरा करो

योगी समाज को साधना से जोड़ने की कोशिश करते हैं

संत कबीर जी का सत्संग

सदा समाधि संत की

ज्ञान के बिना पतन पक्का है मनुष्य का

ज्ञान संयुक्त तब करो

बुरी आदतों से बचो

अभ्यास योग से युक्त होना चाहिए

Tag – संत आसाराम बापू, भगवान, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, वासुदेव, आत्मा, कर्तव्य, योगी, संत कबीर, समाधि, ज्ञान, बुरी आदत, अभ्यास

ध्यान के इस प्रयोग से भाग्य के कुअंक मिटने लगेंगे !

आरती से सात्विक वातावरण होता है

मैं भगवान का हूं और भगवान मेरे हैं

संसार का आधार स्वरूप परमात्मा है

ओमकार का उच्चारण करो

हरि ओम का उच्चारण करने से जीवन शक्ति बढ़ती है

भगवत विश्रांति में ही असली सुख

संत तुलसीदास जी का सत्संग

भगवान के नाम का जप से बुराइयां मिटती है

एक वही परमात्मा

सभी सुख के लिए जीते हैं

Tag – संत आसाराम बापू, भगवान, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, आरती, संसार, हरि ओम, भगवत विश्रांति, संत तुलसीदास, परमात्मा, सुख

बुद्धि का विकास कैसे करें

चिंता और चिंतन दोनों अलग है

चिंता से आदमी दुखी होता है

चिंतन से आदमी सुखी होता है

चिंतन करने में नजरिया चाहिए

चिंतन भगवान का करो

भौतिक और आध्यात्मिक

भौतिक नाशवान है तमोगुण की विधि करता है

भविष्य की चिंता कभी ना करो

भगवान को हमेशा धन्यवाद दो

जगत का स्वामी मेरा आत्मा होकर कर बैठा है

Tag – संत आसाराम बापू, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, चिंता, चिंतन, दुखी, सुखी, भगवान, भौतिक, आध्यात्मिक, नाशवान, तमोगुण, भविष्य, धन्यवाद, आत्मा

ये 7 बातें अपना लो , अगर अपना कल्याण करना चाहते हो तो !

अपना कल्याण करना हो तो ब्रह्म मुहूर्त में 7 बातों का चिंतन करें

सूरज उगने से पहले उठे

आत्म देव में शांत होना है

शुभ संकल्प करो

परमात्मा से मुलाकात करो

बुराई छोड़ने से आदमी भला होता है

प्रभु के नाम से हृदय पवित्र करें

ओमकार का उच्चारण करो

प्राणायाम करने से रोग नाश होते हैं

पीपल की हवा 24 घंटे ऑक्सीजन देती है

Tag – संत आसाराम बापू, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, कल्याण, ब्रह्म मुहूर्त, सूरज, आत्म देव, शुभ संकल्प, बुराई, हृदय, ओमकार, प्राणायाम, पीपल

नकली देशी घी की मिठाई से सावधान

#MereBapuNirdoshHain #ISupportAsaramBapu #AsaramBapu #SelflessServicesByBapuji

#Bapuji #AsaramBapujiIsFramed

मिठाइयों में बहुत ज्यादा मिलावट

स्वास्थ्य के लिए मिठाइयां बहुत हानिकारक

मिठाइयों के नाम पर भारतीय बाजार में लूट है

पैसे की बर्बादी है मिठाई खरीदना

मावे की मिठाइयों से बचो

देसी घी केमिकल से बनाया जाता है

लिवर और किडनी को खराब करते हैं यह बाजार का नकली देसी घी

स्वामी विवेकानंद का सत्संग

मिठाइयों की दुकान साक्षात यमदूत की दुकान

दीपावली में मिठाई खाने से परहेज करना

Tag – संत आसाराम बापू, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, मिठाइयों, मिलावट, स्वास्थ्य, भारतीय बाजार, पैसे, बर्बादी, मावे, देसी घी, केमिकल, लिवर और किडनी, स्वामी विवेकानंद, मिठाइयों, दीपावली

पिता की आज्ञा का पालन करो

बंगाल की एक कथा

भगवान तारकेश्वर बाबा की पूजा करो

पिता की आज्ञा में चलो

पिता की सेवा करो

माता पिता अगर ईश्वर प्राप्ति के रास्ते में अड़चन डालते हैं और रुकते हैं तो उनका उल्लंघन करने से आप नहीं लगता

संसार में रहकर मां-बाप की अवज्ञा करने से पाप लगता है

भगवान केवल मंदिर में नहीं होता

भगवान की प्रार्थना में बहुत ताकत

एक ही कमरे में टीबी के मरीज के साथ रहना उचित नहीं दूसरी जगह व्यवस्था करनी चाहिए

एकलव्य ने अर्जुन को भी धनुर्विद्या में पीछे किया

Tag – संत आसाराम बापू, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, बंगाल, भगवान तारकेश्वर बाबा, पिता, माता, ईश्वर, मंदिर, प्रार्थना, टीबी, एकलव्य, अर्जुन, धनुर्विद्या

#MereBapuNirdoshHain #ISupportAsaramBapu #AsaramBapu #SelflessServicesByBapuji #Bapuji #AsaramBapujiIsFramed

व्यवहार में भगवत शांति

कर्मों के फल का त्याग करने से शांति मिलती है

कामी पुरुष दुख ही पाता है

ईश्वर प्राप्ति के लिए कहीं जाने की जरूरत नहीं

योगी शांति पाते हैं

सत्संग से ही असली शांति मिलती है

राग द्वेष से ही सब दुख

भगवान कृष्ण का सत्संग

संतो के संग से ही असली शांति और सुख

मनुष्य के अंदर असीम सामर्थ्य

संसार में सारे कर्म सुख के लिए ही किए जाते हैं

Tag – संत आसाराम बापू, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, कर्मों, शांति, कामी पुरुष, योगी, राग द्वेष, भगवान कृष्ण, संतो, मनुष्य, संसार

आदि भौतिक, आदि दैविक, आध्यात्मिक सत्ता

आदि भौतिक सत्ता में हम जी रहे हैं

आदि देविक सत्ता बहुत सूक्ष्म होती है जो आंखों से नहीं दिखती

आध्यात्मिक सत्ता दोनों सत्ता ओं से सूक्ष्म

सत्संग से बहुत लाभ

मनुष्य को सद्भाव रखना चाहिए

आध्यात्मिक ऊर्जा जगाओ

अष्टावक्र महाराज ने दिया राजा जनक को सत्संग

गुरु की कृपा पचाव

प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई ने पाया रमण महर्षि के चरणों में सत्संग और शांति

जो सुख अंदर है वह बाहर नहीं है

Tag – संत आसाराम बापू, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, आदि भौतिक, आदि दैविक, आध्यात्मिक, मनुष्य, आध्यात्मिक ऊर्जा, अष्टावक्र महाराज, राजा जनक, प्रधानमंत्री मोरारजी देसाई, रमण महर्षि, अंदर, बाहर

मैं क्या करूं

जीवन सुखमय कैसे हो

ज्ञान का आश्रय लो

किसी से ईर्ष्या ना करो

किसी से धोखा ना करो

समय की धारा में सब ठीक हो जाता है

सूर्य देव की पूजा करो

अपने स्वभाव में स्थित हो

परमेश्वर सबका पोशाक

सभी ब्रह्म

किसी से राग द्वेष ना करो

Tag – संत आसाराम बापू, ॐ , सत्संग, ब्रम्ह ज्ञानी, आत्म साक्षात्कार, सुखमय, ज्ञान, आश्रय, ईर्ष्या, धोखा, समय, सूर्य देव, स्वभाव, परमेश्वर, ब्रह्म, राग द्वेष