Category Archives: Jayanti

अवतरण दिवस दुर्ग

अवतरण दिवस दुर्ग

12 अप्रैल को पूज्य संत श्री आशारामजी बापू के अवतरण दिवस व हनुमान जयंती के उपलक्ष्य पर श्री योग वेदांत सेवा समिति दुर्ग द्वारा अग्रसेन चौक दुर्ग में राहगीरों में शरबत वितरण किया गया |

IMG-20170413-WA0002 IMG-20170413-WA0003

श्री हनुमान जयंती पर रायपुर में प्रसादी व शरबत वितरण

श्री हनुमान जयंती पर रायपुर में प्रसादी व शरबत वितरण

11 अप्रैल चैत्री पूर्णिमा पर श्री हनुमान जयंती के उपलक्ष्य पर संत श्री आशारामजी आश्रम रायपुर के तत्वधान में  युवा सेवा संघ एवं महिला उत्थान मण्डल द्वारा पचपेड़ी नाका ,रायपुर में प्रसादी – शरबत व सत्साहित्य वितरण किया गया |

IMG_0042 IMG_0043 IMG_0062

Sankatmochan Hanumanastsk Path

guru22

बाल समय रबि भक्षि लियो तब तीनहुँ लोक भयो अँधियारो।

ताहि सों त्रास भयो जग को यह संकट काहु सों जात न टारो।
देवन आनि करी बिनती तब छाँड़ि दियो रबि कष्ट निवारो।
को नहिं जानत है जग में कपि संकटमोचन नाम तिहारो॥१॥

बालि की त्रास कपीस बसै गिरि जात महाप्रभु पंथ निहारो।
चौंकि महा मुनि साप दियो तब चाहिय कौन बिचार बिचारो।
कै द्विज रूप लिवाय महाप्रभु सो तुम दास के सोक निवारो।
को नहिं जानत है जग में कपि संकटमोचन नाम तिहारो॥२॥

अंगद के सँग लेन गये सिय खोज कपीस यह बैन उचारो।
जीवत ना बचिहौ हम सो जु बिना सुधि लाए इहाँ पगु धारो।
हेरि थके तट सिंधु सबै तब लाय सिया-सुधि प्रान उबारो।
को नहिं जानत है जग में कपि संकटमोचन नाम तिहारो॥३॥

रावन त्रास दई सिय को सब राक्षसि सों कहि सोक निवारो।
ताहि समय हनुमान महाप्रभु जाय महा रजनीचर मारो।
चाहत सीय असोक सों आगि सु दै प्रभु मुद्रिका सोक निवारो।
को नहिं जानत है जग में कपि संकटमोचन नाम तिहारो॥४॥

बान लग्यो उर लछिमन के तब प्रान तजे सुत रावन मारो।
लै गृह बैद्य सुषेन समेत तबै गिरि द्रोन सु बीर उपारो।
आनि सजीवन हाथ दई तब लछिमन के तुम प्रान उबारो।
को नहिं जानत है जग में कपि संकटमोचन नाम तिहारो॥५॥

रावन जुद्ध अजान कियो तब नाग कि फाँस सबै सिर डारो।
श्रीरघुनाथ समेत सबै दल मोह भयो यह संकट भारो।
आनि खगेस तबै हनुमान जु बंधन काटि सुत्रास निवारो।
को नहिं जानत है जग में कपि संकटमोचन नाम तिहारो॥६॥

बंधु समेत जबै अहिरावन लै रघुनाथ पताल सिधारो।
देबिहिं पूजि भली बिधि सों बलि देउ सबै मिलि मंत्र बिचारो।
जाय सहाय भयो तब ही अहिरावन सैन्य समेत सँहारो।
को नहिं जानत है जग में कपि संकटमोचन नाम तिहारो॥७॥

काज कियो बड़ देवन के तुम बीर महाप्रभु देखि बिचारो।
कौन सो संकट मोर गरीब को जो तुमसों नहिं जात है टारो।
बेगि हरो हनुमान महाप्रभु जो कुछ संकट होय हमारो।
को नहिं जानत है जग में कपि संकटमोचन नाम तिहारो॥८॥

दोहा

लाल देह लाली लसे अरू धरि लाल लँगूर।
बज्र देह दानव दलन जय जय जय कपि सूर॥

मत्स्य जयंती – ९ अप्रैल (भगवान श्रीहरि का मत्स्य अवतार दिन)

downloadकल्पांत के पूर्व एक बार ब्रह्मा जी के पास से वेदों को एक बहुत बड़े दैत्य ने चुरा लिया.चारों ओर अज्ञानता का अंधकार फैल गया और पाप तथा अधर्म का बोलबाला हो गया | तब भगवान ने धर्म की रक्षा के लिए मत्स्य धारण करके उस दैत्य का वध किया और वेदों की रक्षा की |
राजा सत्यव्रत को मतस्य भगवान के दर्शन
कल्पांत के पूर्व एक पुण्यात्मा राजा तप कर रहा था | राजा का नाम सत्यव्रत था | सत्यव्रत पुण्यात्मा तो था ही, बड़े उदार हृदय का भी था | प्रभात का समय था | सूर्योदय हो चुका था | सत्यव्रत कृतमाला नदी में स्नान कर रहा था | उसने स्नान करने के पश्चात जब तर्पण के लिए अंजलि में जल लिया, तो अंजलि में जल के साथ एक छोटी-सी मछली भी आ गई | जैसे ही सत्यव्रत ने मछली को नदी के जल में छोड़ना चाहा |

मछली बोली, ‘राजन! जल के बड़े-बड़े जीव छोटे-छोटे जीवों को मारकर खा जाते हैं | अवश्य कोई बड़ा जीव मुझे भी मारकर खा जायेगा | कृपा करके मेरे प्राणों की रक्षा कीजिए |’ सत्यव्रत के हृदय में दया उत्पन्न हो उठी | उसने मछली को जल से भरे हुए अपने कमंडलु में डाल लिया | आश्चर्य! एक रात में मछली का शरीर इतना बढ़ गया कि कमंडलु उसके रहने के लिए छोटा पड़ने लगा | इसी तरह राजा जिस भी पात्र में उस मछली को रखते वही छोटा हो जाता और मछली का आकार बढता जाता |’

तब सत्यव्रत ने मछली को निकालकर एक सरोवर में डाल किया, किंतु सरोवर भी मछली के लिए छोटा पड़ गया | इसके बाद सत्यव्रत ने मछली को नदी में और फिर उसके बाद समुद्र में डाल किया | आश्चर्य! समुद्र में भी मछली का शरीर इतना अधिक बढ़ गया कि मछली के रहने के लिए वह छोटा पड़ गया | अतः मछली पुनः सत्यव्रत से बोली, ‘राजन! यह समुद्र भी मेरे रहने के लिए उपयुक्त नहीं है | मेरे रहने की व्यवस्था कहीं और कीजिए | ‘

सत्यव्रत विस्मित हो उठा | उसने आज तक ऐसी मछली कभी नहीं देखी थी | वह विस्मय-भरे स्वर में बोला, ‘मेरी बुद्धि को विस्मय के सागर में डुबो देने वाले आप कौन हैं? आपक का शरीर जिस गति से प्रतिदिन बढ़ता है, उसे दृष्टि में रखते हुए बिना किसी संदेह के कहा जा सकता है कि आप अवश्य परमात्मा हैं | यदि यह बात सत्य है, तो कृपा करके बताइए के आपने मत्स्य का रूप क्यों धारण किया है?’ सचमुच, वह भगवान श्रीहरि ही थे |

मत्स्य रूपधारी श्रीहरि ने उत्तर दिया, ‘राजन! एक दैत्य ने वेदों को चुरा लिया है | जगत में चारों ओर अज्ञान और अधर्म का अंधकार फैला हुआ है | मैंने हयग्रीव को मारने के लिए ही मत्स्य का रूप धारण किया है | आज से सातवें दिन सारी पृथ्वी पानी में डूब जाएगी | जल के अतिरिक्त कहीं कुछ भी दृष्टिगोचर नहीं होगा | आपके पास एक नाव पहुंचेगी, आप सभी अनाजों और औषधियों के बीजों को लेकर सप्तॠषियों के साथ नाव पर बैठ जाइयेगा | मैं उसी समय आपको पुनः दिखाई पड़ूंगा और आपको आत्मतत्त्व का ज्ञान प्रदान करूंगा |’

पृथ्वी पर प्रलय का आना

सत्यव्रत उसी दिन से हरि का स्मरण करते हुए प्रलय की प्रतीक्षा करने लगे | सातवें दिन प्रलय का दृश्य उपस्थित हो उठा.उमड़कर अपनी सीमा से बाहर बहने लगा | भयानक वृष्टि होने लगी | थोड़ी ही देर में जल ही जल हो गया | संपूर्ण पृथ्वी जल में समा गई | उसी समय एक नाव दिखाई पड़ी | सत्यव्रत सप्तॠषियों के साथ उस नाव पर बैठ गए, उन्होंने नाव के ऊपर संपूर्ण अनाजों और औषधियों के बीज भी भर लिए |

नाव प्रलय के सागर में तैरने लगी | प्रलय के उस सागर में उस नाव के अतिरिक्त कहीं भी कुछ भी नहीं दिखाई दे रहा था | सहसा मत्स्यरूपी भगवान प्रलय के सागर में दिखाई पड़े | सत्यव्रत और सप्तर्षिगण मतस्य रूपी भगवान की प्रार्थना करने लगे,’हे प्रभो! आप ही सृष्टि के आदि हैं, आप ही पालक है और आप ही रक्षक ही हैं | दया करके हमें अपनी शरण में लीजिए, हमारी रक्षा कीजिए |

सत्यव्रत और सप्तॠषियों की प्रार्थना पर मत्स्यरूपी भगवान प्रसन्न हो उठे | उन्होंने अपने वचन के अनुसार सत्यव्रत को आत्मज्ञान प्रदान किया, बताया,’सभी प्राणियों में मैं ही निवास करता हूं | न कोई ऊंच है, न नीच | सभी प्राणी एक समान हैं | जगत नश्वर है | नश्वर जगत में मेरे अतिरिक्त कहीं कुछ भी नहीं है | जो प्राणी मुझे सबमें देखता हुआ जीवन व्यतीत करता है, वह अंत में मुझमें ही मिल जाता है |

मत्स्य रूपी भगवान से आत्मज्ञान पाकर सत्यव्रत का जीवन धन्य हो उठा | वे जीते जी ही जीवन मुक्त हो गए | प्रलय का प्रकोप शांत होने पर मत्स्य रूपी भगवान ने उस दैत्य को मारकर, उससे वेद छीन लिए | भगवान ने ब्रह्मा जी को पुनः वेद दे दिए |