Category Archives: Holi

रायपुर आश्रम में होली पूर्णिमा

रायपुर आश्रम में होली पूर्णिमा 

23 मार्च  को होली पूर्णिमा पर संत श्री आशारामजी आश्रम रायपुर (छ.ग.) में साधको ने  गुरु पूजन ,माला पूजन ,जप , भजन-कीर्तन व वैदिक रीती से होलिका दहन कार्यक्रम किया गया |

DSCN6842 DSCN6854 DSCN6864 DSCN6881 DSCN6900 DSCN6996

होली के दिन हनुमान जी के पूजा का विशेष

hanumanjiहोली के दिन हनुमान जी के पूजा का विशेष विधान है, हो सके तो करना | पूजा का मतलब यह जरूरी नहीं के हनुमान जी के आगे दिया जलाये तब ही वे प्रसन्न होंगे |

“श्रीगुरु चरण सरोज रज, निज मनु मुकुर सुधारि बरनउ रघुवर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि”,

” मनोजवं मारुततुल्य वेगं जितेन्द्रियं बुद्धिमतां वरिष्ठं | वातात्मजं वानरयूथ मुख्यं श्री राम दूतं शरणं प्रपद्ये || ”

ऐसी प्रार्थना कर दी, वे राजी हो जायेंगे | होली के दिन एक बार जरूर कर लें, बहुत लाभ होगा |

होली के दिन शास्त्रों में लक्ष्मी माता की पूजा का भी विधान बताया गया है | वह कपूर का दिया जलाकर करें | थोड़ा सा ही कपूर जलाये | होली का पर्व दरिद्रता का नाश करनेवाला पर्व है |

– श्री सुरेशानंदजी

‘होली’ अर्थात हो… ली… – पूज्यपाद संत श्री आशारामजी बापू

bapuji2

मंगलमय ईश्वर को जानकर आप जो कुछ करते है वाह मंगलमय हो जाता है |

होली: हो…ली… अर्थात जो हो गया | जो हो गया उसे भूल जाओ | निंदा हो ली सो हो ली, प्रशंसा हो ली सो हो ली | हो…ली… जो हो गया सो हो गया | तुम तो रहो मस्ती और आनंद में |

होली का यह उत्सव बड़ा प्राचीन उत्सव है | पहले इस होलि के उत्सव में, वसंतोत्सव में नय गेहूँ, नये  जौ आदि की यज्ञ में आहुतियाँ दी जाती थी फिर अन्न ग्रहण करते थे |  आज भी कच्चे चने जी भूने जाते है उसे ‘होला’ बोलते हैं | यह ‘होला’ मानो उसी प्राचीन ‘होली’ का प्रतिक है |

होली एक ऐसा अनूठा त्यौहार हैं जिसमें गरीब की संकीर्णता और आमिर का अहं दोनों किनारे रह जाते है | दबा हुआ मन एवं अहंकारी मन, दूषित मन और शुद्ध मन – आज ये सारे मन ‘अमन’ होकर मालिक के रंग में रमने के लिए मैदान में आ जाते है |

इस ‘होली’ ने न जाते कितने टूटे हुए दिलों को जोड़ा है और न जाने कितने सूखे दिल रंगे हैं, भिगोये है | मनोवैज्ञानिक कहते है कि मनुष्य को कभी-कभी ‘फ्री सोसायटी’ मिलनी चाहिए | एकदम बंधनमुक्त जो ‘फ्री सोसायटी’ की आवश्यकता बताते हैं, उन्हें हम धन्यवाद देते हैं लेकिन हमारी भारतीय संस्कृति में ‘फ्री सोसायटी’ की आवश्यकता नहीं बतायी गयी किन्तु इस आवश्यकता को पूरी करने के लिए होलि का उत्सव ही व्यवस्थित चल रहा है | होलि का उत्सव मन की स्वतंत्रता प्रदान करता है |

जब वैदिक ढंग से होली मनायी जाती थी उस ज़माने में मानसिक तनाव-खिंचाव आदि नहीं होते थे किंतु आज जहरीले रंगों के प्रयोग, शराब आदि पीने-पिलाने एवं कीचड़ आदि उछालने से होली का रूप बड़ा विकृत हो गया है | जिसका मन खुला होता है उस पर आसुरी वृत्ति, राक्षसी वृत्ति का प्रभाव नहीं पड़ता है किंतु जो दबा-सिकुड़ा रहता है, भयभीत रहता है उसी पर दुसरे का दबाव आता है और उसीका शोषण होता है | अत: ब किसीसे भयभीत हो, न किसीको भयभीत करो | यह मुक्ति देने का और मुक्त होने का दिन है | आप भी मुक्त होकर हंसिए-खेलिए और दूसरों को भी हँसने-खेलने दीजिए |

वसंत इन्नु रत्नयो: ग्रीष्म इन्नु रत्नय: |

वर्षाSपिन्नु: शरदो: हेमंत: शिशिर: इन्नु: रत्नय: ||

यह सामवेद का मंत्र है जिसका अर्थ है निश्चय ही वसंत रमणीय हो, निश्चय ही ग्रीष्म रमणीय हो, निश्चय ही वर्षा और उसके पीछे के शरद, हेमंत और शिशिर हमारे रमणीय हो |

मनुष्य परिस्थितियों का दास नहीं, वरन स्वामी है | परिस्थितियाँ मनुष्य का निर्माण नहीं करती अपितु मनुष्य परिस्थितियों का निर्माण करता है, इसलिए शुभ संकल्प करके आगे बढना चाहिए |

वेद सदैव हममे पौरुष का फल जगाने के लिए ऐसी व्यवस्था उत्सव के रूप में कर देते है ताकि हम छोटा-बड़ा, सुख-दुःख, मिलना-बिछुड़ना आदि सब कल्पित है; केवल एक आनंदस्वरूप आत्मा ही सत्य है, इस सत्य को जान सके, इस सत्य के आनंद को, सत्य के रस को, सत्य के माधुर्य को पा सकें एवं मिथ्या आडबर, मेरे-तेरे, छोटे-बड़े के भेद को मिटाकर एक साथ आनंदित होने का अवसर पा सके |

होली निश्चय ही हमारे जीवन को अनेक पीडाओं से बचाकर मुस्कराहट की ओर ले आती है |

एक राक्षसी ने तप करके शिवजी से वरदान तो पा लिया था कि ‘यह किसी भी बालक को इच्छानुसार ग्रहण कर सकेगी’ लेकिन शिवजी ने यह शर्त भी रख दी थी कि ‘ जो होली के दिन नि:शंक होकर नाचेगा-कूदेगा, उत्सव मनायेगा, आनंदित होगा और कुछ भी बोलने में संकोच नहीं करेगा ऐसा फक्कड मनुष्य और उसकी संतान तेरे चुगल में कमी नहीं आयेगी |’  यह कथा चाहे समझाने के लिए हो या घटित हो लेकिन इतना तो अवश्य समझना चाहिए कि अपने चित्त को संशयों से, डर से और सिकुडान से बाहर ले आना चाहिए |

अनेक विघ्न-बाधाओं से जूझते रहने पर भी प्रहलाद की श्रद्धा नहीं डिगी | अनेक पीड़ाओ के बीच भी मुस्कराकर जीने की कला का नाम है प्रहलाद | विघ्न-बाधा एवं मुसीबतों के बीच तथा श्रद्धाहिन व्यक्तियों के दबाववाले वातावरण में रह सके – उसका नाम है प्रहलाद | हम अदितिपुत्र देवों के उपासक है फिर भी दैत्यपुत्र प्रहलाद से हमे बहुत कुछ सीखने को मिलता है |

पिता हिरण्यकशिपु भगवान के नाम से भी चिढ़ता था | वैदिक रीती-रिवाजों का ध्वंस करता था | हिरण्यकशिपु अर्थात जो स्वर्ग के पीछे, धन के पीछे अधी दौड़ लगाये | शांति, मुक्तिदायक परमात्मा का जप न तो स्वयं करे, न ही किसीको करने दे – ऐसे हिरण्यकशिपु पिता के घर जन्मा है प्रहलाद फिर भी आनंदित और आहलादित रहता है |

एक बार पिता ने पुत्र प्रहलाद को अपनी गोद में बैठाते हुए कहा, ‘ पुत्र ! मैं तुझे इतना-इतना रोकता-टोकता हूँ फिर भी तू भगवान विष्णु की भक्ति नहीं छोड़ता… आखिर बात क्या है ?’

तब प्रहलाद ने कहा “पिताजी ! आप पूछते ही है तो एक कथा सुनिये | एज राजा ने बड़ा परिश्रम करके, नौ-दस महीने तक मेहनत करके एक महल बनाया और वह राजा महल में रहने के लिए आया किंतु उस महल में एक मच्छर ‘भूँSSS भूँSSS..’ करने लगा तो क्या राजा महल छोडकर भाग जायेगा?”

हिरण्यकशिपु : “हरगिज नहीं |”

प्रहलाद “ “ऐसे ही यह जीवात्मा माता के गर्भ में नौ-दस महीने रहकर, अपना शरीररूपी नौ द्वारवाला महल बनता है | फिर उस महल में रहकर आनंदस्वरूप आत्मसुख को, ईश्वर को पाने का यत्न करता है तो आपके जैसा मच्छर यदि ‘भूँSSS भूँSSS..’ करने लगे तो मैं भक्ति छोड़ दूँ क्या?”

कितनी खरी सुना दी उस दैत्यपुत्र ने ! किंतु उस क्रूर स्वभाववाले हिरण्यकशिपु को हुआ कि ‘इतना डाँटने – फटकारने पर भी प्रहलाद नहीं मानता, अत: उसे मृत्युदंड दिया जाना चाहिए |’ यह सोचकर उसने एक षडयंत्र रचा |

उसकी बहन होलिका को वरदान था कि अमुक मंत्र जपकर वाह अग्नि के भीच भी बैठे तो उसे अग्नि नहीं जलायेगी | अत: होलिका को उह काम सौंपा कि “ प्रहलाद को गोद में लेकर अग्नि में बैठ जा | तू तो जलनेवाली नहीं है और प्रहलाद जल मरेगा तो मेरा सिरदर्द मिट जायेगा |”

व्यवस्था की गयी | होलिका प्रहलाद को गोद में लेकर बैठ गयी लेकिन होलिका जल मरी और प्रहलाद बाख गया | नीच वृत्तिवाले जलते रहते है और प्रहलाद जैसे भक्त उस अग्निपरीक्षा से भी पार हो जाते है |

प्रहलाद विश्व का ऐसा प्रथम नागरिक था जिसने पिता के ही आगे सत्याग्रही होकर दिखाया | कितना राज्यबल ! कितनी कूटनीति का बल ! फिर भी प्रहलाद ने सत्य का आगह नही छोड़ा ‘जब एक ईश्वर ही सत्य है तो उसीको पाउँगा | वाह ईश्वर ही प्राणीमात्र का आधार है | मैं उसीकी भक्ति में अडिग रहूँगा | पिताजी ! आपको जो करना हो, करे | पिछले जन्म में भी न जाने कौन मेरा पिता था और में किसका पिता था यह मैं नहीं जानता लेकिन मुझमे और आपमें, नर-नारी के अत:करण में जिसकी चेतना कार्य कर रही है, मैं उस नारायण की ही शरण में रहूँगा |”

पिता प्रहलाद को जितना ही मुसीबतों के बीच डालता है  उतना ही वह सत्याग्रह में दृढ़ रहता है | कितनी दृढ निष्ठा है प्रहलाद में !

होलि का उत्सव हमे यही पावन संदेश देता है कि हम भी अपने जीवन में आनेवाली विघ्न-बाधाओं का धैर्यपूर्वक सामना करें एवं कैसी भी विकट परिस्थिति हो किंतु प्रहलाद की तरह ही अपनी श्रद्धा को भी अडिग बनाये रखे | जहरीले रंगो की जगह परम शुद्ध, परम पावन परमात्म-नामसंकीर्तन के रंग में रंगे-रंगाये एवं छोटे-बड़े, मेरे-तेरे के भेदभाव का भूलकर सभी में उसी एक सत्यस्वरूप, चैतन्यस्वरूप परमात्मा को निहारकर अपना जीवन धन्य बनाने के मार्ग पर अग्रेसर हो |

——————–ॐ ॐ ————————

 

होली पर्व का संदेश (होलीकोत्सव दिनांक – २३ मार्च २०१६)

maagmass1

संत श्री आशारामजी बापू के सत्संग-प्रवचन से

होली हुई तब जानिये, संसार जलती आग हो |

सारे विषय फीके लगें, नहीं लेश उनमें राह हो |

हो शांति कैसे प्राप्त निश दिन, एक यह ही ध्यान हो |

संसार दुःख कैसे मिटे, किस भांति से कल्याण हो ||

प्रहलाद इस बात को जानते थे तभी अनेक विघ्न-बाधाओं से जूझते रहने पर भी ईश्वर में उनकी श्रद्धा नहीं डिगी | पर्वतों से उन्हें धकेला गया… सागर में डुबोया गया, हाथियों से कुचलवाने का प्रयत्न किया आया ….और भी न जाने कितने-कितने प्रयास किये गये उनको मरवाने के, किंतु उन्होंने परमेश्वर का स्मरण न छोड़ा | अनेक विघ्न-बाधाओं एवं पीडाओ के बीच भी वे मुस्कराते रहे |

प्रहलाद को गोद में लेकर अग्नि में बैठ गयी होलिका लेकिन वाह स्वयम जल मरी जबकि प्रहलाद का बाल बाँका न हुआ |

नीच वृत्तिवालों के पास यदि आग में न जलने का सामर्थ्य हो तो भी वे जलते रहेते है और प्रहलाद जैसे भक्त उस अग्निपरीक्षा से भी पार हो जाते है |

अनेक कष्टों-मुसीबतों के बीच भी मुस्कराकर जीने की कला जिनके पास है , उनका नाम है प्रहलाद |

होली का उत्सव हमे यही संदेश देता है कि हम भी अपने जीवन में आनेवाली विघ्न-बाधाओं का धैर्यपूर्वक सामना करें एवं कैसी भी बिकट परिस्थितियाँ आये किंतु प्रहलाद की तरह हो ईश्वर में अपनी श्रद्धा को अडिग बनाये रखे |

आज कल इस पवित्र उत्सव में नशा करना, विभत्स गालियाँ देना व रासायनिक रंगो से प्रयोग की कुप्रथाएँ प्रचलित हो गई हैं |

प्यालियाँ ही अगर पीना हो, तो प्रभु की प्यालियाँ पीजिए | होली ही अगर खेलना हो, तो संत सम्मत खेलिए ||

हमारे स्वास्थ्य पर रंगों का अदभुत प्रभाव पड़ता है | जिस प्रकार शरीर को स्वस्थ रखने के लिए विभिन्न तत्त्वों की आवश्यकता होती है , उसी प्रकार रंगो की भी आवश्यकता होती है | होली के अवसर पर प्रयुक्त प्राकृतिक रंग शरीर की रंग संबंधी न्यूनता को पूर्ण करते है , किन्तु सावधान ! यहाँ रंगों का आशय जहरीले या रासायनिक रंगो से नहीं है |

शास्त्रकारों ने पलाश (टेशू या ढाक ) के फूलों के रंग का ही विधान किया है | यदि इस रंग में रंगा हुआ कपड़ा भिगोकर शरीर पर डाल लिया जाय तो वाह रंग शरीर के रोमकूपों द्वारा आंतरिक स्नायुमंडल पर अपना प्रभाव डालता है तथा संक्रामक रोगों से रक्षा करता है |

एतत्पुष्पं कफं पित्तं, कुष्ठं दाहं तृषामपि |
वातं स्वेदं रक्तदोषं, मूत्रकृच्छं च नाशयेत् ||

ढ़ाक के पुष्पों का रंग कफ,पित्त, कुष्ठ, दाह, मूत्रकृच्छ, वायु तथा रक्तदोष का नाश करता है | शीत ऋतू के बाद ग्रीष्म ऋतू का आगमन होता है | ग्रीष्मकाल में सूर्य की किरणें हमारी त्वचा पर सीधी पड़ने के कारण हमारे शरीर में गर्मी बढती है | अधिक ताप के कारण त्वचा के रोग होने की संभावनाएँ बढ़ जाती है |

शरीर में गर्मी बढ़ने से स्वभाव में खिन्नता आ सकती है, गुस्सा बढ़ सकता है | इन मानसिक रोगों से बचाव करने में इन रंगो की महत्वपूर्ण भूमिका है |

होलिकात्सव में प्रयुक्त पलाश के फूलों का प्राकृतिक नारंगी रंग रक्तसंचार की वृद्धि करता है, मांसपेशियों को स्वस्थ रखने के साथ-साथ मानसिक शक्ति व इच्छाशक्ति को बढाता है |

नारंगी रंग की बोतल में सूर्य-किरणों में रखा हुआ पानी खाँसी, बुखार, न्यूमोनिया, श्व्स्नरोग, गैस बनना, ह्रदयरोग, अजीर्ण आदि रोगों में लाभदायक है | इससे रक्त के कणों की कमी की पूर्ति होती है | इसका सेवन माँ के स्तनों में दूध की वृद्धि करता है | ये प्राकृतिक रंग त्वचा की सुरक्षा करते है तथा उष्मीय ताप कम करते है | इससे शरीर की गरमी सहन करने की क्षमता बढ़ जाती है  और सूर्य के तीक्ष्ण किरणों के विकृत प्रभाव से रक्षा होती है |

भारतीय संस्कृति का यह हर्षोल्लास से युक्त त्यौहार मं को प्रसन्न व शरीर को तन्दुरुस्त रखता है | इस पावन पर्व पर जहरीले रासायनिक रंगो से अपने स्वास्थ्य पर कुठाराघात न करें बल्कि उक्त प्राकृतिक रंगो से रंगे – रंगाये |

केमिकल के जहरीले रंगो से अपने आँखों को त्वचा को, मुँह को बचाये व पलाश के पुष्पों के रंग से अपनी त्वचा को थोडा रंगे ताकि शरीर के सप्तधातु व सप्तरंगो का संतुलन सुंदर बना रहे, ग्रीष्म ऋतू की गर्मी झेलने की आपकी क्षमता बढे व बनी रहे | इन दिनों नींद व आलस्य की अधिकता होती है इसलिये ऋषियों ने कूदने-फांदने और हल्ला-गुल्ला करने का यह होलिकात्सव बनाया ताकि सर्दी में एकत्रित नादियों का कफ गर्मी से पिघल जाये और जठरा में आ जाये | आलस्य से नींद बढती है, पाचनतंत्र मंद होता है |

कूदना-फाँदना व कफनाशक चना,धानी आदि का प्रयोग करना हितावह है | बस, पाँच-सात दिन सावधानी रही तो पुरे चार मास के लिये स्वास्थ्य की सुरक्षा | प्रत्येक ऋतू-परिवर्तन में आरम्भ के पाँच-सात दिन संभल जाये तो स्वास्थ्य सुंदर बना रहता है | खाँसी, दमा, सर्दी, कफजनित तमाम बिमारियों की जड़े उखाडकर फेंक दो | इस प्रकार के आहार विहार से और थोड़े- से पलाश (केसुड़े के पुष्प) के रंग से अपने सप्तधातु व सप्तरंगों को संतुलित कर दो |

सुरत आश्रम में उसी रंग से साधको को रंगा जाता है | होली के शिबिर में आनेवाले साधक को नि:शुल्क थोडा रंग घर ले जाने के लिए दिया जायेगा ताकि उनके कुटुम्बी व पड़ोसी भी स्वस्थ और सुखी रहे |

रायपुर ( छ.ग.) में होली पूर्णिमा

5 मार्च होली पूर्णिमा पर संत श्री आशारामजी आश्रम  रायपुर  ( छ.ग.) में पूर्णिमा दर्शन के साथ सामूहिक माला पूजन व वैदिक रीती  मंत्रो के साथ होलिका दहन किया गया |

DSC09869 DSC09871 DSCN9718 DSCN9760