Category Archives: Ekant

Secret Sadhna for Self Realization in 6 Months

secret sadhna
सत्संग के मुख्य अंश :

पूज्य श्री ने ६ महीने में ईश्वर प्राप्ति के २ तरीके बताये हैं:-

* पहिला — नाभि में उच्चारण ३ से ७ बार करें और मन से त्रिभुज बना लें फिर मन से उसमे ज्योत जल रही है, और ये ५ मंत्र बोले-

* ॐ अविद्यां जुहोमि स्वाहा

* ॐ अस्मितां जुहोमि स्वाहा

* ॐ रागं जुहोमि स्वाहा

* ॐ द्वेषं जुहोमि स्वाहा

* ॐ अभिनिवेषं जुहोमि स्वाहा

* दूसरा – रात में सीधे लेट जाये और पैर के अंगूठे से लेकर शौच इन्द्रिय तक पृथ्वी का अंश है

* शौच इन्द्रिय से नाभि तक जल का अंश है

* नाभि से थोड़ा ऊपर तक (जठराग्नि) तेज का अंश है

* ह्रदय वायु का अंश है

* कंठ से ऊपर तक आकाश का अंश है

* पृथ्वी अंश को जल में विलय करें, जल को तेज में, तेज को वायु में, वायु को आकाश में और आकाश को मन यानि चित्ताकाश में, चित्ताकाश को चिदाकाश में लीन करें, वही परमात्मा है|

* ऐसा सोचें, मन ईश्वर में लीन करता हूँ, मन भगवान के शरणागत करता हूँ, मैं ईश्वर का हूँ |

Manushya Tan Iswarprapti Ka Sadhan

jagat hai hi nahi
Satsang ke Mukhya Ans :

* He! Ramji

*  Jo atmarupi ist ko tyag ker aur kisipadart ki vancha kerta hai vah anist ke baad anist paker ek ke baad ek narak se dusre narak ko pata hai.

* Jagat ki chijen tiki mili aur chu. mili tiki aur chu parmatma hi eisa hai ki busvahan se punragaman nahi hota ,..

* Apne suddh mai me tiko.

* He! Rajan Sankalp vikalp jo uthte hain unme mat isthit ho.

* Mai kaun hun ? usko khojo , sankalp-vikalp me mat fanso .iswar kya hai ? maya kya hai ? aur mai kya hun ? isko khojo.

* Khojat khojat kabiro gayo harai khojta khojta kho gaya jisko khojta tha vahi ho gaya. esi unchi isthiti , isi ko bolte hain brahmi isthiti..

Anteratma Sab Janta Hai

antaratma
Satsang ke mukhya ans :

* He Ramji , agyani mere liye jo kuch bolte hain vo mei sab janta hun.parantu mera daya ka svabhav hai isiliye mei chahta hun ki kisi prakar ve narak rup sansar se nikle

*He Ramji , mei jo tumko updesh kerta hun vo kisi matlab se nahi kerta hun

*Sant ke vachan ki avhelna kerna apna durbhagya bulana hai

* Jisko Atmasukh mil jata hai vo bhogon ki icha nahi kerta

* Karma Pradhan visva kari rakha , jo jaisa kera vaisa fal chakha..

Subh asubh karm ka fal avasya bhugtna hi padta hai.