Category Archives: Tatvik Satsang

वास्तविक सुख का रहस्य – पुराना दुर्लभ सत्संग

asharam bapu,asaram ji,om,hindu,संत आसाराम बापू, ब्रह्मज्ञानी, मुक्ति,  अंतःकरण, ईहीक विद्या, ब्रह्मा विद्या, सुकरत, ज्ञान, विज्ञान, परमात्मा, भगवान, ईश्वर प्राप्ति

  • ब्रह्मज्ञानी ही जीवन मुक्त पुरुष
  • युक्ति से मुक्ति
  • ज्ञान से अंतःकरण की शुद्धि
  • दों प्रकर की विद्या : ऐहीक विद्या और ब्रह्म विद्या
  • सुकरात के जीवन का एक किस्सा
  • ज्ञान-विज्ञान परमात्मा
  • परमात्मा सबका  दाता
  • भगवान के स्वभाव को उजागर करते हुए ब्रह्मज्ञानी
  • ईश्वर प्राप्ति की ओर
  • क्षमा करो भगवन्

निज ज्ञान का आदर – दुर्लभ सत्संग

ज्ञान,asharam bapu,asaram ji,om,hindu,spiritual,संत आसाराम बापू, ब्रम्ह ज्ञानी, मनुष्य, परमात्मा, शरीर, आत्मा, वैराग्य, पति, पत्नी, वस्तुओं , ईश्वर

  • मनुष्य का विवेक
  • सब परमात्मा का स्वरुप
  • शरीर में ही स्वस्थ मन तथा आत्मा का निवास
  • शरीर को मैं मानना ही मूर्खता
  • परमात्मा सबका सहारा
  • परमात्मा – आनंद का सागर
  • संसार से वैराग्य
  • पति-पत्नी का मधुर व्यवहार
  • प्राप्त वस्तुओं का सदुपयोग
  • ईश्वर की सुन्दर व्यवस्था
  • ईश्वर सत्य है

निश्चिन्त होते जाओ – मौन साधना – संत श्री आशारामजी बापू

tatvik,asharam bapu,satsang,tatvik satsang,dhyan,meditation,spiritual

तात्विक सत्संग : –

निश्चिन्त, निर्भिक और आत्मियता से जियो। ये तिन सूत्र जानो …।

जो तुम्हे दुर्बल बनाये उसे त्यागो ।

मुक्तानंद स्वामी और भक्त की कथा |

विश्रांति का प्रयोग |

भगवान किसी देश, काल, वस्तु, अवस्था मे है ऐसी भ्रमणा छोड दो ।

सूक्ष्म अहंकार क्या है?

श्वासों-श्वास का तारिका।

शत्रु-विरोधियों को भगवान प्रेरित करते हैं?

कुत्ते के पिल्लो को कौन प्रेरित करते हैं?