Category Archives: shivir

कृष्णा देवी के सानिध्य में रायपुर पर विद्यार्थी शिविर

Copy of 11 copy

साध्‍वी कृष्‍णा बहन के सान्निध्‍य में विद्यार्थी शिविर 22-24 दिसं. एवं जाहिर सत्‍संग 25 दिसं.को

वी.आई.पी. रोड स्थित आश्रम में होगा भव्‍य आयोजन

25 दिसंबर को आश्रम परिसर में हषोल्‍लासपूर्वक मनाया जाएगा ‘तुलसी पूजन

अहमदाबाद के सती अनुसुया आश्रम की निवासी साध्‍वी कृष्‍णा बहन के सान्निध्‍य में विद्यार्थी विद्यार्थी  उज्‍ज्‍वल भविष्‍य निर्माण शिविरों का आयोजन 22 से 23 दिसंबर (छात्राओं के लिए) एवं 24 से 25 दिसंबर (छात्रों के लिए) लवकुश वाटिका वी.आई.पी. रोड स्थित आश्रम में किया गया है । 25 दिसंबर को आश्रम परिसर में दोपहर 3:30 बजे से आश्रम परिसर में श्रद्धालुओं को साध्‍वी कृष्‍णा बहन के श्रीमुख से नि:सृत गीता, भागवत सत्‍संग श्रवण करने का सुअवसर प्राप्‍त होगा जिसमें छत्‍तीसगढ़ के हजारों श्रद्धालुओं के शामिल होने की संभावना है । साथ ही आश्रम परिसर में 25 दिसंबर को ‘तुलसी पूजन दिवस’ हर्षोल्‍लासपूर्वक मनाया जाएगा जिसमें साध्‍वी कृष्‍णा बहन के मार्गदर्शन द्वारा तुलसी माता की सामूहिक पूजा-अर्चना कर प्रदक्षिणा की जाएगी । बाल्‍यकाल के संस्‍कार एवं चरित्र-निर्माण ही मनुष्‍य के भावी जीवन की आधारशिला है जिससे विद्यार्थियों की शारीरिक, मानसिक, बौद्धिक, नैतिक तथा आध्‍यात्मिक शक्तियों का विकास होता है । इस परिकल्‍पना को ध्‍यान में रखकर विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास के उद्देश्‍य से आश्रम परिसर में कक्षा 6वीं से 11वीं के विद्यार्थियों हेतु विद्यार्थी उज्‍ज्‍वल भविष्‍य निर्माण शिविरों का आयोजन किया जा रहा है जिसमें साध्‍वी कृष्‍णा बहन विद्यार्थियों को सफलता की कुंजियां, संस्‍कृति का आदर, ध्‍यान, योग एवं प्राणायाम द्वारा शक्तियों का विकास, आदर्श चरित्र का निर्माण, भारतीय संस्‍कृति की परम्‍पराओं कामहत्‍व सिखाएंगी । गुरुवार 25 दिसंबर को विद्यार्थियों के साथ-साथ बड़े श्रद्धालुओं को भी साध्‍वी कृष्‍णा बहन के सान्निध्‍य में सत्‍संग श्रवण, भजन-कीर्तन, ध्‍यान का सौभाग्‍य प्राप्‍त होगा । तुलसी का स्‍थान भारतीय संस्‍कृति में पवित्र और महत्‍वपूर्ण है । तुलसी को माता कहा गया है । यह माँ के समान सभी प्रकार से हमारा रक्षण व पोषण करती है । तुलसी पूजन, सेवन व रोपण से आरोग्‍य-लाभ, आर्थिक लाभ के साथ ही आध्‍यात्मिक लाभ भी होते हैं । तुलसी पूजन से बुद्धिबल, मनोबल, चारित्र्यबल व आरोग्‍यबल बढ़ेगा, आत्‍महत्‍याओं पर विराम लगेगा और लोगों को भारतीय संस्‍कृति के इस सूक्ष्‍म धर्म-विज्ञान का लाभ मिलेगा । इस परिप्रेक्ष्‍य में 25 दिसंबर को आश्रम परिसर में तुलसी पूजन दिवस मनाया जाएगा । उक्‍त आयोजनों में अधिक से अधिक श्रद्धालुओं द्वारा शामिल होने की अपील शिविर आयोजन समिति द्वारा की गई है।