Category Archives: Suprachar

धमतरी में साध्वी कृष्णा देवीजी का सत्संग

             “भक्ति भाव से मिटते हैं जीवन के दोष”- साध्वी कृष्णा देवी

धमतरी की पुरानी मंडी में साध्वी कृष्णा देवी जी के सान्निध्य में चल रहे त्रिदिवसीय भागवत गीता सत्संग में सैकड़ों भक्तों ने प्रवचन का लाभ लिया | साध्वी जी ने श्रीमद् भागवत व रामायण के प्रसंगों का श्रवण कराया | जिसमें विशेषकर रामजी द्वारा भक्त शबरी की नवधा भक्ति का वर्णन किया व जीवन में भाव भक्ति पर जोर दिया |

साध्वी जी ने बताया “जैसे किसान को अनाज का भाव मिलने उसे बेचने से घर से इकठ्ठा अनाज चले जाने से घर की सफाई हो जाती है, नदी में बहाव आने से किनारे की सफाई हो जाती है वैसे ही भक्तों के जीवन में भक्तिभाव आने से जीवन के दोष मिट जाते हैं |”

सत्संग के दौरान में आंधी और तूफ़ान के बीच भी श्रोता डटे रहे व भजनों पर खूब झूमें| विशेषकर देवी जी ने जीवन में सच्चे ब्रह्मज्ञानी सतगुरु का महत्व बताया व अपने सद्गुरु संत श्री आशाराम जी बापू के ऊपर चल रहे का खुलासा भी किया | उन्होंने  बताया कि – “सिर्फ बापू जी पर ही नहीं अपितु सनातन संस्कृति रक्षक साधु संतों पर ऐसे घिनौने षडयंत्र चल रहे हैं |जिसमें साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, स्वामी नित्यानंद, कृपालु जी महाराज, कांची कोटि पीठ के शंकराचार्य श्री जयेंद्र सरस्वती, संत केशवानंद जी जैसे संस्कृति रक्षार्थ आगे आने वाले संतो को किसी ना किसी झूठे केसों में फंसाया गया|”

IMG-20150528-WA0023IMG-20150528-WA0113IMG-20150528-WA0150IMG-20150528-WA0162IMG-20150528-WA0025

महिला दिवस पर रायपुर में

            महिला दिवस पर रायपुर में 

8 मार्च अंतर्राष्‍ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्‍य में परम पूज्‍य संत श्री आशारामजी बापू की पावन प्रेरणा से महिला उत्‍थान मण्‍डल रायपुर द्वारा आयोजित संस्‍कृति रक्षा रैली, विचार संगोष्‍ठी एवं महिला उत्‍थान/कन्‍या संस्‍कार मण्‍डल कार्यालय का उद्घाटन ।

विश्‍व महिला दिवस पर महिला उत्‍थान मण्‍डल, रायपुर ने भारतीय संस्‍कृति की महिमा के बारे में जनजागृति लाने एवं निर्दोष साधु-संतों पर हो रहे अत्‍याचार के विरोध में विशाल संस्‍कृति रक्षा यात्रा निकाली । यह यात्रा संत श्री आशारामजी आश्रम, लवकुश वाटिका, वी.आई.पी. रोड से प्रारंभ होकर तेलीबांधा चौक होते राममंदिर वी.आई.पी. रोड पहुंची जहां मंगल आरती कर यात्रा का पूर्णाहुति हुई ।  यात्रा में यह संदेश दिया गया कि विश्‍व की 4 प्राचीन संस्‍कृतियों में से केवल भारतीय संस्‍कृति ही अब तक जीवति रह गयी है और इसका मूल कारण है कि भारतीय संस्‍कृति के आधार स्‍तम्‍भ संत-महापुरुष समय-समय पर भारत भूमि पर आते रहते हैं ।

DSC_1325 DSCN0030 DSCN9864 DSCN9892dabang duniyaharibhoomind 10.3.15

 

 

चिरमिरी (छ.ग.) सेवा कार्य

28 जनवरी को श्री योग वेदांत सेवा समिति चिरमिरी  (छ.ग.) के साधको द्वारा गरीबो को भगवन्नाम कीर्तन -प्रसादी के साथ  कम्बल वितरण किया गया |

IMG_20150128_153835 IMG_20150128_160732 IMG_20150128_160904

प्रभातफेरी एवं स्‍वच्‍छ भारत अभियान रायपुर में

DSCN3982

DSCN4008

unnamed (1)

unnamed

पूज्‍य बापूजी की पावन प्रेरणा से  रविवार 2 नवंबर को पंडरी तराई, रायपुर (छ;ग.) में सुबह 7:30 से 8:30 श्री आशारामायण पाठ, सुबह 8:30 से 10:30 भगवन्‍नाम प्रभातफेरी/संकीर्तन यात्रा एवं तत्‍पश्‍चात् प्रसाद वितरण का कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें बाल संस्‍कार केन्‍द्र के बच्‍चों सहित 300 साधकों ने उत्‍साहपूर्वक हिस्‍सा लिया । विस्‍तृत विवरण निम्‍नानुसार है :-
1. बाल संस्‍कार केन्‍द्र के बच्‍चे जुड़े स्‍वच्‍छ  भारत  अभियान में : 
प्रभात फेरी/संकीर्तन यात्रा के दौरान बाल संस्‍कार केन्‍द्र के बच्‍चे झाड़ू साथ लेकर चल रहे थे तथा यात्रा के मार्ग में फैली गंदगी को साफ कर स्‍वच्‍छ भारत, स्‍वस्‍थ भारत का संदेश नगरवासियों को दे रहे थे ।
2. संकीर्तन यात्रा पंडरी तराई (काली माता वार्ड क्र.30) में निकाली गई थी जिसके पूर्व पार्षद (भाजपा) डॉ. प्रमोद साहू ने बाल संस्‍कार केन्‍द्र के बच्‍चों के साथ सब्‍जी बाजार से लोधीपारा चौक पंडरी तराई सफाई की इसके बाद पूज्‍य बापूजी की मंगल आरती कर प्रसाद ग्रहण किया तथा बच्‍चों के प्रयासों की सराहना की ।
3.गौमाता की रक्षा हेतु प्रसाद वितरण एवं भण्‍डारे में पॉलीथीन का पूर्णत: बहिष्‍कार, दोना पत्‍तल का प्रयोग : 
पाठ एवं प्रभातफेरी के अंत में प्रसाद वितरण तथा भण्‍डारे के दौरान गौमाता की रक्षा का संकल्‍प करते हुए पॉलीथीन का बहिष्‍कार करते हुए केवल दोना पत्‍तल में प्रसाद वितरित किया गया साथ ही पानी पिलाने के लिए स्‍टील के गिलासों का प्रयोग किया गया ।

प्रभातफेरी एवं स्‍वच्‍छ भारत अभियान रायपुर में

DSCN3982

DSCN4008

unnamed (1)

unnamed

पूज्‍य बापूजी की पावन प्रेरणा से  रविवार 2 नवंबर को पंडरी तराई, रायपुर (छ;ग.) में सुबह 7:30 से 8:30 श्री आशारामायण पाठ, सुबह 8:30 से 10:30 भगवन्‍नाम प्रभातफेरी/संकीर्तन यात्रा एवं तत्‍पश्‍चात् प्रसाद वितरण का कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें बाल संस्‍कार केन्‍द्र के बच्‍चों सहित 300 साधकों ने उत्‍साहपूर्वक हिस्‍सा लिया । विस्‍तृत विवरण निम्‍नानुसार है :-
1. बाल संस्‍कार केन्‍द्र के बच्‍चे जुड़े स्‍वच्‍छ  भारत  अभियान में : 
प्रभात फेरी/संकीर्तन यात्रा के दौरान बाल संस्‍कार केन्‍द्र के बच्‍चे झाड़ू साथ लेकर चल रहे थे तथा यात्रा के मार्ग में फैली गंदगी को साफ कर स्‍वच्‍छ भारत, स्‍वस्‍थ भारत का संदेश नगरवासियों को दे रहे थे ।
2. संकीर्तन यात्रा पंडरी तराई (काली माता वार्ड क्र.30) में निकाली गई थी जिसके पूर्व पार्षद (भाजपा) डॉ. प्रमोद साहू ने बाल संस्‍कार केन्‍द्र के बच्‍चों के साथ सब्‍जी बाजार से लोधीपारा चौक पंडरी तराई सफाई की इसके बाद पूज्‍य बापूजी की मंगल आरती कर प्रसाद ग्रहण किया तथा बच्‍चों के प्रयासों की सराहना की ।
3.गौमाता की रक्षा हेतु प्रसाद वितरण एवं भण्‍डारे में पॉलीथीन का पूर्णत: बहिष्‍कार, दोना पत्‍तल का प्रयोग : 
पाठ एवं प्रभातफेरी के अंत में प्रसाद वितरण तथा भण्‍डारे के दौरान गौमाता की रक्षा का संकल्‍प करते हुए पॉलीथीन का बहिष्‍कार करते हुए केवल दोना पत्‍तल में प्रसाद वितरित किया गया साथ ही पानी पिलाने के लिए स्‍टील के गिलासों का प्रयोग किया गया ।

शरद पूर्णिमा महोत्‍सव : रायपुर आश्रम

k

patrika1

dabang duniya1

अहमदाबाद के सती अनुसुइया आश्रम से पधारी साध्वी कृष्णा देवी ने लव कुश वाटिका स्थित संत श्री आशाराम जी आश्रम में शरद पूर्णिमा महोत्‍सव के निमित्‍त आयोजित सत्‍संग समारोह में उपस्थित विशाल जनसमुदाय को संबोधित करते हुए कहा मन ही मनुष्‍य के बंधन और मोक्ष का कारण है, जिसने अपने मन को जीता, उसने सारे संसार को जीता । मन को वश करने का सबसे सरल उपाय है ब्रम्‍हज्ञानी महापुरुष का सत्‍संग और निष्‍काम सेवा । आप भगवान को अपना और स्‍वयं को भगवान का मानिए संसार के सुख-दुख, मान-अपमान, राग-द्वेष आप पर हावी नहीं होंगे । शरद पूर्णिमा पर संत आशारामजी बापू का संदेश सुनाते हुए साध्‍वी कृष्‍णा देवी ने कहा कि शरद पूर्णिमा की रात सेवफल को काटकर चंद्रमा की किरणों में रखने और सुबह खाली पेट खाने से कब्‍ज की बीमारी दूर होती है और मसूड़ों से खून आने की समस्‍या दूर होती है । देर रात्रि को खीर खाना स्‍वास्‍थ्‍य के लिए हानिकारक होता है इसलिए रात्रि 11 से 12 के मध्‍य खीर खा लेनी चाहिए । दमे के मरीज बूटी वाली खीर खाएं और पूरी रात जागरण करें तो दमे का दम निकल जाता है । चंद्रग्रहण में भोजन, जल, शौच, लघुशंका त्‍याज्‍य, जप ध्‍यान अनन्‍तगुना फल : साध्‍वी कृष्‍णा बहने ने बताया कि बुधवार 8 अक्‍टूबर 2014 को खग्रास चंद्रग्रहण है जो दोपहर 2:44 से सायं 6:05 तक रहेगा । चन्द्रग्रहण और सूर्यग्रहण के समय संयम रखकर जप- ध्यान करने से कई गुना फल होता है। श्रेष्ठ साधक उस समय उपवासपूर्वक ब्राह्मी घृत का स्पर्श करके ‘ॐ नमो नारायणाय‘ मंत्र का आठ हजार जप करने के पश्चात ग्रहणशुद्धि होने पर उस घृत को पी ले। ऐसा करने से वह मेधा (धारणशक्ति), कवित्वशक्ति तथा वाक् सिद्धि प्राप्त कर लेता है।

राष्ट्र जाग्रति शोभा यात्रा शुभारम्भ – संत श्री आशारामजी आश्रम, अहमदाबाद ​

bapuji-newराष्ट्र जाग्रति शोभा यात्रा शुभारम्भ – संत श्री आशारामजी आश्रम, अहमदाबाद ​
​आज से गुजरात में ​ये राष्ट्र जाग्रति रथ जगह-जगह घूमेगा ।
IMG-20140801-WA0000IMG-20140801-WA0002IMG-20140801-WA0004IMG-20140801-WA0013IMG-20140801-WA0014