Category Archives: Tips

मेवों द्वारा बल व स्वास्थ्य प्राप्ति

nuts_and_dried_fruit_05_hd_pictures_167452
मेवों द्वारा बल व स्वास्थ्य प्राप्ति 
  • अखरोट : १० ग्राम अखरोट को गाय के घी में भूनकर मिश्री मिला के खाने से स्मरणशक्ति तीव्र होती    है व मानसिक थकावट दूर हो जाती है | २० ग्राम अखरोट, मिश्री व केसर को दूध में मिलाकर पीने से नपुंसकता में लाभ होता है |
  • अंजीर : इसमें लौह प्रचुर मात्रा में होने से रक्त की वृद्धि होती है | यह रक्त की शुद्धि भी करता है | इसमें निहित विटामिन ‘ए’ नेत्रज्योति की सुरक्षा करता है | अंजीर में पेट के मल को निष्कासित करने की विशेष क्षमता है | २ सूखे अंजीर रात को पानी में भिगोकर सुबह और सुबह भिगोकर शाम को खाने से पुराणी खाँसी, डीएमए, टी. बी., रक्तपित्त, पुराना गठिया रोग, बवासीर, पित्तजन्य त्वचाविकारों में लाभ होता है |
  • काजू : यह स्निग्ध, पौष्टिक, वायुशामक, पाचनशक्ति बढ़ानेवाला, जठराग्नि-प्रदीपक व शांतिदायक है | सुबह शहद के साथ ५ – ७ काजू खाने से दिमाग की कमजोरी मिटती है | किशमिश के साथ सेवन करने से रक्त की वृद्धि होती है | पानी में पीसकर चटनी बनाकर खाने से अजीर्ण, अफरा मिट जाता है | दूध के साथ सेवन करने से ह्रदय, मस्तिष्क व नाड़ी संस्थान को बल मिलता है |
  • बादाम : यह उत्कृष्ट वायुशामक व सप्तधातुवर्धक है | ५ भीगे हुए बादाम छिलके उतारकर २ – ३ काली मिर्च के साथ खूब पीस के मक्खन-मिश्री अथवा दूध के साथ सेवन करने से स्मरणशक्ति व नेत्रज्योति बढती है |
अमेरिकन बादाम बलहीन, सत्त्व निकाले हुए होते हैं | यदि मामरी बादाम मील जायें तो रात का भिगोया हुआ १ बादाम सुबह दाँतों से पीसकर खाने से १० बादाम खाने की ताकत मिलती है |
बादाम का तेल नाक में डालने से मस्तिष्क को शीध्र ही बल मिलता है, सिरदर्द भी मिट जाता है | इसका निरंतर प्रयोग हिस्टिरिया में बहुत लाभदायी है | गर्भवती स्त्री को ९वाँ महिना लगते ही १० ग्राम बादाम का तेल दूध व मिश्री के साथ देने से प्रसव सुलभ हो जाता है |
  • पिस्ता : सूखे मेवों में आँतों को बल प्रदान करने में पिस्ता सर्वोत्तम हैं |
सावधानी : सूखे मेवों का सेवन विशेषत: सर्दियों में तथा मात्रावत करना उचित है |

लौकी द्वारा स्वास्थ्य-सुरक्षा

lauki
लौकी द्वारा स्वास्थ्य-सुरक्षा 
  • लौकी पौष्टिक, कफ-पित्त शामक, वीर्यवर्धक, रुचिकर, शीतल, रेचक तथा ह्रदय के लिए बलप्रद, गर्भपोषक तथा गर्भावस्था की कब्जियत दूर करती है | इसका तेल मस्तिष्क की गर्मी दूर करता है | क्षयरोगियों के लिए लौकी बहुत हितकर है |
  • २० से २५ मि.ली. लौकी के रस में आधा चम्मच शहद या शक्कर मिलाकर लेने से शरीर का दाह, गले की जलन, रक्तविकार, फोड़े, शीतपित्त आदि रोगों में लाभ होता है |
  • २ से ४ चम्मच लौकी के रस में पाँव चम्मच जीरा चूर्ण व एक चम्मच शहद मिलाकर सुबह खाली पेट लेने से ह्रदय के स्नायुओं को बल मिलता है,  पित्त के कारण होनेवाली पेट और छाती की जलन कम होती है, भोजन में रूचि बढती है | प्रयोग के एक घंटे बाद तक कुछ न लें |
  • ताज़ी लौकी को कद्दूकश कर घी में भुन लें | इसमें मिश्री, जीरा, सेंधा नमक डाल के खाने से धातु का पोषण होकर शरीर स्वस्थ्य बनता है | इससे शौच साफ़ आता है |
  • ह्र्द्यरोगियों के लिए उबली लौकी में धनिया, जीरा, हल्दी और हरा धनिया डालकर खाना लाभदायक है |

सावधानी :१] अतिसार, सर्दी-खाँसी, दमे के रोगी लौकी न खायें |

२] पुरानी ( पकी ) लौकी से कब्जियत होने के कारण उसका उपयोग न करें |

३] कडवी लौकी ( तुमड़ी ) विषैली होने से उसका सेवन निषिद्ध है |

स्वास्थवर्धक विशेष प्रयोग

he naath
स्वास्थवर्धक विशेष प्रयोग –
यौवनदाता : १० – १५ ग्राम गाय के घी के साथ २५ ग्राम आँवले का चूर्ण, ५ ग्राम शहद तथा १० ग्राम तिल का तेल मिलाकर प्रात: सेवन करने से दीर्घकाल तक युवावस्था बनी रहती है |
यादशक्ति बढ़ने हेतु : प्रतिदिन १५ से २० मि.ली. तुलसी रस व एक चम्मच च्यवनप्राश का थोडा-सा घोल बना के सारस्वत्य मंत्र अथवा गुरुमंत्र जपकर पियें | ४० दिन में चमत्कारिक फायदा होगा |
वीर्यवर्धक योग : ४ – ५ खजूर रात को पानी में भिगो के रखें | सुबह १ चम्मच मक्खन, १ इलायची व थोडा-सा जायफल पानी में घिसकर उसमें मिला के खाली पेट लें | यह वीर्यवर्धक प्रयोग है |
– ऋषिप्रसाद – जनवरी २०१४ से

आश्रम की औषधी

bapu2

 संजीवनी गोली

sanjivani goliलाभ: यह गोली व्यक्ति को शक्तिशाली. ओजस्वी, तेजस्वी व मेधावी बनाती है | इसमें सभी रोगों को नष्ट करने की प्रचंड क्षमता है | यह श्रेष्ठ रसायन द्रव्यों से सम्पन्न होने से सप्तधातु व पंचज्ञानेन्द्रियों को दृढ़ बनाकर वुद्धावस्था को दूर रखती है | ह्रदय, मस्तिष्क व पाचन-संस्थान को विशेष बल प्रदान करती है | इसमें तुलसी-बीज होने से सभी उम्रवालों के लिए यह बहुत लाभदायी है |

सेवन-विधि: छ: माह से दो साल उम्र – आधी गोली, दो से आठ साल – एक गोली, आठ – दस से ऊपरवाले – दो गोली खली पेट चूसकर लें |

सावधानी: सेवन के बाद डेढ़ –दो घंटे तक दूध न लें |

विशेष: सर्दियों में बच्चों और उनके माता-पिता के लिए ‘संजीवनी गोली’ वरदान है |

(ये सभी संत श्री आशारामजी आश्रमों व समितियों के सेवाकेन्द्रों पर उपलब्ध है)

संत च्यवनप्राश –

chvanprash वीर्यवान आँवले, प्रवालपिष्टी, शुद्ध देशी घी और अन्य कुल मिलाकर ५६ द्रव्यों के आलावा हिमालय से  लायी गयी वज्रबला डालकर बनाया गया च्यवनप्राश उत्तम आयुर्वेदिक औषधि, पौष्टिक खाद्य तथा एक दिव्य रसायन है |

लाभ : बालक, वृद्ध, स्त्री-संभोग से क्षीण तथा ह्र्द्यरोगियों के लिए विशेष लाभकारी | स्मरणशक्ति व बुद्धिवर्धक तथा कांति, वर्ण और प्रसन्नता देनेवाला | खाँसी, श्वास, वातरक्त, वात व पित्तरोग, शुक्रदोष, मूत्ररोग आदि दूर करनेवाला | बुढ़ापा देरी से लानेवाला तथा टी.बी. व ह्रदयरोगनाशक तथा भूख बढ़ानेवाला है |

सेवन विधि : १ से २ चम्मच दूध या नाश्ते से पूर्व लें |

केशरयुक्त स्पेशल च्यवनप्राश भी उपलब्ध है |  (ये सभी संत श्री आशारामजी आश्रमों व समितियों के सेवाकेन्द्रों पर उपलब्ध है)

पुष्टि टेबलेट

pusthi tabletश्रेष्ठ रसायन औषोधियों से युक्त यह टेबलेट शरीर को हृष्ट-पुष्ट और शक्तिशाली बनाती है | खासकर सर्दियों में कृशकाय एवं दुर्बल व्यक्तियों को इसका सेवन लाभदायी है |

सेवन विधि : ४ – ४ गोली सुबह-शाम पानी, दूध अथवा च्यवनप्राश से लें |

विशेष : इसके सेवन के बाद खुलकर भूख लगने पर पौष्टिक आहार लें | इन दिनों भोजन में घी, दूध, मक्खन, केला, खजूर, सुखा मेवा आदि पौष्टिक पदार्थो का सेवन करें |

(ये सभी संत श्री आशारामजी आश्रमों व समितियों के सेवाकेन्द्रों पर उपलब्ध है)

–    ऋषिप्रसाद – जनवरी २०१४ से

मास – अनुसार देवपूजन

Masanusar-dincharya

Sant Asharamji Bapu

मासा अनुसार देवपूजन –

  • चैत्र मास आता है चैत्र मास में ब्रम्हा, दिक्पाल आदि का पूजन कियाजाता है ताकि वर्षभर हमारे घर में सुख-शांति रहें |
  • वैशाख मास भगवान माधव का पूजन किया जाता है ताकि, मरने के बाद वैकुंठलोक की प्राप्ति हो | ॐ नमो भगवते वासुदेवाय… |
  • जेष्ठ मास में यमराज की पूजा की जाती है ताकि, वटसावित्री का व्रत सुहागन देवियाँ करती है | यमराज की पूजा की जाती है ताकि, सौभाग्य की प्राप्ति हो, दुर्भाग्य दूर हो |
  • आषाढ़ मास में गुरुदेव का पूजन करते है अपने कल्याण हेतु और गुरुदेव कापूजन करते है तो फिर बाकी सब देवी-देवताओं की पूजा से जो फल मिलता है वोफल सद्गुरु की पूजा से भी प्राप्त ही सकता है, शिष्य की भावना पक्की हो की – सर्वदेवो मयो गुरु | सभी देवों का वास मेरे गुरुदेव में हैं | तोअन्य देवताओं की पूजा से अलग-अलग मास में अलग-अलग देव की पूजा से अलग-अलग फल मिलता है पर उसमें द्वैत बना रहता है और फल जो मिलता है वो छुपने वाला होता है | पर गुरुदेव की पूजा-उपासना से ये फल भी मिल जाते है और धीरे-धीरे द्वैत मिटता जाता है | अद्वैत में स्थिति होती जाती है |
  • श्रावण मास में दीर्घायु की प्राप्ति हो, श्रावण मास में शिवजी की पूजाकी जाती है | अकाल मृत्यु हरणं सर्व व्याधि विनाशनम् |
  • भाद्रपद मास में गणपति की पूजा करते है की, निर्विध्नता की प्राप्ति हेतु |
  • आश्विन मास के कृष्ण पक्ष में फिर पितृ पूजन करते है की, वंश वृद्धि हेतु | और अश्विन मास के शुक्ल पक्ष में माँ दुर्गा की पूजा होती है की, शत्रुओं पर विजय प्राप्ति हेतु नवरात्रियों में |
  • कार्तिक मास में लक्ष्मी पूजा की जाती है, सम्पति बढ़ाने हेतु |
  • मार्गशीर्ष मास में विश्वदेवताओं का पूजन किया जाता है कि जो गुजर गये उनके आत्मा शांति हेतु ताकि उनको शांति मिले | जीवनकाल में तो बिचारेशांति न लें पाये और चीजों में उनकी शांति दिखती रही पर मिली नहीं | तो मार्गशीर्ष मास में विश्व देवताओं के पूजन करते है भटकते जीवों के सद्गति हेतु |
  • माघ मास में सूर्य पूजन का विशेष विधान है | भविष्य पुराण आदि में वर्णन आता है | आरोग्यप्राप्ति हेतु बोले, माघ मास आया तो सूर्य उपासना करों |
  • फाल्गुन मास आया तो होली का पूजन किया जाता है.. बच्चों की सुरक्षा हेतु |

Shri Sureshanandji -Ahmedabad 21st July 2013

मन को स्वस्थ व बलवान बनाने के लिए

pp

आहारशुद्धिः

आहारशुद्धौ सत्त्वशुद्धिः सत्त्वशुद्धौ ध्रुवा स्मृतिः।

ʹआहार शुद्ध होने पर मन शुद्ध होता है। शुद्ध मन में निश्चल स्मृति (अखंड आत्मानुभूति) होती है।ʹ (छान्दोग्य उपनिषद् 7.26,2)

प्राणायामः

प्राणायाम से मन का मल नष्ट होता है। रजो व तमो गुण दूर होकर मन स्थिर व शांत होता है।

height=”311″ />शुभ कर्मः मन को सतत शुभ कर्मों में रत रखने से उसकी विषय-विकारों की ओर होने वाली भागदौड़ रुक जाती है।

मौनः संवेदन, स्मृति, भावना, मनीषा, संकल्प व धारणा – ये मन की छः शक्तियाँ हैं। मौन व प्राणायाम से इन सुषुप्त शक्तियों का विकास होता है।

मंत्रजपः भगवान के नाम का जप सभी विकारों को मिटाकर दया, क्षमा, निष्कामता आदि दैवी गुणों को प्रकट करता है।

उपवासः (अति भुखमरी नहीं) उपवास से मन विषय-वासनाओं से उपराम होकर अंतर्मुख होने लगता है।

“एकादशी व्रत पापनाशक तथा पुण्यदायी व्रत है। प्रत्येक व्यक्ति को माह में दो दिन  उपवास करना चाहिए।” पूज्य बापू जी

प्रार्थनाः प्रार्थना से मानसिक तनाव दूर होकर मन हलका व प्रफुल्लित होता है। मन में विश्वास व निर्भयता आती है।

सत्यभाषणः सदैव सत्य बोलने से मन में असीम शक्ति आती है।

सद् विचारः कुविचार मन को अवनत व सद् विचार उन्नत बनाते हैं।

प्रणवोच्चारणः दुष्कर्मों का त्याग कर किया गया ૐकार का दीर्घ उच्चारण मन को आत्म-परमात्म शांति में एकाकार कर देता है।

शास्त्रों में दिये गये इन उपायों से मन निर्मलता, समता व प्रसन्नता रूपी प्रसाद प्राप्त करता है।

 

शुभ कार्य की शुरूआत स्वस्तिक बनाकर ही क्यों ?

swastik

स्वस्तिक का भारतीय संस्कृति में बड़ा महत्व है। हर शुभ कार्य की शुरूआत स्वस्तिक बनाकर ही की जाती है। यह मंगल भावना एवं सुख सौभाग्य का प्रतीक है। ऋग्वेद में स्वस्तिक के देवता सवृन्त का उल्लेख है। सवृन्त सूत्र के अनुसार इस देवता को मनोवांछित फलदाता सम्पूर्ण जगत का कल्याण करने और देवताओं को अमरत्व प्रदान करने वाला कहा गया है।
सिद्धांतसार के अनुसार उसे ब्रह्मांड का प्रतीक माना जाता है। इसके मध्य भाग को विष्णु की नाभि, चारों रेखाओं को ब्रह्मा जी के चार मुख, चार हाथ और चार वेदों के रूप में निरुपित करने की भावना है। देवताओं के चारों ओर घूमने वाले आभामंडल का चिन्ह ही स्वस्तिक के आकार का होने के कारण इसे शास्त्रों में शुभ माना जाता है। यह आकार चारों दिशाओं का द्योतक माना गया है।
स्वस्तिक को भारत में ही नहीं, विश्व के अन्य कई देशों में विभिन्न स्वरूपों में मान्यता प्राप्त है। जर्मनी, यूनान, फ्रांस, रोम, मिस्र, ब्रिटेन, अमरीका, स्कैण्डिनेविया, सिसली, स्पेन, सीरिया, तिब्बत, चीन, साइप्रस और जापान आदि देशों में भी स्वस्तिक का प्रचलन है।
तिब्बती इसे अपने शरीर पर गुदवाते हैं और चीन में इसे दीर्घायु एवं कल्याण का प्रतीक माना जाता है। सुख-समृद्धि एवं रक्षित जीवन के लिए ही स्वस्तिक पूजा का विधान है। अधिकांश लोगों की मान्यता है कि स्वस्तिक सूर्य का प्रतीक है। जैन धर्मावलम्बी अक्षत पूजा के समय स्वस्तिक चिन्ह बनाकर तीन बिन्दु बनाते हैं। पारसी उसे चतुर्दीक दिशाओं एवं चारों समय की प्रार्थना का प्रतीक मानते हैं। व्यापारी वर्ग इसे शुभ-लाभ का प्रतीक मानते हैं। बहीखातों में ऊपर श्री लिखा जाता है। इसके नीचे स्वस्तिक बनाया जाता है।
ऐतिहासिक साक्ष्यों में स्वस्तिक का काफी महत्व बताया गया है। मोहनजोदड़ो, हड़प्पा संस्कृति, अशोक के शिलालेखों, रामायण, हरवंश पुराण, महाभारत आदि में इसका अनेक बार उल्लेख मिलता है।

दशहरे के दिन विजय के लिए

bhagwaanदशहरे के दिन

दशहरा के दिन शाम को जब सूर्यास्त होने का समय और आकाश में तारे उदय होने का समय हो वो सर्व सिद्धिदायी विजय काल कहलाता है | उससमय घुमने-फिरने मत जाना | दशहरा मैदान मत खोजना…रावण जलाता हो देखकर क्या मिलेगा ? धुल उडती होगी, मिट्टी उडती होगी रावण को जलाया उसका धुआ वातावरण में होगा…. गंदा वो श्वास में लेना… धुल, मिट्टी श्वास में लेना पागलपन हैं |

ये दशहरे के दिन शाम को घर पे ही स्नान आदि करके, दिन के कपडे बदल के शाम को धुले हुए कपड़े पहनकर ज्योत पहनकर ज्योत जलाकर बैठ जाये | थोडा

“राम रामाय नम: |”

मंत्र जपते, विजयादशमी है ना तो रामजी का नाम और फिर मन-ही-मन गुरुदेव को प्रणाम करे गुरुदेव सर्व सिद्धिदायी विजयकाल चल रहा हैं की हम विजय के लिए ये मंत्र जपते हैं –

“ॐ अपराजितायै नम:”

ये मंत्र १ – २ माला जप करना और  इस काल में श्री हनुमानजी का सुमिरन करते हुए इस मंत्र की एक माला जप करें :-

“पवन तनय बल पवन समाना, बुद्धि विवेक विज्ञान निधाना |
कवन सो काज कठिन जग माहि, जो नही होत तात तुम पाहि ||”

पवन तनय समाना की भी १ माला कर लें उस विजय कालमें, फिर गुरुमंत्र की माला कर लें | फिर देखो अगले साल की दशहरा तक गृहस्थ में जीनेवाले को बहुत-बहुत अच्छे परिणाम देखने को मील सकते हैं |

– श्री सुरेशानंदजी सत्संग – आक्टोबर २०१२ से

पाचन की तकलीफों में परम हितकारी : अदरक

adrakआजकल लोग बिमारियों के शिकार अधिक क्यों हैं ? अधिकांश लोग खाना न पचना, भूख न लगना, पेट में वायु बनना, कब्ज आदि पाचन संबंधी तकलीफों से ग्रस्त हैं और इसीसे अधिकांश अन्य रोग उत्पन्न होते हैं | पेट की अनेक तकलीफों में रामबाण एवं प्रकृति का वरदान है अदरक | स्वस्थ लोगों के लिए यह स्वास्थ्यरक्षक है | बारिश के दिनों में यह स्वास्थ्य का प्रहरी है |

सरल है आँतों की सफाई व पाचनतंत्र की मजबूती

शरीर में जब कच्चा रस (आम) बढ़ता है या लम्बे समय तक रहते हैं, तब अनेक रोग उत्पन्न होते हैं | अदरक का रस आमाशय के छिंद्रों में जमे कच्चे रस एवं कफ को तथा बड़ी आँतों में जमे आँव को पिघलाकर बाहर निकाल देता है तथा छिद्रों को स्वच्छ कर देता है | इससे जठराग्नि प्रदीप्त होती है और पाचन-तंत्र स्वस्थ बनता है | यह लार एवं आमाशय का रस दोनों की उत्पत्ति बढाता है, जिससे भोजन का पाचन बढ़िया होता है एवं अरुचि दूर होती है |

आसान घरेलू प्रयोग                

स्वास्थ्य व भूख वर्धक, वायुनाशक प्रयोग

रोज भोजन से पहले अदरक को बारीक़ टुकड़े-टुकड़े करके सेंधा नमक के साथ लेने से पाचक रस बढकर अरुचि मिटती है | भूख बढती है, वायु नहीं बनती व स्वास्थ्य अच्छा रहता है |

रुचिकर, भूखवर्धक, उदररोगनाशक प्रयोग

१०० ग्राम अदरक की चटनी बनायें एवं १०० ग्राम घी में उसे सेंक लें | लाल होने पर उसमे २०० ग्राम गुड़ डालें व हलवे की तरह गाढ़ा बना लें | (घी न हो तो २०० ग्राम अदरक को कद्दूकश करके २०० ग्राम चीनी मिलाकर पाक बना लें |) इसमें लौंग, इलायची, जायपत्री का चूर्ण मीलायें तो और भी लाभ होगा | वर्षा ऋतू में ५ से १० ग्राम एवं शीत ऋतू में १०-१० ग्राम मिश्रण सुबह-शाम खाने से अरुचि, मंदाग्नि, आमवृद्धि, गले व पेट के रोग, खाँसी, जुकाम, दमा आदि अनेक तकलीफों में लाभ होता है | भूख खुलकर लगती है | बारिश के कारण उत्पन्न बीमरियों में यह अति लाभदायी है |

अपच: १] भोजन से पहले ताजा अदरक रस, नींबू रस व सेंधा नमक मिलाकर लें एवं भोजन के बाद इसे गुनगुने पानी से लें | यह कब्ज व पेट की वायु में भी हितकारी हैं |

२] अदरक, सेंधा नमक व काली मिर्च को चटनी की तरह बनाकर भोजन से पहले लें |

खाँसी, जुकाम, दमा: अदरक रस व शहद १० – १० ग्राम दिन में ३ बार सेवन करें | नींबू का रस २ बूँद डालें तो और भी गुणकारी होगा |

बुखार : तेज बुखार में अदरक का ५ ग्राम रस एवं उतना ही शहद मिलाकर चाटने से लाभ होता है | इन्फ्लुएंजा, जुकाम, खाँसी के साथ बुखार आने पर तुलसी के १० – १५ पत्ते एवं काली मिर्च के ६ – ७ दाने २५० ग्राम पानी में डालें | इसमें २ ग्राम सौंठ मिलाकर उबालें | स्वादानुसार मिश्री मिला के सहने योग्य गर्म ही पियें |

वातदर्द : १० मि.ली. अदरक के रस में १ चम्मच घी मिलाकर पीने से पीठ, कमर, जाँघ आदि में उत्पन्न वातदर्द में राहत मिलती है |

जोड़ों का दर्द : २ चम्मच अदरक रस में १ – १ चुटकी सेंधा नमक व हींग मिला के मालिश करें |

गठिया : १० ग्राम अदरक छिल के १०० ग्राम पानी में उबाल लें | ठंडा होने पर शहद मिलाकर पियें | कुछ दिन लगातार दिने में एक बार लें | यह प्रयोग वर्षा या शीत ऋतू में करें |

गला बैठना : अदरक रस शहद में मिलाकर चाटने से बैठी आवाज खुलती है व सुरीली बनती है |

सावधानी : रक्तपित्त, उच्च रक्तचाप, अल्सर, रक्तस्राव व कोढ़ में अदरक न खायें | अदरक को फ्रिज में न रखें, रविवार को न खायें |