गणेश चतुर्थी को चन्द्रदर्शन हो जाये तो ….

ganesh2इस वर्ष चतुर्थी लगातार दो दिन रहेगी। 4 सितम्बर को चंद्रोदय के साथ ही चंद्र दर्शन नहीं करने हैं। अगले दिन 5 सितम्बर को भी चंद्रोदय के बाद रात्रि 9.09 बजे बाद तक भी चंद्रास्त होने तक चतुर्थी रहेगी और उनके दर्शन नहीं करने चाहिये। अर्थात् 4 सितम्बर को सायं 6.54 मिनिट से लेकर 5 सितम्बर को रात्रि 9.09 मिनिट तक चतुर्थी रहने के कारण चंद्र दर्शन नहीं करने चाहिये।

गणेश चतुर्थी को चन्द्रदर्शन हो जाये तो ….

यदि कोई मनुष्य अनिच्छा से भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की गणेश चतुर्थी के चन्द्रमा को देख ले तो उसे निम्न मंत्र से पवित्र किया हुआ जल पीना चाहिए । इस मंत्र का २१, ५४ अथवा १०८  बार जप करने से वह तत्काल शुद्ध हो भूतल पर निष्कलंक बना रहता है । जल को पवित्र करने का मंत्र इस प्रकार है:

सिहः प्रसेनमवधीत सिंहो जाम्बवता हतः ।
सुकुमारक मा रोदीस्तव ह्येष स्यमन्तकः ॥

“सुंदर सलोने कुमार! इस मणि के लिए सिंह ने प्रसेन को मारा है और जाम्बवान ने उस सिंह का संहार किया है, अतः तुम रोओ मत । अब इस स्यमन्तक मणि पर तुम्हारा ही अधिकार है ।” – ब्रह्मवैवर्त पुराण, अध्याय ७८

चौथ के चन्द्रदर्शन से कलंक लगता है | इस मंत्र-प्रयोग अथवा स्यमन्तक मणि कथा के वचन या श्रवण से उसका प्रभाव कम हो जाता है |

– ऋषिप्रसाद अगस्त २००६ से