Ishwar Anand ki Bhukh Jaga Do …

ishwar anand
सत्संग के मुख्या अंश :-
– दुःख याद दिलाता है की तुमने परम सुख में अभी विश्रांति नहीं पायी …
– तुम्हारा असली स्वभाव तुमने नहीं पहेंचाना इसलिये तुम्हे दुःख हो रहा है ……
– किंम लक्षराम भजनाम, रसनाम लक्षनाम भजनाम …..
– कितना भी दुखी हो, कितना भी भयभीत हो कितने भी चिंतित हो उसी समय लम्बा श्वास लो मैं भगवान् का हूँ भगवान मेरे है और भगवान के नाम का जल्दी जल्दी उच्चारण करो चिंता, भय, भाग जायेगी …
– लापरवाही से पार होना, द्वेष से बचना, राग से बचना, अहंकार से बचना, निंदा से बचना , इर्ष्या से बचना और प्रभु प्रीति, प्रभु ज्ञान, विश्रांति और प्रभु के ज्ञान स्वभाव में अपना ज्ञान मिला दो …
– आपके अंदर ईश्वर सुख की भूख जगा दो, ईश्वर प्रसाद की भूख जगा दो, ईश्वर आनंद की भूख जगा दो, ईश्वर माधुर्य की भूख जगा दो …