महाशिवरात्रि के दिन मंत्र और पाठ

shiv

महाशिवरात्रि के दिन मंत्र और पाठ 

1] Mahamritunjaya Mantra (महामृत्युंजय मंत्र )
                               ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगंधिं पुष्टिवर्धनम |
                               उर्वारुकमिव बन्धनामृत्योर्मूक्षीय मामुतात ||

महा मृत्युंजय मंत्र विनियोग सहित विनियोग :-
ॐ अस्य श्री महा मृत्युंजय मन्त्रस्य वशिष्ठ ऋषिः अनुष्टुप छन्दः श्री महा मृत्युंजय रूद्र देवता, हौं बिजम् जूँ शक्तिः सः कीलकं …( संकल्प जिस लिए करते हो..जैसे ” श्री आशारामजी सद्गुरु देवस्य आयुः, आरोग्य , यशः , किर्ती, पुष्टिः,वृद्धि अर्थे )…..जपे विनियोगः |
मंत्र :-
ॐ हौं जूँ सः । ॐ भूर्भुवः स्वः । ॐ त्रयम्बकं यजामहे सुगंधिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् । ॐ स्वः भुवः भूः ॐ । सः जूँ हौं ॐ ।

यह मंत्र रोग-निवारण , दीर्घायु, धन-संपत्ति, एवं शांति के लिए लाभदायी है | अकालमृत्यु, आकस्मिक दुर्घटनाओं , भयंकर व्याधियों से रक्षा तथा मोक्ष का साधन है |
महा शिवरात्रि को विशेष लाभ लें |

2] बीज मंत्र का जप : शिवरात्रि के दिन देशी घी का दिया जला कर
‘ बं ‘ 
बीजमंत्र का सवा लाख जप करना बहुत हितकारी है | यह मंत्र शुद्ध, सात्विक भावनाओं को सफल करने में बड़ा सहयोग देगा | हो सके तो एकांत में शिवजी का विधिवत पूजन करें या मानसिक पूजन करें | सवा लाख बार  
‘ बं ‘
 का उच्चारण भिन्न-भिन्न सफलताएँ प्राप्त करने में मदद करेगा | जोड़ों का दर्द, वमन, कफ एवं वायुजन्य बीमारियों, डायबिटीज आदि में यह लाभ पहुँचाता है | बीजमंत्र स्थूल शरीर को फायदा पहुँचाते ही हैं, साथ ही सूक्ष्म और कारण शरीर पर भी अपना दिव्य प्रभाव डालते हैं |

3] शिवमहिमा स्तोत्र  :  download-now

4] शिवरात्रि के दिन की शुरुआत यह श्लोक बोलकर करें 

देव देव महादेव नीलकंठ नमोस्तुते |
कर्तुम इच्छा म्याहम प्रोक्तं, शिवरात्रि व्रतं तव ||
– सुरेशानंदजी  हरिद्वार (11-02-2010)

5] शिवजी पर दूध चढाते समय जपने योग्य मंत्र

महाशिवरात्रि को कोई मंदिर जाकर शिवजी पर दूध चढाते हैं तो ये ५ मंत्र बोलें :-

ॐ हरये नमः
ॐ महेश्वराय नमः
ॐ शूलपानायाय नमः
ॐ पिनाकपनाये नमः
ॐ पशुपतये नमः