Sant Shri Ashramji Ashram – Bapuji’s Sadhak Performing Shraddh

For peace of all the souls who passed away in your home, you must, on the day of Sarvapitri Amavasya, do shraddha. Sadhaks are permorming sharddha at Sant Shri Ashramji Ashram, Ahmedabad.

 

This slideshow requires JavaScript.

shraddh

आज सर्वपितृ अमावस्या के पावनअवसर ( दि: 23 सितम्बर 2014 ) पर अपने पितृओ को परितृप्त करने हेतु पधारे भक्तगण श्राद्धपक्ष के अंतिम दिवस पर अमदाबाद मोटेरा आश्रम में भव्य रूप से श्राद्ध कर्मविधि के आयोजन में हजारो की संख्या में भाइयो बहनों ने भाग लिया । सामूहिक रूप से होनेवाले श्राद्ध कर्म सम्पूर्ण रूप से फलित हो ऐसी मंगल कामना सुशिक्षित ऋषि परम्परा से , शास्त्रोक्त् विधि के अनुसार सुज्ञ ब्राम्हणऋषि कुमारो के द्वारा करवाया गया।

संत श्री आशारामजी बापू आश्रम , भोपाल 

पितृमोक्ष अमावस्या के दिन श्राद्ध करना अपने पितरो को तृप्त करके पुण्य प्राप्त करने का एक सुनहरा अवसर होता है। जो लोग श्राद्ध के 14 दिनो में अपने पितरो की मृत्यु तिथि पता नही होने के कारण श्राद्ध नहीं कर पाते वे लोग अमावस्या को श्राद्ध करते है। पितृ-मोक्ष अमावस्या को विधि-विधान पूर्वक श्राद्ध करने से हमारे पितर (पूर्वज) पूर्ण संतुष्ट होते है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए संत आशाराम बापू आश्रम में प्रतिवर्ष पितृ-मोक्ष अमावस्या को सामूहिक श्राद्ध का आयोजन किया जाता है। यह कार्यक्रम देषभर के लगभग सभी आश्रमो में आयोजित किया जाता है। जिसमें बड़ी संख्या में लोग उपस्थित होकर श्राद्ध करते है।

आशाराम बापू के गांधीनगर स्थित आश्रम में भी सामूहिक श्राद्ध का आयोजन किया गया जिसमें करीब 300 लोगो ने भाग लिया। यह कार्यक्रम सुबह 11 बजे से गुरूप्रार्थना के साथ प्रारंभ हुआ। इस कार्यक्रम को पं. दिलीप षास्त्री जी ने पूर्ण विधि-विधान पूर्वक संपन्न कराया। इसमें पूजन के साथ-साथ पिण्डदान एवं हवन भी कराया गया। श्राद्धकर्ताओ ने अपने पूर्वजो के अलावा अपने मित्रो एवं रिष्तेदारों के लिए भी पिण्डदान किया। यह कार्यक्रम करीब 3 बजे तक चला। कार्यक्रम के समापन होने के बाद सभी ने भोजन-प्रसाद पाया।

a1 a2 a3

 

 

 

About Asaram Bapuji

Asumal Sirumalani Harpalani, known as Asaram Bapu, Asharam Bapu, Bapuji, and Jogi by his followers, is a religious leader in India. Starting to come in the limelight in the early 1970s, he gradually established over 400 ashrams in India and abroad.