शिवपुराण – १६९

shivpuran9215
श्रीपुराणपुरुषोत्तमाय नम :
ॐ श्री गणेशाय नम:
भवाब्धिमग्नं दिनं मां समुन्भ्दर भवार्णवात | कर्मग्राहगृहीतांग दासोऽहं तव् शंकर ||

श्री शिवपुराण – माहात्म्य

रूद्रसंहिता, पंचम ( युद्ध ) खंड

अध्याय – १६९

विष्णुद्वारा तुलसी के शील-हरणका वर्णन, कुपित हुई तुलसीद्वारा विष्णु को शाप, शम्भुद्वारा तुलसी और शालग्राम – शिला के माहात्म्य का वर्णन

व्यासजी के पूछ्नेपर सनत्कुमारजी ने कहा – महर्षे ! रणभूमिमें आकाशवाणी को सुनकर जब देवेश्वर शम्भु ने श्रीहरि को प्रेरित किया, तब वे तुरंत ही अपनी माया से ब्राह्मण का वेष धारण करके शंखचूड के पास जा पहुँचे और उन्होंने उससे परमोत्कृष्ट कवच माँग लिया | फिर शंखचूड का रूप बनाकर वे तुलसी के घर की ओर चले | वहाँ पहुँचकर उन्होंने तुलसी के महल के द्वार के निकट नगारा बजाया और जय – जयकार से सुन्दरी तुलसी को अपने आगमन की सूचना दी | उसे सुनकर सती-साध्वी तुलसी ने बड़े आदर के साथ झरोखे के रास्ते राजमार्ग की ओर झाँका और अपने पति को आया हुआ जानकर वह परमानंद में निमग्न हो गयी | उसने तत्काल ही ब्राह्मणों को धन-दान करके उनसे मंगलाचार कराया और फिर अपना श्रुंगार किया | इधर देवताओं का कार्य सिद्ध करने के लिये माया से शंखचूड का स्वरूप धारण करनेवाले भगवान विष्णु रथ से उतरकर देवी तुलसी के भवन में गये | तुलसी ने पतिरूप में आये हुए भगवान का पूजन किया, बहुत-सी बातें की, तदनन्तर उनके साथ रमण किया | तब उस साध्वी ने सुख, सामर्थ्य और आकर्षण में व्यतिरूप देखकर सबपर विचार किया और वह ‘तू कौन है ?’ यों डाँटती हुई बोली |

तुलसी ने कहा – दुष्ट ! मुझे शीघ्र बतला कि मायाद्वारा मेरा उपभोग करनेवाला तू कौन हैं ? तूने मेरा सतीत्व नष्ट कर दिया है, अत: मैं अभी तुझे शाप देती हूँ |

सनत्कुमारजी कहते हैं – ब्रह्मन ! तुलसी का वचन सुनकर श्रीहरि ने लीलापूर्वक अपनी परम मनोहर मूर्ति धारण कर ली | तब उस रूप को देखकर तुलसी ने लक्षणों से पहचान लिया कि ये साक्षात विष्णु हैं | परन्तु उसका पातिव्रत्य नष्ट हो चूका था, इसलिये वह कुपित होकर विष्णु से कहने लगी |

तुलसी ने कहा – हे विष्णो ! तुम्हारा मन पत्थर के सदृश कठोर है | तुम में दया का लेशमात्र भी नहीं है | मेरे पतिधर्म के भंग हो जाने से निश्चय ही मेरे स्वामी मारे गये | चूँकि तुम पाषाण – सदृश कठोर, दयारहित और दुष्ट हो, इसलिये अब तुम मेरे शाप से पाषाण-स्वरूप ही हो जाओ |

सनत्कुमारजी कहते है – मुने ! यों कहकर शंखचूड की वह सती-साध्वी पत्नी तुलसी फूट-फूटकर रोने लगी और शोकार्त होकर बहुत तरह से विलाप करने लगी | इतने में वहाँ भक्तवत्सल भगवान शंकर प्रकट हो गये और उन्होंने समझाकर कहा – ‘देवि ! अब तुम दुःख को दूर करनेवाली मेरी बात सुनो और श्रीहरि भी स्वस्थ मनसे उसे श्रवण करें; क्योंकि तुम दोनों के लिये जो सुखकारक होगा, वही मैं कहूँगा | भद्रे ! तुमने (जिस मनोरथ को लेकर ) तप किया था, यह उसी तपस्या का फल है | भला, वह अन्यथा कैसे हो सकता है ? इसीलिये तुम्हे उसके अनुरूप ही फल हुआ है | अब तुम इस शरिरको त्यागकर दिव्य देह धारण कर लो और लक्ष्मी के समान होकर नित्य श्रीहरि के साथ ( वैकुण्ठ में ) विहार करती रहो | तुम्हारा यह शरीर, जिसे तुम छोड़ दोगी, नदी के रूप में परिवर्तित हो जायगा | वह नदी भारतवर्ष में पुण्यरूपा गण्डकी के नामसे प्रसिद्ध होगी |

महादेवि ! कुछ काल के पश्चात मेरे वर के प्रभाव से देवपूजन – सामग्री में तुलसी का प्रधान स्थान हो जायगा | सुन्दरी ! तुम स्वर्गलोक में, मृत्युलोक में तथा पाताल में सदा श्रीहरि के निकट ही निवास करोगी और पुष्पों में श्रेष्ठ तुलसी का वृक्ष हो जाओगी |

तुम वैकुण्ठ में दिव्यरूपधारिणी वृक्षाधिष्ठात्री देवी बनकर सदा एकांत में श्रीहरि के साथ क्रीडा करोगी | उधर भारतवर्ष में जो नदियों की अधिष्ठात्री देवी होगी, वह परम पुण्य प्रदान करनेवाली होगी और श्रीहरि के अंशभूत लवणसागर की पत्नी बनेगी | तथा श्रीहरि भी तुम्हारे शापवश पत्थर का रूप धारण करके भारत में गण्डकी नदी के जल के निकट निवास करेंगे | वहाँ तीखी दाढ़ोंवाले करोड़ों भयंकर कीड़े उस पत्थर को काटकर उसके मध्य में चक्र का आकर बनायेंगे | उसके भेद से वह अत्यंत पुण्य प्रदान करनेवाली शालग्रामशिला कहलायेगी और चक्र के भेद से उसका लक्ष्मीनारायण आदि भी नाम होगा |

विष्णु की शालग्रामशिला और वृक्षस्वरूपिणी तुलसी का समागम सदा अनुकूल तथा बहुत प्रकार के पुण्यों की वृद्धि करनेवाला होगा | भद्रे ! जो शालग्रामशिला के ऊपरसे तुलसीपत्र को दूर करेगा, उसे जन्मान्तर में स्त्रीवियोग की प्राप्ति होगी तथा जो शंख को दूर करके तुलसीपत्र को हटायेगा, यह भी भार्याहीन होगा और  सात जन्मोंतक रोगी बना रहेगा | जो महाज्ञानी पुरुष शालग्रामशिला, तुलसी और शंख को एकत्र रखकर उनकी रक्षा करता है, वह श्रीहरि का प्यारा होता है |

सनत्कुमारजी कहते है – व्यासजी ! इस प्रकार कहकर शंकरजी ने उस समय शालग्रामशिला और तुलसी के परम पुण्यदायक माहात्म्यका वर्णन किया | तत्पश्चात वे श्रीहरि को तथा तुलसी को आनंदित करके अन्तर्धान हो गये | इस प्रकार सदा सत्पुरुषों का कल्याण करनेवाले शम्भु अपने स्थान को चले गये | इधर शम्भुका कथन सुनकर तुलसी को बड़ी प्रसन्नता हुई | उसने अपने उस शरीरका परित्याग करके दिव्य रूप धारण कर लिया | तब कमलापति विष्णु उसे साथ लेकर वैकुण्ठ को चले गये | उसके छोड़े हुए शरीर से गण्डकी नदी प्रकट हो गयी और भगवान अच्युत भी उसके तटपर मनुष्यों को पुण्यप्रदान करनेवाली शिला के रूप में परिणत हो गये | मुने ! उसमें कीड़े अनेक प्रकार के छिद्र बनाते रहते हैं | उनमें जो शिलाएँ गण्डकी के जल में गिरती है, वे परम पुण्यप्रद होती हैं और जो स्थलपर ही रह जाती है, उन्हें पिंगला कहा जाता है और वे प्राणियों के लिये संतापकारक होती है | व्यासजी ! इस प्रकार तुम्हारे प्रश्न के अनुसार मैंने शम्भु का सारा चरित, जो पुण्यप्रदान तथा मनुष्यों की सारी कामनाओं को पूर्ण करनेवाला है, तुम्हे सुना दिया | यह पुण्य आख्यान, जो विष्णु के माहात्म्य से संयुक्त तथा भोग और मोक्ष का प्रदाता है |

– ॐ नम: शिवाय –