शिवपुराण – माहात्म्य अध्याय

shivpuran9215
श्रीपुराणपुरुषोत्तमाय नम :
ॐ श्री गणेशाय नम:
भवाब्धिमग्नं दिनं मां समुन्भ्दर भवार्णवात | कर्मग्राहगृहीतांग दासोऽहं तव् शंकर ||

श्री शिवपुराण – माहात्म्य

शिवपुराण के श्रवण की विधि तथा श्रोताओं के पालन करने योग्य नियमों का वर्णन

शौनकजी कहते है – महाप्राज्ञ व्यासशिष्य सूतजी ! आपको नमस्कार है | आप धन्य हैं, शिवभक्तो में श्रेष्ठ है | आपके महान गुण वर्णन करने योग्य है | अब आप कल्याणमय शिवपुराण के श्रवण की विधि बतलाइये, जिससे सभी श्रोताओं को सम्पूर्ण उत्तम फल की प्राप्ति हो सके |

सूतजी ने कहा – मुने शौनक ! अब मैं तुम्हें सम्पूर्ण फल की प्राप्ति के लिये शिवपुराण के श्रवण की विधि बता रहा हूँ | पहले किसी ज्योतिषी को बुलाकर दानमान से संतुष्ट करके अपने सहयोगी लोगों के साथ बैठकर बिना किसी विघ्नबाधा के कथा की समाप्ति होने के उद्देश्य से शुद्ध मुहूर्त का अनुसन्धान करावे और प्रयत्नपूर्वक देश-देश में – स्थान –स्थान पर यह संदेश भेजे कि ‘हमारे यहाँ शिवपुराण की कथा होनेवाली है | अपने कल्याण की इच्छा रखनेवाले लोगों को उसे सुनने के लिये अवश्य पधारना चाहिये |’ कुछ लोक भगवान श्रीहरि की कथासे बहुत दूर पड़ गये है | कितने ही स्त्री, शुद्र आदि भगवान् शंकर के कथा-कीर्तन से वंचित रहते है | उन सबको भी सुचना हो जाय, ऐसा प्रबंध करना चाहिये | देश-देश में जो भगवान् शिव के भक्त हों तथा शिवकथा के कीर्तन और श्रवण के लिये उत्सुक हों, उन सबको आदरपूर्वक बुलवाना चाहिये और आये हुए लोगों का सब प्रकार से आदर-सत्कार करना चाहिये | शिवमंदिर में, तीर्थ में, वनप्रांत में अथवा घर में शिवपुराण की कथा सुनने के लिये उत्तम स्थान का निर्माण करना चाहिये | केले के खम्भों से सुशोभित एक ऊँचा कथामंड़प तैयार कराये | उसे सब ओर फल-पुष्प आदिसे तथा सुंदर चन्दोवे से अलंकृत करे और चारों ओर ध्वजा-पताका लगाकर तरह-तरह के सामानों से सजाकर सुंदर शोभासम्पन्न बना दे | भगवान शिव के प्रति सब प्रकार से उत्तम भक्ति करनी चाहिये | वही सब तरह से आनंद का विधान करनेवाली हैं | परमात्मा भगवान शंकर के लिये दिव्य आसन का निर्माण करना चाहिये तथा कथा-वाचक के लिए भी एक ऐसा दिव्य आसन बनना चाहिये | जिसके मुख से निकली हुई वाणी देहधारियों के लिये कामधेनु के समान अभीष्ट फल देनेवाली होती है, उस पुराणवेत्ता विद्वान वक्ता के प्रति तुच्छबुद्धि कभी नहीं करनी चाहिये | संसार में जन्म तथा गुणों के कारण बहुतसे गुरु होते है | परन्तु उन सबमें पुराणों का ज्ञाता विद्वान ही परम गुरु माना गया है | पुराणवेत्ता पवित्र, दक्ष, शांत, ईर्ष्यापर विजय पानेवाला, साधू और दयालु होना चाहिये | ऐसा प्रवचन-कुशल विद्वान इस पुण्यमयी कथाको कहे | सूर्योदय से आरम्भ करके साढ़े तीन प्रहर तक उत्तम बुद्धिवाले विद्वान पुरुष को शिवपुराण की कथा सम्यक रीती से वाचनी चाहिये |

कथा प्रारम्भ के दिन से एक दिन पहले व्रत ग्रहण करने के लिये वक्ता को क्षौर करा लेना चाहिये | जिन दिनों कथा हो रही हो, उन दिनों प्रयत्नपूर्वक अपना नित्यकर्म सक्षेप से ही कर लेना चाहिये | कथा आनेवाले विघ्नों की निवृत्ति के लिये गणेशजी का पूजन करे | कथा के स्वामी भगवान् शिव की भक्तिभाव से पूजा करे | जो वक्ता और श्रोता अनेक प्रकार के कर्मो में भटक रहे हो, काम आदि छ: विकारों से युक्त हो, स्त्री में आसक्ति रखते हो और पाखंडपूर्ण बाते कहते हों, वे पुण्य के भागी नहीं होते | जो लौकिक चिंता तथा धन, गृह एवं पुत्र आदि की चिंता को छोडकर कथा में मन लगाये रहते हैं, उन शुद्धबुद्धि पुरुषो को उत्तम फल की प्राप्ति होती है और पुण्य के भागी होते है |

सूतजी बोले – शौनक ! अब शिवपुराण पढने, सुनने का व्रत लेनेवाले पुरुषों के लिये जो नियम है, उन्हें भक्तिपूर्वक सुनो | नियमपूर्वक इस श्रेष्ठ कथाको सुनने से बिना किसी विघ्न-बाधा के उत्तम फल की प्राप्ति होती है | जो लोग दीक्षा से रहित है, उनका कथा-श्रवण में अधिकार नही है | अत: मुने ! कथा सुनने की इछावाले सब लोगों को पहले वक्ता से दीक्षा ग्रहण करनी चाहिये | कथा शुरू होने से दीक्षित लोकों ने एक भुक्त रहकर फलाहार करना जरुरी है | और शुद्धतापूर्वक भक्तिभाव से उत्तम शिवपुराण को सुने | इस कथाका व्रत लेनेवाले पुरुष को प्रतिदिन एक ही बार हविष्यान्न भोजन करना चाहिये | कथाका व्रत लेनेवाला पुरुष काम, क्रोध आदि छ: विकारों को, ब्राह्मणों की निंदा को तथा पतिव्रता और साधू-संतों की निंदा को भी त्याग दे | दरिद्र, क्षय का रोगी, पापी, भाग्यहीन तथा सन्तानरहित पुरुष भी इस उत्तम कथा को सुने | काक-बन्ध्या आदि जो सात प्रकारकी दुष्टा स्त्रियाँ हैंम वे तथा जिसका गर्भ गिर जाता हो, वह – इन सभी को शिवपुराण की उत्तम कथा सुननी चाहिये | मुने ! स्त्री हो या पुरुष – सबको यत्नपूर्वक विधि-विधान से शिवपुराण की यह उत्तम कथा सुननी चाहिये |

महर्षे ! इस तरह शिवपुराण की कथा के पाठ एवं श्रवण-सम्बन्धी भक्ति एवं पूजा करनी चाहिये | कथा समाप्ति के दिन विशेषरूप से उस गीता का पाठ करना चाहिये, जिसे श्रीरामचंद्रजी के प्रति भगवान् शिव ने कहा था | यदि श्रोता गृहस्थ हो तो उस बुद्धिमान को उस श्रवण-कर्म की शान्ति के लिये शुद्ध हविष्य के द्वारा होम करना चाहिये | मुने ! रूद्रसंहिता के प्रत्येक श्लोकद्वारा होम करना उचित है अथवा गायत्री-मन्त्र से होम करना चाहिये; क्योंकि वास्तव में यह पुराण गायत्रीमय ही है | अथवा शिवपंचाक्षर मूलमंत्र से हवन करना उचित है | होम करने की शक्ति न हो तो विद्वान पुरुष यथाशक्ति हवनीय हविष्य का ब्राह्मण को दान करे | न्युनातिरिकतारूप दोष की शान्ति के लिये भक्तिपूर्वक शिवसहस्रनाम का पाठ अथवा श्रवण करे | इससे सब कुछ सफल होता है, इसमें संशय नहीं है; क्योंकि तीनों लोकों में उससे बढकर कोई वस्तु नहीं है | कथाश्रवणसम्बन्धी व्रत की पूर्णता की सिद्धि के लिए ग्यारह ब्राह्मणों को मधुमिश्रित खीर भोजन कराये और उन्हें दक्षिणा दे | शौनक ! इस पुराण के उस दान के प्रभाव से भगवान शिव का अनुग्रह पाकर पुरुष भवबंधन से मुक्त हो जाता है | इसतरह विधि-विधान का पालन करनेपर श्रीसम्पन्न शिवपुराण सम्पूर्ण फल को देनेवाला तथा भोग और मोक्ष का दाता होता है |

मुने ! शिवपुराण का वह सारा माहात्म्य, जो सम्पूर्ण अभीष्ट को देनेवाला हैं, मैंने तुम्हें कह सुनाया | अब और क्या सुनना चाहते हो ? श्रीमान शिवपुराण समस्त पुराणों के भाल का तिलक माना गया है | यह भगवान् शिव को अत्यंत प्रिय, रमणीय तथा भवरोग का निवारण करनेवाला है | जो सदा भगवान् शिव का ध्यान करते हैं, शिवकी वाणी शिवके गुणों की स्तुति करती है और जिनके दोनों कान उनकी कथा सुनते है, इस जीव-जगत में उन्हीं का जन्म लेना सफल हैं | वे निश्चय ही संसारसागर में पार हो जाते है | भिन्न-भिन्न प्रकार के समस्त गुण जिनके सच्चिदानंदमय स्वरुप का कभी स्पर्श नहीं करते, जो अपनी महिमा से जगत के बाहर और भीतर भासमान हैं तथा जो मनके बाहर और भीतर वाणी एवं मनोवृत्तिरूप में प्रकाशित होते है, उन अनंत आनंदघनरूप परम शिव की मैं शरण लेता हूँ |

इस शिवपुराण की सात संहिता है | वो आप आगे पढेंगे …..| अगले दिन मूल शिवपुराण के अध्याय (संहिता) शुरू होगी, आप इसे लाभ ले | ये सब पापों से मुक्त होकर मोक्ष प्राप्त कर लें | 

– ॐ नम शिवाय –