तिथि अनुसार आहार-विहार

तिथि अनुसार आहार-विहार

ब्रम्हवैवर्त पुराण, ब्रम्ह खंड (२७.२९-३४) में आता है :

pethaप्रतिप्रदा को कुष्मांड (कुम्हड़ा, पेठा) न खायें क्योंकि यह धन का नाश करनेवाला है |

baigan

 

द्वितीया को बृहती (वनभांटा, छोटा बैंगन या कटेहरी) खाना निषिद्ध है |

padval

 

तृतीया को परवल खाना शत्रुवृद्धि करता है |

muli

 

चतुर्थी को मूली खाने से धन-नाश होता है |

bel

 

 

पंचमी को बेल खाने से कलंक लगता है |

 

neem

 

षष्ठी को नीम-भक्षण (पत्ती, फल खाने या दातुन मुँह में डालने) से नीच योनियों की प्राप्ति होती है |

taad

 

सप्तमी को ताड़ का फल खाने से रोग बढ़ते हैं
तथा शरीर का नाश होता है |

 

nariyal

 

अष्टमी को नारियल का फल खाने से बुद्धि का नाश होता है |

 

lauki

नवमी को लौकी खाना गोमांस के सामान त्याज्य है |

 

 

 

shimbiएकादशी को शिम्बी (सेम), द्वादशी को पूतिका (पोई) तथा त्रयोदशी को बैंगन खाने से पुत्र का नाश होता है |

 

अमावस्या, पूर्णिमा, संक्रांति, चतुर्दशी व अष्टमी, रविवार, श्राद्ध और व्रत के दिन स्री – सहवास एवं तिल का तेल खाना व लगाना निषिद्ध है | (ब्रम्हवैवर्त पुराण, ब्रम्ह खंड : २७.३७-३८)
इससे स्वभाव क्रोधी होता है और बीमारी जल्दी आती है |

masuraरविवार के दिन मसूर की दाल, अदरक और लाल रंग की सब्जी नहीं खानी चाहिए | (ब्रम्हवैवर्त पुराण, श्रीकृष्ण खंड : ७५.६१)

ये खाने व लाल बल्ब आदि से घर में झगड़े होते है एवं स्वभाव में क्रोध व काम पैदा होता है |

सूर्यास्त के बाद कोई भी तिलयुक्त पदार्थ नहीं खाना चाहिए (मनुस्मृति :४.७५)

सावन में साग और भादों में दही का सेवन वर्जित है | कहावत भी है : भादों की दही भूतों को, कार्तिक की दही पूतों को |

One thought on “तिथि अनुसार आहार-विहार

  1. Ravi

    Please change the photograph of apples which is shown before the dates of Ekadashi (Sem), dwadashi (putika) and triodashi (Brinjal) if taken leads to loss of son.

Comments are closed.