उत्तरायण पर्व पर रायपुर में

14-15 जनवरी उत्तरायण पर्व पर रायपुर आश्रम में जप ,हवन ,आदित्य ह्रदय पाठ ,सूर्य मंत्र जप ,सूर्य अर्ध्य सामूहिक रूप से किया गया I

जैसे कर्म होते हैं, जैसा चिंतन होता है, चिंतन के संस्कार होते हैं वैसी गति होती है, इसलिए उन्नत कर्म करो, उन्नत संग करो, उन्नत चिंतन करो। उन्नत चिंतन, उत्तरायण हो चाहे दक्षिणायण हो, आपको उन्नत करेगा।

DSCN2262 DSCN2273 DSCN2295 DSCN2303